बाबा गुरमीत सिंह राम रहीम पर 48 घंटे बाद 25 अगस्त को फैसला आएगा

0
यौन शोषण मामले में डेरामुखी सिरसा बाबा गुरमीत सिंह राम रहीम पर 48 घंटे बाद 25 अगस्त को फैसला आएगा। लेकिन पुलिस हर हालात से निपटने को तैयार है। प्रदेश में 16 हजार पुलिस मुलाजिम तैनात किए गए हैं। 47 स्थानों को हाइपर सेंसिटिव घोषित किया है। पंजाब से सटी हरियाणा और हिमाचल सीमा को सील किया गया है।
75 पैरा मिलिट्री फोर्स की कंपनियां तैनात
राज्य में 75 पैरा मिलिट्री फोर्स की कंपनियां तैनात की गई हैं। मालवा बेल्ट के 13 जिले सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। जबकि मोगा में सात पैरा मिलिट्री फोर्स की कंपनियां तैनात की गई हैं। इसके अलावा 11000 मुलाजिम व 50 कंपनियां पीएपी की लगाई गई हैं।
13 ड्रोन से नजर रखी जा रही है। मंगलवार को डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने कई इलाकों का दौरा किया। अस्पतालों को भी अलर्ट किया है। फरीदकोट समेत कई इलाकों में लाइसेंसी हथियारों को भी जमा किया जा रहा है। डीजीपी ने कहा माहौल बिगड़ने नहीं देंगे, गोलियां तक चला सकते हैं। वहीं, डेरा प्रेमी मीटिंग कर बाबा को नुकसान पहुंचने देने की शपथ ले रहे हैं।
साध्वी यौन शोषण केस
 करीब पंद्रह साल पहले डेरा के आश्रम की एक साध्वी ने प्रधानमंत्री कार्यालय को चिट्ठी लिख कर डेरा बाबा की शिकायत की थी। साध्वी ने अपने हलफनामे में खुद और आश्रम की दूसरी साध्वियों के साथ यौन शोषण का आरोप लगाया था और फिर इस मामले में पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की गई थी। अदालत के आदेश पर वर्ष 2001 में पूरे मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई। सीबीआई ने सारी रिपोर्ट सीबीआई की विशेष अदालत पंचकूला को सौंप दी थी। उसके बाद अदालत में दोनों पक्षों की ओर से गवाहियां हुई बहस हुई और आखिरकार अदालत ने फैसला कर उसे सुरक्षित रख लिया और उस फैसले को 25 अगस्त को सुनाएगी।
 रविवार देर रात एक और टुकड़ी पहुंची
मालवा में अब तक पैरामिलिट्री की 40 कंपनियां आ चुकी है। पंजाब में डेरे का ज्यादा प्रभाव पटियाला. बरनाला, मानसा, बठिंडा, फिरोजपुर और मोगा में है। इन जिलों में पैनी नजर है। ज्यादातर फोर्स यहीं तैनात हो रही है। सोमवार से अर्धसैनिक बलों ने भी मोर्चा संभाल लिया है। रविवार देर रात जेएंडके से अर्धसैनिक बल की टुकड़ियां भी पहुंच गईं है।
 खुफिया तंत्र को भी किया गया अलर्ट
दूसरी तरफ डेरा प्रेमियों की कारगुजारी पर नजर रखने के लिए खुफिया तंत्र को भी अलर्ट कर दिया गया है। डेरे की मीटिंगों से लेकर हर गतिविधियों की जानकारी प्रशासन के साथ सरकार को भेजी जा रही है। पुलिस ने भी किसी को भी असलहा के साथ एक जगह से दूसरी जगह जाने पर पाबंदी लगा दी है। अवहेलना करने पर सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा सत्संग के दौरान कौन क्या कह रहा है, इसकी पूरी रिपोर्ट ली जा रही है। खुफिया एजेंसियां अपने-अपने स्तर पर जानकारियां जुटाकर प्रदेश सरकार व प्रशासन तक पहुंचा रही है।
 डेरा प्रभाव वाले क्षेत्रों में कभी भी बंद हो सकता है इंटरनेट
डेरा प्रेमियों के पंचकूला पहुंचने की सूचना पर सार्वजनिक स्थलों पर पुलिस ने चैकिंग अभियान शुरू कर दिया है। वहीं पुलिस मुलाजिमों को किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए ट्रेनिंग सोमवार को भी जारी रही। पुलिस ने अपने दंगा रोधक वाहनों को भी तैनात कर दिया है। सुरक्षा के लिहाज से डेरे के प्रभाव वाले विभिन्न जिलों में कभी भी इंटरनेट सेवा बंद की जा सकती है, ताकि संदेश का आदान-प्रदान न हो सके। खुला पेट्रोल बेचने पर रोक लगाई जा चुकी है। कानून व्यवस्था बिगड़ने के अंदेशे को लेकर पुलिस ने पंजाब-राजस्थान बॉर्डर को 30 अगस्त तक के लिए सील कर दिया है। बाॅर्डर के साथ-साथ जिले में कई प्रमुख स्थानों पर पुलिस नाके स्थापित किए गए हैं। जहां पर छह से आठ पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। जो वाहनों की चेकिंग भी कर रहे हैं।
 छतरी व डंडे रेलवे स्टेशन पर ही जमा कर रही है आरपीएफ
जीआरपी की ओर से चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर उतरने वाले सभी यात्रियों पर नजर रखी जा रही है। ट्रेन से उतरने पर यदि किसी यात्री के हाथ में छतरी व डंडे दिखाई दिए तो जीआरपी की ओर से उन्हें निकासी द्वार पर ही जमा करवा लिए जा रहा है। 25 अगस्त को अगर बाबा को सजा सुनाई जाने और उग्र प्रदर्शन होने के डर के चलते किसी यात्री को कोई भी चीज साथ में बैग को छोड़कर ले जाने नहीं दिया जा रहा है। रेलवे स्टेशन पर सख्ती से निपटते हुए जीआरपी की ओर से रेलवे स्टेशन की तरफ जाने वाले रोड पर पार्किंग से पहले ही पुलिस की ओर से बैरिकेड्स लगा दिए गए हैं। इस कारण यात्रियों को गाड़ी पार्किंग करते समय काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा हैं। जीआरपी की ओर से रेलवे स्टेशन के समाने बनी रोड से पहले दोनों तरफ बंद कर दिया गया है।
21 अफसर होंगे सड़कों पर, आदेश- मोबाइल बंद न हों
पंचकूला में सीबीआई कोर्ट में 25 अगस्त को बाबा राम रहीम की पेशी होनी है। प्रशासन ने कानून व्यवस्था को दुरुस्त रखने के लिए 21 अफसरों की ड्यूटी लगाई है। इनमें प्रशासन के सभी पीसीएस और एचसीएस अफसर शामिल हैं। डीसी अजीत बालाजी जोशी ने 25 अगस्त को ड्यूटी पर तैनात किसी भी अफसर को छुट्टी न लेने, अपना फोन स्विच ऑफ न रखने और बैटरी बैकअप साथ लाने को कहा है। एडीसी राजीव गुप्ता की अगुवाई में यह अफसर शहर के विभिन्न इलाकों में तैनात रहेंगे।
Share.

About Author

Leave A Reply