About us

चीन अपने पड़ोसियों से जितने भी विवाद हैं, उन्हें बातचीत के जरिए सुलझाने को तैयार

0
शी जिनपिंग ने कहा है कि चीन अपने पड़ोसियों से जितने भी विवाद हैं, उन्हें बातचीत के जरिए सुलझाने को तैयार है। प्रेसिडेंट जिनपिंग ने कम्युनिस्ट पार्टी की 19वीं कांग्रेस में करीब साढ़े तीन घंटे की स्पीच दी। इसमें उन्होंने चीन से जुड़े तमाम मसलों का जिक्र किया। पांच साल में होने वाली इसी कांग्रेस के जरिए ही चीन का प्रेसिडेंट चुना जाता है। जिनपिंग का अगले पांच साल के लिए फिर प्रेसिडेंट चुना जाना तय माना जा रहा है। इसका एलान अगले हफ्ते होगा। बहरहाल, जिनपिंग का पड़ोसी देशों को लेकर पार्टी कांग्रेस में दिया गया बयान इसलिए भी अहम है क्योंकि भारत और चीन के बीच हाल में डोकलाम मुद्दे पर टकराव 72 दिन चला था।
 1) पड़ोसियों से रिश्ते
– जिनपिंग ने कहा, “चीन अपने सभी पड़ोसियों को ये भरोसा दिलाता है कि जो भी आपसी विवाद हैं, उन्हें हम बातचीत से हल करने के लिए तैयार हैं।” हालांकि, इसके साथ ही जिनपिंग ने ये भी साफ कर दिया कि चीन के जो भी हित हैं, उन्हें कायम रखा जाएगा।
– जिनपिंग का बयान इसलिए अहम हो जाता है क्योंकि भारत और चीन के बीच हाल ही में डोकलाम विवाद हुआ था। भूटान के ट्राइजंक्शन एरिया में दोनों देशों की सेनाएं 72 दिन तक आमने-सामने रहीं थीं। बाद में इस विवाद को डिप्लोमैटिक चैनल्स के जरिए सुलझाया गया था।
 2) पीएलए का मॉर्डनाइजेशन 2035 तक
– पीपुल्स लिबरेशन आर्मी यानी चीन की सेना पर जिनपिंग ने कहा- हमारी आर्म्ड फोर्सेस का मॉर्डनाइजेशन प्रोग्राम 2035 तक पूरा किया जाएगा। इसके बाद हमारी सेना वर्ल्ड क्लास हो जाएगी।
– बता दें कि शी जिनपिंग 2012 में चीन के प्रेसिडेंट बने थे। सत्ता संभालते ही जिनपिंग ने पीएलए का मॉर्डनाइजेशन शुरू किया था। जिनपिंग ने इसके लिए 141 बिलियन डॉलर का बजट तय किया था। बता दें कि चीन का डिफेंस बजट दुनिया में दूसरे नंबर पर है। इसके आगे सिर्फ अमेरिका है।
 3) हमारी डेमोक्रेसी सबसे असरदार
– चीन के प्रेसिडेंट ने अपनी स्पीच में चीन को सोशलिस्ट डेमोक्रेसी वाला देश बताया। कहा- चीन के पास दुनिया की सबसे असरदार सोशलिस्ट डेमोक्रेसी है। इसके जरिए ही हम देश के लोगों के फंडामेंटल इंटररेस्ट्स का ध्यान रख पाते हैं।
– जिनपिंग ने कहा- पीपुल्स डेमोक्रेसी का सार यह है कि यहां के लोग अपने मामलों के बारे में खुद विचार कर सकते हैं। उनके पास ऐसा करना का अधिकार और ताकत मौजूद है।
 4) करप्शन के खिलाफ
– चीन में करप्शन के कई हाई प्रोफाइल मामले सामने आ चुके हैं। अपने भाषण में जिनपिंग ने माना कि करप्शन से देश की इमेज पर असर पड़ता है और इसको जड़ से खत्म करने की जरूरत है।
– जिनपिंग ने कहा- हम करप्शन के खिलाफ नो-टॉलरेंस का रवैया अपनाएंगे। इसके लिए सीपीसी एक नया एंटी करप्शन कानून लाएगी।
 5) चीन के लोगों को बेहतर जिंदगी देंगे
– चीन के बारे में कई बार सवाल यह उठता है कि वहां विकास की रफ्तार तो तेज हुई लेकिन लाखों लोग आज भी काफी गरीब हैं। जिनपिंग ने अपनी स्पीच में इसका जिक्र किया। उन्होंने कहा कि लोगों को बेहतर जिंदगी देने के लिए डेवलपमेंट को बैलेंस करना होगा।
– उन्होंने कहा कि चीन सरकार जानती है कि लोगों को ज्यादा बेहतर फैसेलिटीज चाहिए। लोगों की इन उम्मीदों को पूरा करने के लिए सरकार काम करेगी और इस प्वॉइंट को हमने पॉलिटिकल डॉक्यूमेंट में भी शामिल किया है।
Share.

About Author

Leave A Reply