About us

भगवान जगन्नाथ स्वामी की रथयात्रा ऐतिहासिक, बड़े ही धूमधाम व हर्षोल्लास के साथ निकली

0

भगवान की रथयात्रा ऐतिहासिक परम्परानुसार बड़े ही धूमधाम व हर्षोल्लास के साथ बुधवार शाम 6 बजे रिमझिम बारिश के साथ बड़ा दिवाला मंदिर से निकली। डेढ़ सौ वर्षों से भी अधिक पुराने बुन्देलखण्ड अंचल के इस सबसे बड़े धार्मिक आयोजन में हजारों धर्मप्रेमी बाराती बनकर शामिल हुए। दूल्हा बने भगवान जगन्नाथ स्वामी के दर्शन पाकर और इतनी बड़ी संख्या में धर्मप्रेमियों के जुटने से मंदिरों की पवित्र नगरी पन्ना का कण-कण पुलकित हो उठा।

धार्मिक रीति-रिवाजों के अनुसार बुधवार की शाम शहर के जगदीश स्वामी मंदिर से जब भगवान बलभद्र, शक्तिस्वरूपा देवी सुभद्रा और दूल्हा बने भगवान जगन्नाथ स्वामी की प्रतिमाएं निकालकर उन्हें शाही रथों में आसीन किया गया तो उपस्थित बारिश मे भीगते हुए धर्मप्रेमी भाव- विभोर हो उठे और पूरा शहर भगवान जगन्नाथ स्वामी के जयघोषों से गुंजायमान हो उठा भगवान की मनमोहक छवि की एक झलक पाने भक्तों में होड़ मच गई। मंदिरों की नगरी पन्ना में डेढ़ सौ वर्ष से अधिक समय से आयोजित हो रहे ऐतिहासिक रथयात्रा महोत्सव की बात ही कुछ निराली है। तभी तो वर्षों से रथयात्रा महोत्सव में शामिल होकर धर्मलाभ उठाने यहां प्रतिवर्ष बुन्देलखण्ड अंचल के दूसरे जिलों से बड़ी संख्या में श्रद्घालु आते हैं। परम्परानुसार भगवान के बड़े भाई बलभद्र, बहन देवी सुभद्रा व भगवान जगन्नाथ स्वामी की प्रतिमाओं को पन्ना राज परिवार के सदस्य द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के बीच विधि-विधान के साथ रथारूढ़ कराया गया।

गगनभेदी जयकारों के साथ शुरू हुई जगत के नाथ की रथयात्रा

भगवान के रथों में सवार होने के साथ जैसे ही रथयात्रा शुरू हुई। उपस्थित हजारों श्रद्घालुओं ने गगनभेदी जयकारों के साथ जगत के नाथ के दर्शन किए साथ ही रथयात्रा में शामिल भक्तों के बीच रथों को खींचने की होड़ मच गई। भगवान जगन्नाथ स्वामी जी का कीर्तन करते हुए भक्तों ने रथों को खींचकर धर्मलाभ उठाया। ऐसी मान्यता है कि जो भी व्यक्ति पूरे श्रद्घाभाव के साथ कीर्तन करते हुए भगवान के रथों को खींचता है वह पुनर्जन्म से मुक्त हो जाता है। धर्माचार्यों का मानना है कि यह एक ऐसा अद्वितीय पर्व है जब भगवान जगन्नाथ चलकर जनता के बीच आते हैं, भगवान दसों अवतार का रूप धारण करते हैं और सभी भक्तों को दर्शन देकर समान रूप से तृप्त करते हैं।

जगन्नाथपुरी की तर्ज पर होती है पन्ना की रथयात्रा

पन्ना नगर में ऐतिहासिक रथयात्रा महोत्सव की रौनक जगन्नाथपुरी की तर्ज पर होती है। भगवान के रथों के आगे तुरही एवं शंख तथा घड़ी, घड़ियाल के सुमधुर स्वरों ने पूरे नगर को भक्ति के सागर में सराबोर कर दिया। इस अवसर पर राजपरिवार के वरिष्ठ सदस्य राघवेन्द्र सिंह, प्रदेश शासन की मंत्री सुश्री कुसुम सिंह मेदहेले, नगर पालिका अध्यक्ष मोहन लाल कुशवाहा, पूर्व विधायक श्रीकांत दुबे, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष बृजेन्द्र सिंह बुन्देला, कलेक्टर शिव नारायण सिंह चौहान, पुलिस अधीक्षक ओ.पी. त्रिपाठी सहित जनप्रतिनिधि एवं जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के आलाधिकारी विशेष रूप से उपस्थित रहे।

जगह-जगह उतारी आरती

जगदीश स्वामी जी मंदिर से प्रथम पड़ाव लखूरन बाग के लिए ऐतिहासिक रथयात्रा के मार्ग में पड़ने वाले मंदिरों में तथा जगह-जगह धर्मप्रेमी जनता द्वारा पूरे श्रद्घाभाव के साथ भगवान की आरती उतारी और अपनी मनोकामना पूर्ण करने के लिए जगत के नाथ से प्रार्थना की।

पुष्प वर्षा एवं आतिशबाजी कर किया स्वागत

रथयात्रा में सबसे आगे भगवान के बड़े भाई बलभद्र उसके पीछे देवी सुभद्रा जी और अंत में भगवान जगन्नाथ स्वामी के रथ चल रहे थे जिन पर धर्मप्रेमियों ने अपने-अपने घरों की छतों से पुष्पवर्षा कर रथयात्रा का अनूठे अंदाज में स्वागत किया। वहीं रास्ते में कई जगह उत्साही युवाओं ने आतिशबाजी भी की। रथयात्रा का रास्ते में जगह-जगह लोगों द्वारा स्वागत किया गया। रथयात्रा बल्देव चौक से गोविन्द चौक, बड़ा बाजार चौराहा से अजयगढ़ चौराहा होते हुए लखूरन बाग पहुंची। जहां पहले से ही भगवान के स्वागत के लिए धर्मप्रेमी मौजूद रहे। रथयात्रा के लखूरन बाग पहुंचते ही भगवान के दर्शनों के लिए जनसमूह उमड़ पड़ा।

सुरक्षा के रहे पुख्ता इंतजाम

जिला प्रशासन ने रथयात्रा के भव्य आयोजन को लेकर जहां सड़क, बिजली, पानी आदि की बेहतर व्यवस्था की वहीं पुलिस प्रशासन द्वारा आयोजन में बड़ी संख्या में भक्तों की भागीदारी को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए। रथयात्रा में बड़ी संख्या में महिलाओं के शामिल होने पर पुलिस द्वारा महिला पुलिसकर्मियों की भी पर्याप्त संख्या में तैनाती की गई। रथयात्रा में बड़ी संख्या में पुलिस बल शामिल रहा और इसके अतिरिक्त रथयात्रा के मार्ग में पड़ने वाले प्रमुख चौराहों पर भी पुलिस और नगरसेना के जवान मुस्तैदी से तैनात रहे।

 

Share.

About Author

Leave A Reply