नरेंद्र मोदी ने रविवार को दैनिक भास्कर की मिट्टी के गणेश पहल का सपोर्ट किया।

0
 मोदी ने कहा, “बच्चे घरों में मिट्टी के गणेश बना रहे हैं। इस बार पर्यावरण के बचाव के लिए मीडिया हाउस भी बदलाव की पहल कर रहे हैं। लोग घरों में गणेश मूर्ति बनाने लगे हैं। मुझे किसी ने बताया कि एक शख्स ने गणेश विसर्जन के लिए खास कुंड बनाया है।”  बता दें कि दैनिक भास्कर समूह पिछले कई सालों से ‘मिट्टी के गणेश-घर में ही विसर्जन’ करने का अभियान चला रहा है। इसका मकसद यही है कि हम अपने तालाब और नदियों को प्रदूषित होने से बचा सकें। इसलिए भास्कर अपने करोड़ों पाठकों से आग्रह किया है कि घर में मिट्टी के ही गणेशजी की स्थापना करें और घर में ही उनका विसर्जन करें। उन्होंने कहा, “बच्चे घरों में मिट्टी के गणेश बना रहे हैं। इस बार पर्यावरण के बचाव के लिए मीडिया हाउस भी बदलाव की पहल कर रहे हैं। बता दें कि दैनिक भास्कर समूह पिछले कई सालों से ‘मिट्टी के गणेश-घर में ही विसर्जन’ करने का अभियान चला रहा है। इसका मकसद यही है कि हम अपने तालाब और नदियों को प्रदूषित होने से बचा सकें।
पीओपी से बनी मूर्तियों से फैल रहा प्रदूषण
– कुछ सालों में देश में पर्यावरण को लेकर आम जनता की जागरूकता बढ़ी है। साथ ही पर्यावरण के प्रति अपने दायित्व को निभाते हुए कई अच्छी पहल की शुरुआत भी हुई है, लेकिन अब भी कई जगहों पर पर्यावरण का नुकसान हो रहा है और हमारे कई नदी-तालाब प्रदूषित हो रहे हैं।
– कुछ महीने पहले जब रायपुर के एक तालाब को गहरा करने के लिए पानी निकाला गया तो इसमें विसर्जित की गई पीओपी से बनी गणेशजी की मूर्ति 8 महीने बाद भी जैसी की तैसी मिली। अंदाजा लगाया जा सकता है कि देश में ऐसे ही कितने और तालाब, झील और नदियां साल-दर-साल पीओपी की मूर्तियों की वजह से प्रदूषित हो रही हैं और जिस आस्था से हम गणेशजी की स्थापना करते हैं, फिर उसे पानी में डाल देते हैं, उसका नतीजा क्या हो रहा है?   दैनिक भास्कर के ‘मिट्टी से ही बनें गणेश और आप घर में ही करें विसर्जन’ का अभियान में शामिल होकर आप भी तालाब और नदियों को बचा सकते हैं। और इससे भी महत्वपूर्ण यह है कि जिस श्रद्धा और आस्था से हम गणेश की स्थापना घरों में करते हैं, उन्हीं गणेश का आशीर्वाद सदैव हमारे साथ रहे। आप भी घर में ही उनका विसर्जन करें और पवित्र मिट्टी को गमले में डालकर उस पर पौधा लगा दें। इससे न सिर्फ गणेशजी का आशीर्वाद बल्कि उनकी याद भी साल दर साल आपके घर-आंगन में महकेगी। ये पौधे बड़े होकर आने वाली पीढ़ियों के लिए पर्यावरण में बड़ा योगदान भी करेंगे। साथ ही घर-परिवार में नई परंपरा का शुरू होगी। इसका मकसद यह है कि गणेशोत्सव की खुशियों के साथ आप नेकी का भी एक संकल्प लें। कई सेलिब्रिटीज इस कैम्पेन में हिस्सा ले रही हैं। नवाजुद्दीन सिद्दीकी कहते हैं, ”आइए इस उत्सव पर नेकी की शुरुआत करें और ईकोफ्रेंडली गणेश बनाएं।” अभिनेता आयुष्मान खुराना का कहना है कि इस गणेश चतुर्थी अच्छाई का शुभारंभ कीजिए। कृति सेनन कहती हैं कि वे इस गणेशोत्सव अपने दोस्त को अच्छाई की शुरुआत करने की चुनौती दे रही हैं। अभिनेत्री बिदिता बाग और श्रद्धा दास का कहना है कि वे भी ईकोफ्रेंडली गणेश प्रतिमा की स्थापना के साथ नेकी का श्रीगणेश करना चाहती हैं।
Share.

About Author

Leave A Reply