About us

कुमार विश्वास ने गुरुवार को यहां खुद को देश की राजनीति में सबसे कम उम्र का आडवाणी बताया

0

आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने गुरुवार को यहां खुद को देश की राजनीति में सबसे कम उम्र का आडवाणी बताया। माना जा रहा है कि उनका इशारा उन्हें पार्टी में नजरअंदाज किए जाने की ओर था। यहां एक कवि सम्मेलन में आए विश्वास ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और अपनी पार्टी के नेताओं पर भी खुलकर हमला बोला।

क्या कहा कुमार विश्वास ने?
– उन्होंने कहा, “आपको मेरा सम्मान इसलिए करना चाहिए कि मैं इस देश की राजनीति का सबसे कम उम्र का आडवाणी हूं। ये कोई और कहे इससे पहले मैं कह दूं।”

आडवाणी से क्यों की तुलना?
– आपको बता दें कि केन्द्र में मोदी सरकार बनने के बाद बीजेपी के सीनियर लीडर लालकृष्ण आडवाणी को सरकार और संगठन में कोई

बड़ा पद नहीं दिया गया है। वहीं, कई राज्यों के चुनाव में आडवाणी पार्टी के स्टार प्रचार की लिस्ट में शामिल नहीं थे।

नरेंद्र मोदी पर कसा तंज
– कवि सम्मलेन में कुमार विश्वास ने पीएम से लेकर कांग्रेस अध्यक्ष तक पर निशाना साधा। उन्होंने अपनी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह पर भी तंज कसा।

– कुमार ने कहा, “पीएम बेचारे साल-डेढ़ साल में हमारे 15 लाख लौटने के लिए पैसा जमा करते हैं, कोई न कोई लेकर भाग जाता है। पिछली बार 15 लाख जोड़ा तो माल्या लेकर भाग गया, इस बार नीरव मोदी लेकर विदेश चला गया। हम लोग इंतजार कर रहे हैं कि 15 लाख रुपए वापस आएं।”

राहुल गांधी पर भी किया हमला
– कुमार विश्वास ने कांग्रेस अध्यक्ष और अमेठी सांसद राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा, “अमेठी ने अपनी विरासत और अपनी आन-बान-शान उसी तरह से बना रखी है। चार साल पहले सड़क पर जहां गड्ढा था अभी भी वहीं है। सड़क टूटी हुई है। पिछले 40 साल से जो इस महान राजनीतिक विरासत को सुरक्षित रखे हैं इसके लिये मैं अमेठी के धैर्यवान लोगों को बहुत-बहुत प्रणाम करता हूं।”

मैं सांसद बनवाने के काम आता हूं
– विश्वास ने कहा, “पिछली बार जब मैं चुनाव लड़ने आया था तो पूज्य पिताजी को राज्यसभा की सदस्यता मिल गई।” उनका इशारा कांग्रेस के राज्यसभा सांसद डॉ. संजय सिंह की ओर था।

– विश्वास ने आगे कहा, “मेरे नाम के कारण दूसरे संजय (आप नेता संजय सिंह) को भी राज्यसभा की सदस्यता मिल गई। उन्होंने कहा मैं इसी काम में आता हूं कि जितने संजय नाम के हैं उन्हें राज्यसभा भिजवा सकूं।”

2014 में अमेठी से लोकसभा चुनाव लड़े थे विश्वास
– आपको बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में कुमार विश्वास आप के कैंडिडेट थे। वे 25 हजार 527 वोट के साथ चौथे नंबर पर रहे थे।
– राहुल गांधी को इस चुनाव में 4 लाख 8 हजार 651 वोट मिले थे। दूसरे नंबर पर रहीं स्मृति ईरानी को 3 लाख 748 वोट मिले थे। तीसरे नंबर पर बीएसपी के धर्मेंद्र प्रताप सिंह थे। उन्हें 57 हजार 716 वोट मिले थे।

राज्यसभा नहीं भेजे जाने पर क्या कहा था कुमार विश्वास ने
– आप ने संजय सिंह, सुशील गुप्ता और एनडी गुप्ता को राज्यसभा भेजा है। कुमार विश्वास के नाम पर चर्चा भी नहीं की गई थी। विश्वास ने इस फैसले के बाद कहा था, “अरविंद ने मुझे मुस्कुराते हुए कहा था कि सरजी आपको मारेंगे पर शहीद नहीं होने देंगे। मैं उनको बधाई देता हूं। मैं अपनी शहादत स्वीकार करता हूं। पर एक निवेदन है कि शव से छेड़छाड़ ना करें।”

क्यों नाराज हुए थे विश्वास?
– दिल्ली के आप विधायक अमानतुल्लाह खान ने कुमार विश्वास पर पार्टी को तोड़ने के आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि विश्वास आरएसएस के एजेंट हैं और पार्टी पर कब्जा करने की कोशिश कर रहे हैं। कुमार इससे नाराज हो गए थे। उन्हें मनाने के लिए केजरीवाल और मनीष सिसोदिया उनके घर गए थे।

– अमानतुल्ला को केजरीवाल का करीबी माना जाता है। हालांकि, कुमार समर्थकों के दबाव के चलते उन्हें आप से सस्पेंड कर दिया गया था। इसके बाद से कुमार पार्टी लीडरशिप के फैसलों पर वक्त-वक्त पर हमला बोलते रहे हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply