About us

कांग्रेस की 1 लाख 10 हजार मतदाता फर्जी होने की शिकायत की जांच करवाई गई, जिसमें 2 हजार मतदाता फर्जी निकले

0

चुनाव आयोग द्वारा चार विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस की 1 लाख 10 हजार मतदाता फर्जी होने की शिकायत की डोर-टू-डोर करवाई गई जांच में 2 हजार मतदाता फर्जी निकले हैं। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मध्यप्रदेश ने सोमवार को अपनी रिपोर्ट केंद्रीय निर्वाचन आयोग को भेज दी है। कांग्रेस ने चुनाव आयोग को प्रदेश में 60 लाख फर्जी मतदाता होने की शिकायत की थी, जिसे गंभीरता से लेते हुए आयोग ने चार विधानसभा क्षेत्र नरेला, भोजपुर, होशंगाबाद और सिवनी मालवा में जांच टीम भेजी थी। इस टीम की रिपोर्ट पर कांग्रेस ने आपत्ति जताते हुए चुनाव आयोग से उनकी शिकायत की डोर-टू-डोर जांच कराने के लिए 13 जून को कहा था। इस पर आयोग ने सीईओ मध्यप्रदेश से 18 जून को रिपोर्ट मांगी थी। सीईओ के निर्देश पर चारों विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस की 1 लाख 10 हजार मतदाता फर्जी होने की शिकायत की जांच करवाई गई, जिसमें 2 हजार मतदाता फर्जी निकले। इन नामों को मतदाता सूची से काटे जाने के निर्देश दे दिए गए हैं।

मध्यप्रदेश की मतदाता सूची में 2 लाख 37 हजार फोटो में गड़बड़ी

नरेला में सिर्फ शिकायत के सिर्फ 20 फीसदी वोटों की जांच… कांग्रेस ने नरेला में 11098 मतदाताओं के फर्जी होने की शिकायत की थी। इसमें से आयोग ने 1831 वोटर्स की डोर टू डोर जांच कराई, जिनमें 1358 सही पाए गए। बाकी 471 नाम पहले ही हटाए जा चुके हैं। इस तरह सिर्फ 2 ही वोटर्स फर्जी निकले।

2 लाख 17 हजार मतदाताओं के फोटो सही किए

प्रदेश में चुनाव आयोग द्वारा फोटोयुक्त मतदाता सूची की गई जांच में 2 लाख 37 हजार मतदाताओं के फोटो में गड़बड़ी निकली है, जिनमें से 2 लाख 17 हजार मतदाताओं के फोटो सही किए जा चुके हैं। बाकी के 20 हजार मतदाताओें के फोटो ठीक किए जाने की कार्रवाई की जा रही है।

मतदाता सूची में फोटो की गड़बड़ी के मामले वर्ष 2012 के पहले के
– मतदाता सूची में फोटो की गड़बड़ी के 2 लाख 37 हजार मामले 2012 के पहले के हैं जो निरंतर मतदाता सूची में चले आ रहे थे। चुनाव आयोग द्वारा मतदाता सूची की जांच के लिए विकसित नई तकनीक में ये गड़बड़ियां सामने आई।

– इसमें खास यह है कि करीब एक दशक पहले फोटोयुक्त मतदाता सूची तैयार करने में फोटो उपलब्ध न होने की स्थिति में बीएलओ ने एक ही फोटो को कई नामों के सामने चस्पा कर दिया था। इसी तरह का मामला भोजपुर विधानसभा में सामने आया था, जहां एक महिला का फोटो 36 मतदाताओं के नाम के आगे लगा हुआ था।

– इसी तरह का मामला सिलवानी विधानसभा में सामने आया था जहां एक फोटो 12 से ज्यादा नामों के सामने लगा था। इसी वोटर लिस्ट से 2013 के विधानसभा और 2014 के लोकसभा चुनाव में उपयोग किया गया।

13 हजार वोटर ऐसे जिनके नाम गोविंदपुरा, नरेला और बैरसिया में भी दर्ज

– भोपाल की मतदाता सूची में ऐसे वोटर्स सामने आए हैं, जिनके नाम गोविंदपुरा, नरेला और बैरसिया की मतदाता सूची में दर्ज हैं। इन वोटर्स की संख्या 13 हजार बताई जा रही है।

– अब इनकी जांच के लिए कलेक्टर सुदाम पी खाडे ने बीएलओ की टीम को लिस्ट की दोबारा जांच के निर्देश दिए हैं। साथ ही तीनों सर्कल के एसडीएम से इस मामले में रिपोर्ट रोजाना की डेली रिपोर्ट अपडेट करने की बात कही है। – सोमवार को उप जिला निर्वाचन अधिकारी जीपी माली बैरसिया तहसील में एसडीएम राजीव नंदन श्रीवास्तव के साथ बीएलओ की बैठक ली। बैठक में बीएलओ को सर्वे रिपोर्ट के लिए डोर-टू-डोर के आधार पर तैयार करने की बात कही गई है।

– उन्होंने कहा कि वोटर लिस्ट में ऐसा कोई न नाम छूट जो यहां से शिफ्ट हो गया है। उसकी एंट्री लिस्ट में है। इसी तरह मृत वोटरों की जांच बारीकी से करने की बात कही है। नरेला विधानसभा में एक जैसे नाम और पते और पिता के नाम वाले वोटरों की जांच रिपोर्ट मंगलवार को तलब की है।

Share.

About Author

Leave A Reply