About us

कांग्रेस के दो विधायकों के बीच हुई मारपीट के मामले में सोमवार को पार्टी ने कार्रवाई की

0

कर्नाटक में कांग्रेस के दो विधायकों के बीच हुई मारपीट के मामले में सोमवार को पार्टी ने कार्रवाई की। विधायक जेएन गणेश को पार्टी से निलंबित कर दिया गया। उन पर साथी विधायक आनंद सिंह से मारपीट का आरोप है। उधर, आनंद ने गणेश के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी है। कांग्रेस का कहना है कि ये विधायक भाजपा की ओर से की जा रही सरकार गिराने की कोशिशों के खिलाफ रिजॉर्ट में इकट्ठा हुए थे। दोनों विधायकों में झड़प उसी वक्त हुई।

  1. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने बताया कि कांग्रेस के सभी विधायक रिजॉर्ट से अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा- हम आश्वस्त हैं कि हमारी सरकार सुरक्षित और मजबूत है।
  2. दरअसल, कांग्रेस और जेडीएस लगातार भाजपा पर उनके विधायक खरीदने की कोशिश करने का आरोप लगा रही हैं। भाजपा द्वारा कांग्रेस-जेडीएस सरकार को अस्थिर करने की कोशिशों की खबरों के बीच कांग्रेस ने शुक्रवार को विधायक दल की अहम बैठक बुलाई थी।
  3. बैठक में कांग्रेस के चार विधायक शामिल नहीं हुए थे। इसके बाद कांग्रेस ने अपने सभी विधायकों को एक रिजॉर्ट में भेज दिया था। कांग्रेस का कहना था कि पार्टी ने भाजपा से अपने विधायकों को बचाने के लिए रिजॉर्ट में भेजा है। पिछले दिनों दो निर्दलीय विधायकों ने भी कांग्रेस-जेडीएस सरकार से समर्थन वापस ले लिया था।
  4. रिजॉर्ट में आपस में भिड़े 2 कांग्रेसी विधायक

    रिजॉर्ट में ठहरे कांग्रेसी विधायकों में मारपीट का मामला सामने आया था। होस्पेट से विधायक आनंद सिंह को शनिवार रात को अस्पताल में भर्ती कराया गया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आनंद सिंह पर जेएन गणेश ने बोतल से हमला किया था। हालांकि, कांग्रेस ने इन खबरों को गलत बताया। उधर, भाजपा ने ट्वीट किया कि कांग्रेस के भीतर सब ठीक नहीं चल रहा।

  5. भाजपा ने कभी सरकार गिराने की कोशिश नहीं की- येदियुरप्पा

    भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने शनिवार को कहा था- भाजपा ने कभी भी गठबंधन सरकार को गिराने की कोशिश नहीं की। कांग्रेस नेता अपने विधायकों की नाराजगी दूर करने में नाकाम रहने पर हम पर आरोप लगा रहे हैं। हम किसी भी वजह से इस सरकार को अस्थिर करने की कोशिश नहीं करेंगे। वे डरें नहीं। हमलोग विपक्ष के तौर पर काम करेंगे। कांग्रेस-जेडीएस के नेताओं को इस बारे में कोई संदेह नहीं होना चाहिए।

Share.

About Author

Leave A Reply