भारत के नागरिक कुलभूषण जाधव पर कोई भी फैसला पाकिस्तान के कानून के मुताबिक ही होगा – सरताज अजीज

0
पाकिस्तान के यूनियन होम मिनिस्टर ने कहा है कि भारत के नागरिक कुलभूषण जाधव पर कोई भी फैसला पाकिस्तान के कानून के मुताबिक ही होगा। वहीं, नवाज शरीफ के फॉरेन अफेयर्स एडवाइजर सरताज अजीज ने कहा कि इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) ने जाधव को कॉन्स्यूलर एक्सेस दिए जाने पर कोई ऑर्डर नहीं दिया है। बता दें कि जाधव को पिछले साल पाकिस्तान ने जासूस बताकर गिरफ्तार किया था। वहां की मिलिट्री कोर्ट ने उन्हें फांसी की सजा सुनाई है। भारत ने इसे ICJ में चैलेंज किया था। ICJ ने फाइनल ऑर्डर तक जाधव की फांसी पर रोक लगा दी है।
– पाकिस्तान के होम मिनिस्टिर (जिन्हें इंटीरियर मिनिस्टर कहा जाता है) खान ने शनिवार को आर्मी कैडेट्स से जुड़े एक प्रोग्राम में कहा- जाधव का मामला अंजाम तक पहुंचाया जाएगा और उसे सजा पाकिस्तान के कानून के मुताबिक दी जाएगी।
– बता दें कि जाधव को फांसी की सजा का एलान वहां की मिलिट्री कोर्ट ने किया है। जाधव को सजा के खिलाफ अपील करने के लिए 40 दिन का वक्त दिया गया था और ये टाइम लिमिट खत्म हो चुकी है। लेकिन, ICJ जाधव की सजा पर अमल पर रोक लगा चुका है। कोर्ट ने कॉन्स्यूलर एक्सेस देने की बात भी कही थी हालांकि पाकिस्तान इसे नकार रहा है।
कॉन्स्यूलर एक्सेस पर कोई ऑर्डर नहीं
– नवाज शरीफ के फॉरेन अफेयर्स एडवाइजर सरताज अजीज ने भी शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। कहा- ICJ ने कॉन्स्यूलर एक्सेस पर पाकिस्तान को कोई ऑर्डर जारी नहीं किया है। अजीज ने कहा- हमें सिर्फ फांसी पर अगले ऑर्डर तक रोक लगाने को कहा गया है लेकिन कॉन्स्यूलर एक्सेस पर कोई ऑर्डर नहीं दिए गए हैं।
– अजीज के मुताबिक, जाधव आम भारतीय की तरह नहीं है, वो इंडियन नेवी में अफसर था और बाद में जासूस बन गया। वो पाकिस्तान में जासूसी कर रहा था और उसका मकसद हमारे देश में आतंकवाद को बढ़ाना था।
नवाज ने की भारत से सीक्रेट डील: अपोजिशन
– जाधव मामले में आईसीजे के ऑर्डर के बाद अपोजिशन नवाज सरकार पर हमलावर नजर आ रहा है। इमरान खान की पार्टी ‘पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ’ यानी पीटीआई के नेता शफकत महमूद ने कहा- इंडियन स्टील किंग सज्जन जिंदल से शरीफ ने क्या बात की? उनके बीच क्या सीक्रेट डील हुई? नवाज संसद में आकर सच्चाई बताएं।
– महमूद ने कहा- सरकार ने ऐसा वकील क्यों हायर किया जो ब्रिटेन में रहता है और जो लंदन क्वींस काउंसल जो कतर में है, उसकी वकालत करता है और जिसने कभी इंटरनेशनल कोर्ट का मुंह भी नहीं देखा था। इसका मतलब साफ है कि जिंदल और शरीफ के बीच कोई डील हुई थी।
ICJ के फैसले से कोई हैरानी नहीं
– एक और अपोजिशन लीडर शिरीन मजारी ने कहा, “हमें ICJ में मात मिली, इसमें हैरानी की कोई बात नहीं है। सरकार ने जानबूझकर वही किया जो भारत चाहता था। इस खेल की शुरुआत तभी हो गई थी, जब सज्जन जिंदल नवाज से मिलने पाकिस्तान आए थे।”
– “सच्चाई तो ये है कि पाकिस्तान की लीगल टीम वहां भारत की मदद करने गई थी। हमने एक अनाड़ी को ICJ भेज दिया था।”
हम तो पूरे वक्त बोल भी नहीं पाए
– पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी यानी पीपीपी की वाइस प्रेसिडेंट शेरी रहमान ने कहा- ICJ में हमारे वकील 90 मिनट की दलीलें भी पेश नहीं कर पाए।
वकीलों की नई टीम बनाएगा पाकिस्तान
– नवाज शरीफ के फॉरेन अफयर्स एडवाइजर सरताज अजीज ने शुक्रवार को कहा- ICJ में देश का पक्ष रखने के लिए वकीलों की नई टीम बनाई जाएगी। जो टीम ICJ गई थी, उसने अपनी तरफ से बेहतरीन काम किया।
Share.

About Author

Leave A Reply