क्सलियों ने सीआरपीएफ जवानों पर हमला किया, हमले में 26 जवान शहीद हो गए

0
यहां बुरकापाल और चिंतागुफा के बीच नक्सलियों ने सीआरपीएफ जवानों पर हमला किया। हमले में 26 जवान शहीद हो गए। घायल जवान शेर मोहम्मद ने बताया, “नक्सलियों की तादाद करीब 300 थी। उन्होंने पहले गांववालों को हमारी लोकेशन का पता करने के लिए भेजा और फिर हमला बोला।” इस हमले को नरेंद्र मोदी ने कायराना हरकत बताया है। उन्होंने ट्वीट किया, “जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।” हमले के बाद छत्तीसगढ़ के सीएम रमन सिंह ने अपना दिल्ली दौरा बीच में ही रोक दिया है और देर शाम रायपुर पहुंचे। उन्होंने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई है।
– बुरकापाल में सड़क का काम लंबे अरसे से बंद था, लेकिन सीआरपीएफ की सिक्युरिटी में इसका काम फिर शुरू हुआ। सोमवार को सीआरपीएफ ने रोड ओपनिंग पार्टी भेजी थी। सीआरपीएफ के जवान जब खाना खा रहे थे, उस वक्त नक्सलियों ने घात लगाकर हमला कर दिया। जिसमें 26 जवान शहीद हो गए। कुछ जवानों की हालत सीरियस है, जिन्हें हेलिकॉप्टर से रायपुर भेजा गया।
– घायलों में एएसआई आरपी हेमबरम, एचसी राम मेहर, सिटी स्वरूप कुमार, सिटी मोहिंदर सिंह, सीटी जितेंद्र कुमार, सीटी शेर मोहम्मद, सिटी लाटो ओरोन शामिल हैं।
मुठभेड़ में नक्सली भी मारे गए
– घायल शेर मोहम्मद ने न्यूज एजेंसी से बताया, “सीआरपीएफ के जवानों की संख्या 150 थी और हमले के दौरान जवाबी फायरिंग भी की गई। जिसमें कई नक्सली मारे गए हैं। मैंने 3-4 नक्सलियों को सीने पर गोली मारी।”
– इस बीच बस्तर के आईजी विवेकानंद सिन्हा और डीआईजी सुंदरराज सुकमा के लिए रवाना हो गए हैं। सीआरपीएफ की 74 वीं बटालियन के सभी जवानों को एंटी-नक्सल ऑपरेशन में तैनात कर दिया गया है। इसके अलावा आसपास के कैम्पों से भी मदद सुकमा पहुंच रही है।
घायलों से मिलेंगे रमन सिंह
– रमन सिंह ने रायपुर पहुंच कर कहा, “जिन डिस्ट्रिक्ट में हमले हो रहे हैं, वहां नक्सलियों पर काफी प्रेशर है। जवान पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। ये काफी गंभीर घटना है और अब ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। सीनियर ऑफिसर्स के साथ मीटिंग करने जा रहा हूं। इस मसले पर पीएम और होम मिनिस्टर से भी बात करूंगा।” बता दें कि रमन सिंह हॉस्पिटल में जाकर घायल जवानों से भी मिलेंगे।
जवानों की बहादुरी पर हमें फख्र- मोदी
– नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, “छत्तीसगढ़ में हुआ हमला दुखद और कायराना हरकत है। हम हालात पर नजर रख रहे हैं। CRPF जवानों की बहादुरी पर हमें फख्र है। उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। शहीद जवानों के परिवारों के लिए मैं संवेदना जाहिर करता हूं।”
राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, “सुकमा में सीआरपीएफ जवानों के शहीद होने पर गहरा अफसोस है। शहीदों को मेरी श्रद्धांजलि और उनके परिवारों के लिए मैं संवेदना जाहिर करता हूं। मैंने इस मसले पर हंसराज अहीर से बात की है। वो हालात का जायजा लेने छत्तीसगढ़ जा रहे हैं।”
– केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा, “इस हमले से दुख पहुंचा है। जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाना चाहिए। लोकतंत्र में इस तरह बिना कारण की गई हत्याओं के लिए जगह नहीं है।”
– राहुल गांधी ने कहा,”सुकमा अटैक में शहीद सीआरपीएफ जवानों के परिवारों के लिए संवेदना व्यक्त करता हूं। हम बहादुर जवानों के बलिदान को सलाम करते हैं।”
मार्च में भी किया था हमला, 12 जवान शहीद हुए थे
– सुकमा में 11 मार्च को भी नक्सलियों ने सीआरपीएफ जवानों पर हमला किया था। इस हमले में 12 जवान शहीद हो गए थे। नक्सली जवानों के हथियार भी लूट ले गए। नक्सलियों ने सुबह 9:15 AM बजे तब हमला बोला, जब CRPF के 219th बटालियन के जवान रोड ओपनिंग टास्क के लिए जा रहे थे। आईजी सुंदर राज ने बताया कि सिक्युरिटी पर्सनल्स इलाके में रोड ओपनिंग एक्सरसाइज कर रहे थे, उसी वक्त माओवादियों ने उन पर फायरिंग की। बता दें कि ये वही इलाका है, जहां 2010 में नक्सली हमले में 76 जवान शहीद हो गए थे।
Share.

About Author

Leave A Reply