About us

केंद्र सरकार और पतंजलि के बीच 10 हजार करोड़ के एमओयू पर भी समझौता हुआ

0

पतंजलि आयुर्वेद ने यह तय किया है कि वह आगामी वर्षों में एक लाख लोगों को देश में रोजगार देगी। इसके अलावा देश के दक्षिणी, उत्तर-पूर्वी और पश्चिमी राज्यों के किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य देकर उनसे उत्पादों के निर्माण के लिए फूड प्रोसेसिंग यूनिट लगाई जा रही हैं। यह जानकारी पतंजलि के सीईओ आचार्य बालकृष्ण ने दी।

– उन्होंने कहा कि जीएसटी से व्यापार में थोड़ी कमी आई, लेकिन 100 करोड़ के निर्यात टारगेट को फाइनेंशियल ईयर में कवर कर लिया जाएगा।

– इस दौरान केंद्र सरकार और पतंजलि के बीच 10 हजार करोड़ के एमओयू पर भी समझौता हुआ। बालकृष्ण इंडिया गेट पर आयोजित वर्ल्ड फूड फेस्टिवल 2017 में पहुंचे थे।

बिस्कुट की यूनिट

– बालकृष्ण ने बताया कि दक्षिण के राज्यों में कर्नाटक से नारियल तेल, काली मिर्च, लौंग ली जा रही है। हैदराबाद में बिस्कुट की यूनिट लगाई गई है।

– पश्चिमी बंगाल में फूड प्रोसेसिंग यूनिट (एफपीयू) लगाने पर बातचीत जारी है। इसके अलावा उत्तर पूर्वी राज्यों में बोडो, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर में भी एफपीयू लगाने पर काम चल रहा है।

– इंदौर, नोएडा और नागपुर में फूड पार्क बनाए जा रहे हैं। पतंजलि अप्रैल 2018 तक वस्त्र उद्योग में भी आ रहा है।

– अभी तक पतंजलि अपने उत्पादों को देश में ही बेच रहा था। लेकिन अब यह तय हुआ है कि हम विदेशों में भी पतंजलि आयुर्वेद के उत्पाद बेचें।

– अभी तक पतंजलि के प्रॉडक्ट ऑफलाइन बेचे जाते थे, लेकिन अब ऑनलाइन भी इनकी बिक्री होगी। जिससे हम 25 से 30 फीसदी प्रॉडक्ट विदेशों में भी बेचेंगे।

एक टन खिचड़ी
– पीएम मोदी बोले- खिचड़ी को ब्रैंड इंडिया फूड के तौर पर किया जाए प्रमोट पीएम मोदी ने वर्ल्ड फूड फेस्टिवल में भारतीय व्यंजनों में खिचड़ी ब्रैंड इंडिया फूड के तौर पर प्रमोट करने की बात की है।

– अब शनिवार को इंडिया गेट पर दोपहर में एक टन खिचड़ी का पकाई जाएगी।

– इस मौके पर उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू, केंद्रीय खाद्य एवं प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल के साथ बाबा रामदेव भी मौजूद होंगे।

Share.

About Author

Leave A Reply