कूदकर जान देने वाली कपड़ा व्यापारी की पत्नी रेणुका मित्तल का सुसाइड नोट पुलिस को मिला

0
डीबी सिटी मॉल की तीसरी मंजिल से कूदकर जान देने वाली कपड़ा व्यापारी की पत्नी रेणुका मित्तल का सुसाइड नोट पुलिस को मिला है। जानकारी के अनुसार सुसाइड से पहले रेणुका ने 8 पेज का सुसाइड नोट नॉर्मल डॉक से कोतवाली थाने को पोस्ट किया था। कोतवाली पुलिस को घटना के तीन दिन बाद गुरुवार को यह सुसाइड नोट बरामद हुआ है। सुसाइड नोट में रेणुका ने अपनी सास पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है।
 सुसाइड नोट में रेणुका मित्तल ने ससुराल पक्ष पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए लिखा है कि…
-मेरी सास मुझसे बहुत काम कराती है, जबकि देवरानी को कुछ नहीं कहती। मेरी बेटियों को अच्छे स्कूल में दाखिला तक नहीं दिलवाया।
-मेरी देवरानी के बच्चे अच्छे स्कूल में पढ़ते हैं। कुछ दिनों पहले जब मैं बीमार थी, सास ने मेरा हाल तक नहीं पूछा।
-सास मेरी बेटियों और मेरे साथ भेदभाव करती है। घर में हमारा सम्मान नहीं होता।
-सास की प्रताड़ना और भेदभाव से दुखी होकर मैं सुसाइड कर रही हूं। मेरे पति बहुत अच्छे है।
 यह था मामला…
-गौरतलब है कि डीबी सिटी की तीसरी मंजिल से कूदकर सोमवार को कपड़ा व्यापारी संजय मित्तल की पत्नी रेणुका मित्तल ने आत्महत्या कर ली थी। वारदात वाले दिन महिला के साथ उनकी छह साल की बेटी भी थी, जो गेम जोन में खेल रही थी।
 फोन बैग में रखकर लगा दी थी छलांग
चूड़ी बाजार, लखेरापुरा निवासी संजय मित्तल कपड़ा व्यापारी हैं। ग्राउंड फ्लोर पर उनकी दुकान है, जबकि पूरा परिवार पहली मंजिल पर रहता है। संजय की 32 वर्षीय पत्नी रेणुका गृहिणी थीं। सोमवार दोपहर वे छह वर्षीय छोटी बेटी को साथ लेकर अपने स्कूटर से डीबी सिटी आई थीं। तीसरी मंजिल पर बने गेम जोन में बेटी को कुछ देर खिलाती रहीं। फिर बेटी से कहा कि आप खेलो, मैं थोड़ी देर में आती हूं। इसके बाद वे फोन पर किसी से बात करते हुए टीडीएस के गेट पर आ गईं। यहां कुछ देर तक बात करती रहीं फिर मोबाइल फोन अपने बैग में रखा। शाम 4.35 फीट नीचे छलांग लगा दी। घटना के वक्त मौके पर मौजूद स्टाफ ने उन्हें फौरन जेपी अस्पताल पहुंचाया। हालत गंभीर होने के कारण उन्हें नर्मदा ट्रामा सेंटर में रैफर किया गया। यहां एक घंटे तक चले इलाज के बाद रेणुका की मौत हो गई।
कैमरे में कैद हुई थी घटना
महिला द्वारा खुदकुशी किए जाने की यह घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। इसमें रेणुका टीडीएस के सामने किसी से बात करती हुईं नजर आ रही हैं। इसके बाद उन्होंने तीसरी मंजिल से छलांग लगा दी। घटना का पता टीडीएस के सामने खड़ी महिला स्टाफ को तब लगी, जब रेणुका कूद चुकी थी। डीबी सिटी प्रबंधन ने सीसीटीवी फुटेज एमपी नगर पुलिस को उपलब्ध करवा दिए थे। इसे देखने के बाद ही खुदकुशी का खुलासा हुआ। इससे पहले पुलिस इसे हादसा मान रही थी।
 नहीं था पति-पत्नी में कोई विवाद
रेणुका के पिता डॉ. प्रहलाद दास अग्रवाल मूलत: गुजरात के कांडला पोर्ट के रहने वाले हैं। उन्होंने बताया था कि पति-पत्नी में कोई विवाद नहीं है, जबकि वे दोनों एक-दूसरे को बहुत अच्छी तरह समझते थे। करीब 12 साल पहले रेणुका और संजय की शादी हुई थी। उनकी 11 साल और छह साल की दो बेटियां हैं। बड़ी बेटी दोपहर में ट्यूशन गई थी, जबकि छोटी बेटी डीबी सिटी जाने की जिद करने लगी, तो रेणुका उसे लेकर मॉल आई थीं। पुलिस को दिए बयान में रेणुका और संजय के परिवार ने इसे हादसा बताया था। हालांकि, टीआई संजय सिंह बैस ने सीसीटीवी देखने के बाद स्पष्ट किया था कि मामला खुदकुशी का है।
Share.

About Author

Leave A Reply