About us

शिवराजसिंह चौहान की प्रदेश स्तरीय जनआशीर्वाद यात्रा 14 जुलाई को उज्जैन से शुरू होगी

0

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की प्रदेश स्तरीय जनआशीर्वाद यात्रा 14 जुलाई को उज्जैन से शुरू होगी। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्षअमित शाहइसे हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। सीएम चौहान की यह ऐसी तीसरी यात्रा है जो उज्जैन से शुरू होने जा रही है। वेहरबार महाकाल से आशीर्वाद लेकर यात्रा शुरू करते हैं। इस बार संभाग के किसानों को भी इस यात्रा से साधने की कोशिश की जाएगी। सीएम इस बार सभी 230 विस सीटों तक पहुंचने की कोशिश में हैं, क्योंकि पिछली बार वे 200 विस सीटों तक ही पहुंच पाए थे। इसलिए इस बार सीएम हेलीकॉप्टर का भी सहारा लेंगे।

– पिछले साल मंदसौर में किसान आंदोलन के दौरान हुई गोलीबारी में किसानों की मौत पर सरकार को धक्का लगा था। इसकी बरसी पर राहुल गांधी की मंदसौर की सभा में अपेक्षा से ज्यादा भीड़ थी। इसके बाद अब मुख्यमंत्री ने किसानों के बीच अच्छा मैसेज देनेे और डेमेज कंट्रोल के लिए यात्रा की शुरुआत उज्जैन से की जाने की चर्चा चल रही है।

– यूडीए अध्यक्ष जगदीश अग्रवाल को यात्रा की समिति का सदस्य बनाया है। उनका कहना है मुख्यमंत्री की महाकाल में आस्था है। यही कारण है कि वे तीसरी बार यहीं से जनआशीर्वाद यात्रा निकाल रहे हैं। सांसद प्रो.चिंतामणि मालवीय ने कहा- यात्रा का किसान आंदोलन या कांग्रेस की सक्रियता से लेना-देना नहीं है। नगर जिलाध्यक्ष इकबालसिंह गांधी ने कहा अब कांग्रेसी खुद अपनी पहचान बनाने के लिए मुख्यमंत्री के साथ मंच साझा करने में लगे हैं।

यात्रा के लिए दो स्पेशल गाड़ियां तैैयार

– यात्रा के लिए दो स्पेशल गाड़ियां तैयार की गई हैं। इस गाड़ी में टीवी, फ्री, एसी से लेकर सुविधा के सभी इंतजार किए गए हैं। सीएम सीधे हेलीकॉप्टर से जाएंगे और क्षेत्र में वैन से घूमकर लोगों तक पहुंचेंगे। सीएम के पहुंचने के पहले विधायक और सांसद मौके पर पहुंचकर लोगों की नाराजगी को दूर करेंगे।

सीएम की यात्रा के पहले प्रदेश अध्यक्ष ने संभाला मोर्चा

– हर विधानसभा में प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह पहुंचकर लोगों और कार्यकर्ताओं से बात कर रहे हैं। इसी के आधार पर तय होगा कि मौजूदा विधायक या मंत्री को टिकट दिया जाए या नहीं। विकास यात्रा के दौरान विधायक अपने विधानसभा क्षेत्र में घूमे, लेकिन कई को लोगों के विराेध का सामना करना पड़ा। कई विधायकों को तो लोगों ने अपने क्षेत्र में काम नहीं करवाए जाने को लेकर घुसने तक नहीं दिया। कई जगह पर जूते की माला पहनाए जाने की तक की कोशिश लोगों के द्वारा की गई। विरोध के इसी स्वर को शांत करने के लिए सीएम जन आशीर्वाद यात्रा निकालने की तैयारी की है।

बीजेपी को 2013 में 165 सीटों पर जीत मिली थी

2013 में बीजेपी ने 230 सीटों में से 165 पर कब्जा किया था। इसमें से इंदौर दो नंबर विधानसभा में बीजेपी के विधायक रमेश मेंदोला ने 91 हजार मताें से कांग्रेस के छोटू शुक्ला को मात दी थी, वहीं बीजेपी के वेलसिंह भूरिया मात्र 529 से कांग्रेस के प्रताप ग्रेवाल से जीत पाए थे। बीजेपी को चुनाव में 44 प्रतिशत, कांग्रेस 36 फीसदी और बीएसपी को 6 फीसदी से ज्यादा वोट मिले थे। ऐसे में 2018 में मप्र की सत्ता अपने पक्ष में करने की कोशिश में लगी कांग्रेस को बीएसपी ने झटका दे दिया है। बीएसपी मप्र में सभी 230 सीटों पर अपने उम्मीद्वार उतारने की घोषणा कर दी है। यह घोषणा कांग्रेस के लिए काफी निराश करने वाली है।

Share.

About Author

Leave A Reply