उत्तराखंड विधानसभा में आज शक्ति परीक्षण भारी सुरक्षा व्यवस्था में शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न 

0
कांग्रेस और भाजपा दोनों के विधायकों ने कहा कि दोनों दलों के एक-एक विधायक ने क्रॉस वोट किया । घनसाली से भाजपा विधायक भीम लाल आर्य ने रावत के विश्वास मत के समर्थन में मत दिया, वहीं सोमेश्वर से कांग्रेस विधायक ने विश्वास मत के विरोध में वोट दर्ज कराया।विधानसभा में हुए शक्ति परीक्षण के परिणाम के बारे में हालांकि, कल उच्चतम न्यायालय में ही खुलासा होगा लेकिन वोट डालकर बाहर निकले और भाजपा विधायकों के रूख से ऐसा माना जा रहा है कि कांग्रेस के पक्ष में 33 और भाजपा के पक्ष में 28 मत पड़े हैं।विधानसभा में शक्ति परीक्षण के बाद मुस्कराते हुए बाहर निकले पूर्व मुख्यमंत्री रावत ने हालांकि इस बारे में कुछ भी स्पष्ट करने से इंकार कर दिया और कहा कि शक्ति परीक्षण कराने के लिए वह उच्चतम न्यायालय के बहुत आभारी हैं।रावत ने कहा कि विधानसभा में मतदान के दौरान क्या हुआ, मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा। लेकिन हम उच्चतम न्यायालय के बहुत आभारी हैं कि उन्होंने हमें विधानसभा में शक्ति परीक्षण का मौका दिया।यह पूछे जाने पर कि आपने उंगलियों से ‘वी’ का निशान दिखाकर अपनी जीत का संदेश दिया, उन्होंने कहा कि उन्होंने ऐसा कोई चिह्न नहीं दिखाया और इसके बारे में उच्चतम न्यायालय में ही खुलासा होगा।उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि इस शक्ति परीक्षण से उत्तराखंड के राजनीतिक परिदृश्य पर मंडरा रहे अनिश्चय के बादल भी जल्द छंट जाएंगे और चीजें व्यवस्थित रूप में आ जाएंगी।पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें उम्मीद है कि बहुत शीघ्र उत्तराखंड के राजनीतिक परिदृश्य पर छाये बादल छंट जायेंगे और सबकुछ व्यवस्थित रूप से चलने लगेगा।उत्तराखंड प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अजय भट्ट सहित विधायकों ने भी पूछे जाने पर परिणाम के बारे में कल तक इंतजार करने को कहा लेकिन साथ ही यह भी माना कि उनके पक्ष में 28 विधायकों के मत पड़ें हैं। भाजपा विधायक तीरथ सिंह रावत ने कहा कि शक्ति परीक्षण का परिणाम चाहे जो निकले, भाजपा एकजुट है और 2017 के विधानसभा चुनावों में भाजपा ही सत्ता में आएगी। खबर है कि तत्कालीन रावत सरकार में शामिल पीडीएफ के कुनबे में पिछले दो दिन से चल रही बिखराव की खबरों के बीच उसके सभी छह विधायकों ने रावत के विश्वास मत के पक्ष में वोट डाला। मोर्चे में शामिल बसपा के दो विधायकों ने कल रात तक रावत को समर्थन देने या न देने के बारे में अपने पत्ते नहीं खोले थे लेकिन आज सुबह पार्टी प्रमुख मायावती द्वारा रावत के विश्वास मत का समर्थन करने का निर्देश आने के बाद उन्होंने भी रावत के पक्ष में वोट दिया।इससे पहले, अल्मोड़ा जिले के सोमेश्वर से विधायक रेखा आर्य के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट के साथ उनकी कार से विधानसभा पहुंचने से यह पहले ही साफ हो गया था कि वह रावत के खिलाफ वोट देंगी। इसी प्रकार पिछले काफी दिनों से भाजपा नेताओं से दूरी बनाए हुए टिहरी जिले की घनसाली सीट से विधायक भीमलाल आर्य भी कांग्रेस विधायकों के साथ विधानसभा पहुंचे थे जिससे शक्ति परीक्षण के दौरान उनके रूख के बारे में स्पष्ट हो गया था।सुबह 11 बजे विधानसभा में शुरू हुए शक्ति परीक्षण के दौरान अंदर और बाहर भारी पुलिस बल तैनात किया गया था और अध्यक्ष, उपाध्यक्ष सहित सभी विधायक गेट पर ही अपने वाहन तथा मोबाइल छोड़कर पैदल ही परिसर में दाखिल हुए।
Share.

About Author

Leave A Reply