अमित शाह तीन दिन के दौरे पर शुक्रवार को भोपाल पहुंचे, जबर्दस्त स्वागत किया गया

0
बीजेपी प्रेसिडेंट अमित शाह तीन दिन के दौरे पर शुक्रवार को भोपाल पहुंचे। यहां उनका जबर्दस्त स्वागत किया गया। इस वजह से शाह को बीजेपी ऑफिस पहुंचने में करीब डेढ़ घंटे की देरी हो गई। केंद्रीय पदाधिकारियों, प्रदेश कोर ग्रुप के सदस्य, प्रदेश पदाधिकारी, सांसद, विधायक, जिला अध्यक्ष, संभागीय मंत्री समेत जिला प्रभारी के साथ मीटिंग 10:30 बजे तय थी। इसमें देरी हो गई। इस दौरान, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान स्वागत स्पीच देने लगे। इस पर अमित शाह को थोड़ा असहज लगा, क्योंकि मीटिंग में पहले ही देरी हो गई थी। शाह ने उन्हें टोक दिया।
– यह वाकया तब हुआ जब मीटिंग के पहले स्वागत समारोह चल रहा था। शाह ने कहा कि नंदकुमार सिंह चौहान से कहा कि ज्यादा भूमिका मत बनाओ और बैठक शुरू करो। मैं यहां भाषण सुनने नहीं आया हूं।
– इससे पहले उन्होंने पार्टी के वर्कर्स और नेताओं से बीजेपी और कमल के निशान वाले दुपट्टे ही स्वीकार किए, जबकि फूल और गुलदस्ते लेने से इंकार कर दिया।
– बैठक शुरू होने से पहले शाह ने सिर्फ सीएम शिवराज सिंह चौहान और नंदकुमार सिंह चौहान से ही स्वागत करवाया। यह मीटिंग करीब 45 मिनट चली।
– बता दें कि शाह के दौरे को बड़ी सांगठनिक कवायद के तौर पर देखा जा रहा है। शाह का देशभर में 90 दिन का विशेष प्रोग्राम तय है, इसी के तहत वो तीन दिन के दौर पर भोपाल आए हैं। दरअसल, 2018 के विधानसभा चुनाव को लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष का दौरा बेहद अहम माना जा रहा है।
अमित ने कहा- मीटिंग में सिर्फ काम की बात करो
– शाह ने कहा कि मुझे किसी का क्रेडिट और डेबिट नहीं चाहिए। मीटिंग में सिर्फ काम की बात करो। आप सभी से प्वाइंट्स वाइज जो जानकारी मांगी गई है, वही दो। मुझे पूरी बैलेंस शीट नहीं चाहिए। इतना ही नहीं सख्त लहजे में शाह ने दो टूक कहा कि बैठक की बातें बाहर नहीं जानी चाहिए।
– मीटिंग के दौरान शाह ने यह भी साफ किया कि, मप्र में अगला चुनाव बीजेपी शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में ही लड़ेगी। मैं इस बात को लेकर भी आश्वस्त हूं कि अगले चुनाव में कांग्रेस दो सीट भी नहीं जीत पाएगी। नोट बंदी और जीएसटी से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा कि, सरकार का काम केवल लोकप्रिय फैसला लेना नहीं है। देश की भलाई के लिए कभी-सख्त कदम उठाने पड़ते हैं।
मंत्री के घर खाया गुजराती खाना
-मीटिंग के बाद अमित शाह नरोत्तम मिश्रा के घर पहुंचे। यहां उन्होंने शहर के कुछ चुनिंदा पत्रकारों और मंत्रियों के साथ लंच किया। शाह की पसंद का ध्यान रखते मिश्रा ने अपने घर पर खास गुजराती खाना बनवाया था।
गुरुवार को आना था शाह को, शुक्रवार को आए
– अमित शाह को गुरुवार रात 9:10 बजे नियमित फ्लाइट से दिल्ली से भोपाल आना था, लेकिन वे टाइम पर दिल्ली एयरपोर्ट नहीं पहुंच पाए थे। जबकि इसी से कैलाश विजयवर्गीय समेत अन्य नेता भोपाल पहुंच गए थे। इधर शाह के स्वागत के लिए पहुंचे मुख्यमंत्री समेत सभी मंत्रियों को दिल्ली से सूचना मिली कि चार्टर्ड प्लेन से शाह रात 11 बजे पहुंचेंगे। लेकिन तकनीकी खराबी के कारण प्लेन नहीं उड़ पाया। जब यह सूचना मुख्यमंत्री को रात 10:45 बजे मिली तो उन्होंने माइक से जानकारी दी कि शाह अब शुक्रवार सुबह 9 बजे आएंगे।
BJP का 2019 के लिए 360+ सीटों का टारगेट
– बीजेपी ने 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए अभी से टारगेट तय कर लिया है। अमित शाह ने 360+ सीटें लाने का लक्ष्य नेताओं को दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शाह ने बीजेपी हेडक्वार्टर्स में तीन घंटे तक 30 से ज्यादा नेताओं के साथ बैठक कर इस बारे में चर्चा की। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजेपी प्रेसिडेंट ने केंद्रीय मंत्रियों और पार्टी नेताओं से उन सीटों पर खासतौर पर फोकस करने को कहा, जहां बीजेपी को पिछले चुनाव के दौरान हार मिली थी। बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने अकेले के दम पर मेजॉरिटी हासिल कर 282 सीटें जीती थीं। इस बीच, एक न्यूज एजेंसी की खबर में कहा गया है कि इसी महीने में कैबिनेट में फेरबदल हो सकता है।
Share.

About Author

Leave A Reply