About us

इंदौर विकास प्राधिकरण इंदौर के क्लर्क राजेन्द्र बिरथरे सहायक ग्रेड-2 प्रशासन शाखा के घर छापा मारा

0
लोकायुक्त पुलिस ने शुक्रवार सुबह एक बार फिर बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया। टीम ने इंदौर विकास प्राधिकरण इंदौर के क्लर्क राजेन्द्र बिरथरे सहायक ग्रेड-2 प्रशासन शाखा के घर छापा मारा। टीम ने आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में जब उनके निवास स्थानों पर कार्रवाई की तो वहां पर मिली सम्पत्ति देख चौंक गई।
– लोकायुक्त पुलिस के अनुसार उन्हें आईडीए में पदस्थ क्लर्क राजेंद्र बिरथरे के आस आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने की सूचना मिली थी।
– सूचना के बाद शुक्रवार अलसुबह इंदौर लोकायुक्त की अलग-अलग टीमें बिरथरे के निवास सहित अन्य जगहों पर छापे मारने पहुंची।
– लोकायुक्त की एक टीम बिरथरे के होंडा सिटी शोरूम के पीछे स्थित निवास 453 संतनगर पहुंची।
– वहीं दूसरी टीम स्कीम नं. 114 ए पर तलाशी लेने पहुंची। दोनों ही जगहों पर टीम की कार्रवाई चल रही है।

कहां, क्या मिला

– इंदौर स्थित स्कीम नं. 114 संत नगर इंदौर में 1460 वर्गफीट का प्लाॅट।
– खुद व पत्नी मंगलादेवी के नाम स्कीम नं. 114 संत नगर तीन मंजिला मकान।
– बेटे रविन्द्र के नाम खरगोन के महेश्वर स्थित गांव झारा में करीब ढ़ाई एकड़ भूमि।
– बेटे रविन्द्र के नाम पर ही महेश्वर के सेजगांव में करीब 6 एकड़ भूमि।
– पत्नी मंगलादेवी के नाम महेश्वर के झारा गांव में एक एकड़ जमीन।
– खुद के नाम पर इंदौर के तलावली चांदा में एक मकान।
– बेटे रविन्द्र के नाम पर तलावली चांदा में डेढ़ हेक्टेयर शिव गोमती हाईराइज आवासीय मल्टी एवं सर्वजल प्लांट।
– बेटे सुमित के नाम पर तलावली चांदा मेन रोड पर द्वारका पान शॉप।

– पांच फोर व्हीलर व 4 टू व्हीलर गाड़ियां।
– लाखों रुपए की ज्वैलरी और नकदी।
जनवरी 2017 में हाेने वाले थे रिटायर
– राजेन्द्र बिरथरे के पिता शिवप्रसाद तलावली चांदा में खेती करने के साथ ही दूध बेचते थे।
– राजेन्द्र ने 1982 में नौकरी ज्वाइन की थी। राजेंद्र अधिकांश समय तक प्राधिकरण की सम्पदा शाखा में पदस्थ रहे।
– वे वर्तमान में प्रशासन शाखा में हैं। 34 वर्ष की अवधि में राजेन्द्र ने करोड़ों रुपए की संपत्ति अर्जित कर ली।
– बिरथरे जनवरी 2017 में रिटायर होने वाले हैं।
– राजेन्द्र की पत्नी मंगलाबाई हाऊस वाइफ हैं। उनके तीन बेटे रविन्द्र, विकास व सुमित है।
Share.

About Author

Leave A Reply