About us

इसरो केंद्र से संपर्क टूट जाने के बाद भी दुनियाभर में भारतीय स्पेस एजेंसी के वैज्ञानिकों की जमकर तारीफ हो रही है

0

चंद्रयान-2 मिशन के इसरो केंद्र से संपर्क टूट जाने के बाद भी दुनियाभर में भारतीय स्पेस एजेंसी के वैज्ञानिकों की जमकर तारीफ हो रही है। अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स से लेकर वॉशिंगटन पोस्ट और ब्रिटिश अखबार बीबीसी से लेकर द गार्जियन तक सभी ने चंद्रयान-2 प्रमुखता से स्थान दिया और इसे अब तक का सबसे महत्वाकांक्षी मिशन बताया।

  • न्यूयॉर्क टाइम्स ने शनिवार को भारतीय मिशन की तारीफ करते हुए कहा, “भारत पहली बार में चांद पर लैंडिंग में सफल नहीं हो सका। लेकिन उसके इंजीनियरिंग कौशल और दशकों से जारी अंतरिक्ष विकास कार्यक्रम ने उसकी वैश्विक महत्वाकांक्षा को पेश किया है। चंद्रयान-2 की आंशिक असफलता से उसकी चांद पर लैंड करने वाले देशों की लिस्ट में शामिल होने की कोशिशों में कुछ देरी हो सकती है।
  • वॉशिंगटन पोस्ट ने लिखा, “भारत के लिए यह मिशन राष्ट्रीय गौरव का विषय रहा।” ब्रिटिश अखबार द गार्जियन ने फ्रांस की स्पेस एजेंसी सीएनईएस के हवाले से लिखा, “भारत वहां जा रहा है जहां आज से 20, 50, या 100 साल बाद मानवाजाति बसेगी।
  • फ्रेंच अखबार ली मोन्ड ने लिखा, “वैज्ञानिकों के मुताबिक, चांद पर भेजे गए सिर्फ 45% मिशन ही सफल हुए हैं। बिना किसी मानवीय दखल के सॉफ्ट लैंडिंग बहुत मुश्किल होती है।” अखबार ने भारतीय मीडिया की तारीफ करते हुए कहा कि वेबसाइट्स जानकारी पेश करने में काफी तेज थीं और इसरो द्वारा बताए गए सभी नजरियों को ठीक ढंग से बता रही थीं।

चंद्रयान-2 से तीन गुना था अवेंजर्स फिल्म का बजट: बीबीसी
ब्रिटिश अखबार बीबीस ने कहा, “हॉलीवुड फिल्म अवेंजर्स एंडगेम का बजट करीब 2550 करोड़ रुपए (35.6 करोड़ डॉलर) था, जो कि चंद्रयान-2 मिशन से लगभग तीन गुना था। लेकिन यह पहली बार नहीं था जब इसरो की उसकी किफायत के लिए तारीफ की गई। उसके 2014 के मंगल मिशन की लागत अमेरिका के मार्स ऑर्बिटर मेवन के कुल खर्च का 10वां हिस्सा थी।

इसरो की कोशिश से आने वाले अभियानों में मदद मिलेगी: नासा एस्ट्रोनॉट
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के पूर्व अंतरिक्ष यात्री जैरी लिनेंजर ने चांद की सतह पर चंद्रयान-2 के विक्रम मॉड्यूल की सॉफ्ट लैंडिंग कराने को भारत का ‘साहसिक प्रयास’ बताया है, साथ ही कहा है कि इससे मिले सबक भविष्य के अभियानों के दौरान देश के लिए बेहद मददगार साबित होंगे। ये बात उन्होंने शनिवार को भारत के चंद्रयान-2 अभियान पर प्रतिक्रिया देते हुए कही।

पीटीआई को दिए इंटरव्यू में लिनेंजर ने कहा, “हमें बहुत ज्यादा निराश नहीं होना चाहिए। भारत कुछ बहुत… बहुत ही कठिन करने की कोशिश कर रहा था। वास्तव में लैंडर के नीचे आने तक सब कुछ योजना के मुताबिक चल रहा था।” लिनेंगर के मुताबिक दुर्भाग्य से लैंडर होवर प्वाइंट तक भी नहीं पहुंच सका, जो कि चांद की सतह से करीब 400 मीटर की ऊंचाई पर है। उन्होंने कहा, अगर वो उस प्वाइंट पर भी पहुंच जाता और उसके बाद अगर सफल नहीं भी होता तो भी ये काफी मददगार होता। क्योंकि तब रडार के एल्टिमीटर (ऊंचाई मापने का एक यंत्र) और लेजरों का परीक्षण किया जा सकता था।

Share.

About Author

Leave A Reply