About us

तेज बारिश के बाद लगा जाम पुलिस कमिश्नर नवदीप सिंह विर्क को भारी पड़ गया

0
गुड़गांव (अब गुरुग्राम) में गुरुवार शाम हुई तेज बारिश के बाद लगा जाम पुलिस कमिश्नर नवदीप सिंह विर्क को भारी पड़ गया। उनका ट्रांसफर कर दिया गया है। विर्क को अब रोहतक भेजा गया है। उनकी जगह संदीप खीरवार नए पुलिस कमिश्नर बनाए गए हैं। बता दें कि जाम खुलवाने में पुलिस और लोकल एडमिनिस्ट्रेशन को 23 घंटे लग गए थे। हालांकि, सरकार ने विर्क के ट्रांसफर को रूटीन प्रॉसेस बताया है।
– मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, विर्क को हेवी ट्रैफिक जाम की प्रॉब्लम को ठीक तरीके से हैंडल न कर पाने और लोगों के गुस्से को कम नहीं कर पाने के लिए हटाया गया है।
– जाम को लेकर विर्क ने दावा किया था कि पुलिस लगातार जाम खुलवाने में लगी हुई थी और जवानों को 24×7 ड्यूटी पर लगाया गया है।
– लेकिन जाम में फंसे लोगों ने कहा कि जाम में पुलिस कहीं भी नहीं दिखाई नहीं दे रही थी।
– ट्रांसफर के बारे में विर्क का कहना है कि अभी उन्हें इस तरह का कोई आदेश नहीं मिला है।
– वहीं दूसरी ओर, एक न्यूज चैनल से बात करते हुए गुड़गांव के डिप्टी टीएल सत्यप्रकाश ने माना कि पुलिस की तरफ से कुछ बड़ी गलतियां हुईं, जिसके कारण जाम लगा। उन्होंने इसके लिए जनता से माफी भी मांगी।
– बताया जा रहा है कि जाम के बाद चलाए जा रहे रेस्क्यू की मॉनिटरिंग के लिए आ रहे सीएम मनोहर लाल खट्टर का गुड़गांव दौरा भी कैंसल हो गया है।
 इन वजहों से पानी में फंसी हाईटेक सिटी
1. टूट गई बादशाहपुर ड्रेन
– गुड़गांव की सड़कों पर वाटर लॉगिंग होने की वजह से लगे 23 घंटे के महाजाम की सबसे बड़ी वजह सेक्टर 34 में बादशाहपुर ड्रेन का टूटना और नजफगढ़ ड्रेन का एक चैनल बंद होना रहा।
– बादशाहपुर ड्रेन नजफगढ़ ड्रेन में गिरती है, लेकिन इसका एक चैनल बंद था। ऐसे में, बादशाहपुर से पानी तो लगातार आ रहा था, लेकिन डिस्चार्ज नहीं हो पा रहा था। इसके अलावा, अरावली की पहाड़ियों से आ रहा पानी भी ओवरफ्लो और बादशाहपुर ड्रेन टूटने की वजह बना।
2. ड्रेन में आया क्षमता से ज्यादा पानी
– बारिश के दिनों में बादशाहपुर ड्रेन में अरावली और दिल्ली के आसपास के इलाकों का पानी आता है। ड्रेन की झमता 500 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज करने की है। लेकिन बारिश के दौरान 1750 क्यूसेक पानी आ रहा था। पानी का प्रेशर भी काफी तेज था। इससे ड्रेन पर दवाब पड़ा और वह सेक्टर 34 के पास टूट गई। इससे हीरो होंडा चौक और सोहना रोड पर पानी भर गया।
3. नहीं किया पंपसेट का इंतजाम
– नेशनल हाईवे अथॉरिटी को पिछले दिनों ही जलभराव की स्थिति से निपटने के लिए पंपसेट का इंतजाम करने को कहा गया था। लेकिन एनएचएआई ने पंपसेट नहीं लगाए। इसका नतीजा यह हुआ कि ड्रेन टूटने और तेज बारिश की स्थिति में सबसे पहले यहीं पानी भरा।
4. 8 घंटे के जाम के बाद देर रात ड्रेन पर पहुंचे अफसर
– बारिश के बाद वाटर लॉगिंग होने से सड़कों पर लंबा जाम लग गया। हालात खतरनाक होते देख 7-8 घंटे बाद सुबह लगभग 4 बजे निगम के इंजीनियर और अफसर बादशाहपुर ड्रेन की विजिट करने पहुंचे।
– इस दौरान सामने आया कि ड्रेन तीन जगहों से बंद की गई थी और पानी को किसी और जगह से डायवर्ट किया जा रहा था।
– नजफगढ़ ड्रेन में प्रोपर फ्लो न मिलने की वजह से वाटर लॉगिंग की स्थिति भयंकर हो गई। सड़कों पर महाजाम लग गया।
Share.

About Author

Leave A Reply