About us

वीर सावरकर ब्रिज में घोटाले का आरोप लगाते हुए कांग्रेस पार्षदों ने खूब हंगामा किया

0
शनिवार को नगर निगम परिषद की बैठक में हबीबगंज स्थित आरओबी वीर सावरकर ब्रिज में घोटाले का आरोप लगाते हुए कांग्रेस पार्षदों ने खूब हंगामा किया। आईएसबीटी स्थित नगर निगम कार्यालय में शनिवार को नगर निगम परिषद की बैठक जैसे ही शुरू हुई, कांग्रेस पार्षदों ने अलग-अलग मुद्दों पर हंगामा करना शुरू कर दिया।
ब्रिज में भ्रष्टाचार का आरोप…
वार्ड 67 से कांग्रेस पार्षद गिरीश शर्मा ने आरोप लगाया कि भाजपा ने सरकार ने अपने चहेतों को फायदा पहुंचाने 34 करोड़ के प्रोजेक्ट को 84 करोड़ रुपए तक पहुंचा दिया। पार्षद ने कहा कि उन्होंने इस भ्रष्टाचार से जुड़े मामले के दस्तावेज जुटाने दो महीने दिन-रात एक किया, लेकिन बैठक से उनका सवाल ही हटा दिया गया। हालांकि निगम अध्यक्ष सुरजीत सिंह ने तर्क दिया कि नेता प्रतिपक्ष मोहम्मद सगीर ने उनके प्रश्न को हटाने का आवेदन सौंपा था। वहीं एमआईसी सदस्य कृष्णमोहन सोनी ने गिरीश शर्मा पर ताना कसा कि वे मीडिया में सस्ती लोकप्रियता हासिल करने ऐसे प्रश्न बैठक में उछाल रहे हैं।
बाढ़ में मारे गए लोगों के लिए महापौर जिम्मेदार…
बैठक में नेता प्रतिपक्ष सगीर ने पिछले दिनों भोपाल में आई बाढ़ में 7 लोगों के मारे जाने के लिए महापौर आलोक शर्मा और निगम अध्यक्ष सुरजीत सिंह को जिम्मेदार ठहराया है। सगीर ने आरोप लगाया कि अध्यक्ष ने विपक्ष की चर्चा को नजरअंदाज किया, नतीजा नालों की साफ-सफाई नहीं हो पाई।
खानूगांव के लोगों ने किया प्रदर्शन…
सुबह 11.30 बजे जैसे ही बैठक शुरू हुई,खानूगांव रहवासी अपनी समस्याएं सुनाने के लिए महापौर आलोक शर्मा से मिलने जा पहुंचे। हालांकि वहां मौजूद पुलिस ने उन्हें अंदर नहीं जाने दिया। खानूगांव रहवासी माजिद खान के मुताबिक, शुक्रवार को उन्हें मध्यप्रदेश नगर पालिका अधिनियम 1956 की धारा 303 (1) के तहत अवैध अधिवासित भवन के भाग को खाली किए जाने का एक नोटिस मिला है। नगर निगम द्वारा भी 4 जून को इस बाबत नोटिस भेजे जाने की बात कही गई है। माजिद के अनुसार, उन्हें कोई नोटिस नहीं मिला। अब नगर निगम बारिश के मौसम में खानूगांव रहवासियों को अगले चौबीस घंटों में खाली करने का आदेश निकाला है।
Share.

About Author

Leave A Reply