पेट्रोल पंपों से शुक्रवार से कार्ड स्वाइप कर कैश निकालने की फैसिलिटी शुरू हो गई

0
देशभर के 686 पेट्रोल पंपों से शुक्रवार से कार्ड स्वाइप कर कैश निकालने की फैसिलिटी शुरू हो गई। गुरुवार रात सरकार ने यह एलान किया था। योजना देश के करीब 2500 पेट्रोल पंपों से कैश हासिल करने की फैसिलिटी देने की है। इसके तहत डेबिट कार्ड स्वाइप कर दो हजार रुपए तक, जबकि क्रेडिट कार्ड से ढाई हजार तक का अमाउंट लिया जा सकता है। इसके लिए एसबीआई ने ऑइल कंपनियों से करार किया है।
– इसके लिए पेट्रोल पंप पर कार्ड स्वाइप करना होगा और वहां मौजूद अटेंडेंट आपको कैश दे देगा।
– ऑइल कंपनियों ने कहा है कि पेट्रोल, डीजल और दूसरे प्रोडक्ट की कमी नहीं है।
# कितना पैसा ले सकते हैं?
– डेबिट कार्ड से लोग दो हजार रुपए तक, जबकि क्रेडिट कार्ड से ढाई हजार तक का अमाउंट पेट्रोल पंप पर ले सकेंगे।
# कौन सी ऑइल कंपनियां दे रही हैं यह फैसिलिटी?
– इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL)।
– इन कंपनियों के 686 पेट्रोल पंपों से कैश ले सकते हैं। इनमें IOCL के 350, BPCL के 266 और HPCL के 70 पेट्रोल पंप शामिल हैं।
# बैंक कैसे देगा पेट्रोल पंप को पैसा?
– एसबीआई की चेयरमैन अरुधति भट्टाचार्य ने शुक्रवार को बताया हमने पेट्रोल पंप से कहा कि वे हमें चेक दें। हम उन्हें कैश मुहैया करा देंगे। इसके बाद वे यह कैश लोगों में बांट सकते हैं।
# पेट्रोल पर कार्ड स्वाइप फैसिलिटी कब तक रहेगी?
– कार्ड स्वाइप कर कैश निकालने की फैसिलिटी 24 नंवबर के बाद भी जारी रहेगी।
# पेट्रोल पंप कब तक 500 और 1000 रुपए के नोट लेंगे
– सरकार के आदेश के मुताबिक, पेट्रोल पंप 24 नवबंर तक 500 और 1000 के नोट एक्सेप्ट करेंगे। उसके बाद नहीं।
गुरुवार रात मीटिंग के बाद क्या फैसला लिया गया
– बता दें कि पेट्रोल पंपों पर कार्ड स्वाइप के जरिए ट्रांजैक्शन प्रॉसेस एसबीआई की ‘प्वाइंट ऑफ सेल’ मशीन के जरिए पूरी होगी।
– एसबीआई की चीफ अरुंधति भट्टाचार्य के मुताबिक, ये फैसला सरकारी तेल कंपनियों और बैंक के अफसरों की मीटिंग के बाद लिया गया।
अब तक 40 से ज्यादा मौतें
– नोटबंदी के बाद अब तक करीब 40 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।
– इनमें कई मौतों की वजह बैंक और एटीएम में लंबी लाइन को बताया गया है।
– कुछ की मौतें हॉस्पिटल के 500-1000 के पुराने नोट नहीं लेने की वजह से भी हुई हैं।
– नोटबंदी के बाद एटीएम के बाहर लगने वाली लंबी लाइन से लोगों को राहत मिल सकती है।
Share.

About Author

Leave A Reply