About us

पीपुल्स यूनिवर्सिटी का दूसरा दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया

0
शनिवार को पीपुल्स यूनिवर्सिटी का दूसरा दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया। इसमें मुख्य अतिथि मिसाइल ब्रह्मोत्स प्रोजेक्ट से जुड़े रहे प्रसिद्ध वैज्ञानिक सुधीर कुमार मिश्रा, राज्यसभा सदस्य अमर सिंह और जयाप्रदा थीं। इस मौके पर तीनों को मानद उपाधि से सम्मानित किया गया।
दीक्षांत समारोह के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए अमर सिंह ने कहा कि, जयप्रदा मेरी दु:ख की साथी हैं। वहीं जयप्रदा ने उन्हें अपना शुभचिंतक, सबकुछ बताया।
मधुशाला: हाला-प्याला और बाला सिर्फ प्रतीकात्मक
इंदौर लिटरेचर फेस्टिवल के दौरान कवि हरिवंशराय बच्चन की कालजयी रचना‘मधुशाला’ पर पद्श्री गोपालदास नीरज की विवादास्पद टिप्पणी पर अमरसिंह ने कमेंट करने से इनकार कर दिया। हालांकि उन्होंने यह जरूर कहा कि, नीरजजी बड़े साहित्यकार हैं। उन्होंने फिल्मी गाने भी साहित्य में लिखे। पर मैं यही कहूंगा कि मधुशाला थर्ड क्लास रचना नहीं है। इसमें हाला-प्याला और बाला प्रतीक के तौर पर लिए गए हैं। इन्हें शराब और प्रेमिका से न जोड़ें।
विवाद: जो दिल में आता है बोल देता हूं
60 साल के अमरसिंह भारतीय राजनीति में अकसर ‘विवादों’ में घिरे रहते हैं? बीते 2 दशक की राजनीति में कई बार उनके इर्द-गिर्द सियासी उबाल आता रहा है। आखिर ऐसा क्यों हैं? अमर सिंह ने दो टूक कहा,’मैं दिल से राजनीति करता हूं। जो दिल में आता है, वो बोल देता हूं।’
यूपी चुनाव:बसपा शोपीस और कांग्रेस का अस्तित्व नहीं
यूपी में मुख्य मुकाबला भाजपा और सपा के बीच है। बसपा सिर्फ एक शोपीस बनकर रह गई है, जबकि कांग्रेस का अस्तित्व खत्म हो गया है।
सपा में कलह: यह क्रियेट ड्रामा था
पिछल दिनों सपा परिवार में मचे कलह पर अमर सिंह ने स्पष्टीकरण दिया-‘सपा में कोई कलह नहीं है। यह एक सिर्फ क्रियेट किया हुआ था।’
नोटबंदी: प्रधानमंत्री को 50 दिन मिलना चाहिए
अगर प्रधानमंत्री का मानना है कि नोटबंदी के बाद 50 दिन में स्थिति सुधर जाएगी, तो उन्हें यह मौका मिलना चाहिए। इसके बाद हम इसका आकलन करेंगे कि, इससे नफा-नुकसान क्या हुआ।
कलाम: उन्हें राष्ट्रपति बनाने में मेरा कोई योगदान नहीं
अमर सिंह ने पूर्व राष्ट्रपति स्वर्गीय कलाम की प्रशंसा करते हुए कहा कि अटलजी की वे पहली पसंद थे। अटलजी ने मुझे और नेताजी(मुलायम सिंह) को बुलाया और अपनी बात रखी। कह सकते हैं कलाम को राष्ट्रपति बनाने में नेताजी का योगदान था, मेरा नहीं।
सपा में वापसी पर बोलीं जयप्रदा, ‘नेताजी जो जिम्मेदारी देंगे, वो उठाएंगे’
जयप्रदा ने सपा में अपनी वापसी के सवाल पर कहा कि,’यह नेताजी को तय करना है। वो जो जिम्मेदारी देंगे, हम उसे पूरा करेंगे।’ जयाप्रदा ने अमर सिंह की तारीफ करते हुए कहा कि, अमर सिंह दोस्तों का पूरा ख्याल रखते हैं। वे हाथ पकड़कर ऊपर उठाते हैं।
नोटबंदी पर जयप्रदा ने अमर सिंह की बात का समर्थन करते हुए कहा कि, अगर इससे कालाधन वापस आता है, तो अच्छी बात है। प्रधानमंत्री ने 50 दिन मांगे हैं। 35 दिन हो चुके हैं, इसके बाद हम आकलन करेंगे। हां, यह और बात है कि इससे जनता परेशान हो रही है।
Share.

About Author

Leave A Reply