About us

जीएसटी बिल राज्यसभा के बाद सोमवार को लोकसभा में भी पास हो गया

0
जीएसटी बिल राज्यसभा के बाद सोमवार को लोकसभा में भी पास हो गया। बिल को यहां अरुण जेटली ने पेश किया। नरेंद्र मोदी ने अपनी स्पीच में कहा, ”टैक्स टेरेरिज्म से मुक्ति की दिशा में अहम कदम है। इसमें कंज्यूमर किंग होगा। गरीब के इस्तेमाल की सभी चीजें इससे बाहर रहेंगी।” बता दें कि मई, 2015 में लोकसभा ने बिल को पास कर दिया था, लेकिन राज्यसभा में बिल अटक गया था। तीन अगस्त को वहां यह बिल पास हुआ, जिसके बाद इसे फिर लोकसभा में लाया गया।
– मोदी ने कहा, ”टैक्स टेररिज्म से मुक्ति की दिशा में यह एक अहम कदम है। हमारी संसद के दोनों सदनों के सांसद मिलकर एक बहुत बड़ा कदम उठाने जा रहे हैं।”
– “मैं सभी राजनीतिक दलों का धन्‍यवाद करने के लिए खड़ा हूं।”
– “29 राज्‍यों और नब्‍बे पॉलिटिकल पार्टियों से चर्चा के बाद जीएसटी आज यहां खड़ा है।”
– ” ये सही है कि कृष्‍ण को जन्‍म किसी ने दिया, बड़ा किसी ने बनाया, लेकिन यह भी सही कि ये किसी दल या किसी सरकार की विजय नहीं है। ये भारत की परंपराओं की विजय है। ये सभी पॉलिटिकल पार्टियों की विजय है।”
– ” ये पहले की और हमारी सरकार के योगदान से है। इसलिए कौन जीता कौन हारा, इस पर किसी विवाद की आवश्‍यकता नहीं है।”
– – “गरीब के इस्तेमाल की सभी चीजें इससे बाहर रहेंगी। खाने की चीजें और जरूरी दवाएं जीएसटी से बाहर रहेंगी।”
– “आरबीआई से सरकार ने कानून के तहत कहा है कि महंगाई दर चार पर्सेंट तक स्थिर रहना चाहिए। दो पर्सेंट कम ज्यादा हो सकती है।”
मोदी ने दी GST की नई परिभाषा
मोदी ने कहा,” जीएसटी का मतलब है। ‘ग्रेट स्टेप टूवर्ड ट्रांसफॉर्मेशन’, ‘ग्रेट स्टेप टूवर्ड ट्रांसपेरेंसी’, ग्रेट स्टेप बाई टीम इंडिया”
इन पांच चीजों से बढ़ेगी इकोनॉमी
– मोदी ने कहा – “इकोनॉमी को सुचारू रूप से चलाने के लिए पांच बातों को ध्यान देना होगा। ये हैं 1. मैन 2. मशीन, 3. मटैरियल, 4. मनी, 5. मिनट।”
– “इनके ज्यादा से ज्यादा यूटिलाईजेशन से इकोनॉमी को बढ़ावा मिलेगा।”
राज्यों के बीच झगड़े कम होंगे
– मोदी ने कहा – “पूर्वी हिस्‍से को हमें बराबरी में लाना है। वरना ये असंतुलित विकास खतरनाक होगा।”
– ” राज्‍यों और केंद्रों के बीच तनाव या तो संपत्ति को लेकर या प्राकृतिक संसाधनों को लेकर रहता है।”
– ” इसकी वजह से ट्रांसपेरेसी आएगी। किसके पास कितना धन है, इसका सही बंटवारा होगा। मतलब झगड़ा नहीं होगा।
– ” सब कुछ केंद्र और राज्‍य की जानकारी में रहेगा।”
जेटली ने क्या कहा?
– ”अगर कोई एक बार टैक्स दे देता है तो उसे दोबारा उसी चीज पर टैक्स नहीं देना पड़ेगा।”
– ”इस बिल के जरिए हम एक देश, एक टैक्स करने की कोशिश कर रहे हैं।”
– ”जीएसटी अमेंडमेंट बिल पास होने के बाद 3 और लॉ बनाए जाएंगे। 2 को तो जल्द ही संसद में लाया जाना है।”
बिल को राष्ट्रपति के अलावा राज्यों से भी पास कराना होगा
– लोकसभा में पास होने के बाद बिल को आधे राज्यों (15) के अप्रूवल की भी जरूरत होगी। इसके बाद इसे राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा।
– चूंकि लोकसभा में सरकार के पास मेजॉरिटी है, इसके चलते अमेंडमेंट्स के साथ बिल को पास कराने में किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।
– ये भी माना जा रहा है कि अपोजिशन लोकसभा में एक बार फिर बिल पर चर्चा की मांग कर सकता है।
– एक सीनियर मिनिस्टर के मुताबिक, “करीब-करीब सभी राजनीतिक दलों ने बिल को सपोर्ट कर दिया है। लोकसभा में पास होने में कोई परेशानी नहीं आएगी।”
Share.

About Author

Leave A Reply