भारत ने पाकिस्तान के 50 स्टूडेंट्स को लौटा दिया

0
भारत ने पाकिस्तान के 50 स्टूडेंट्स को लौटा दिया है। ये स्टूडेंट्स एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत एक एनजीओ के बुलावे पर यहां आए थे। सरकार ने एनजीओ से कहा कि ये वक्त इस तरह के एक्सचेंज प्रोग्राम के लिए सही नहीं है। बता दें कि पिछले साल सर्जिकल स्ट्राइक के वक्त भी पाकिस्तानी स्टूडेंट्स का एक ग्रुप भारत में था। तब एक फीमेल स्टूडेंट ने सुषमा स्वराज से मदद मांगी थी। स्टूडेंट्स को पूरी हिफाजत के साथ पाकिस्तान भेज दिया गया था।
– बुधवार को इंडियन फॉरेन मिनिस्ट्री ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इसमें पुंछ के कृष्णा घाटी सेक्टर में सोमवार को हुए पाकिस्तान के हमले के बारे में मीडिया को ब्रीफ किया गया। बता दें कि इस हमले में भारत के दो जवान शहीद हो गए थे। शहीदों के शवों के साथ बर्बरता भी की गई थी। देश में इस घटना को लेकर काफी गुस्सा है।
– इस घटना के बारे में जानकारी देते वक्त फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन गोपाल बागले ने पाकिस्तानी स्टूडेंट्स को लौटाए जाने की जानकारी भी दी।
– बागले ने कहा- एक एनजीओ के बुलावे पर पाकिस्तान के 50 स्टूडेंट्स का ग्रुप भारत आया था। हमने एनजीओ को एडवाइज दी कि फिलहाल, इस तरह के एक्सचेंज के लिए माहौल सही नहीं है। लिहाजा, पाकिस्तानी स्टूडेंट्स को उनके देश वापस भेज दिया जाना चाहिए।
किसने बुलाया था?
– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, पाकिस्तान के इन स्टूडेंट्स को इनविटेशन दिल्ली बेस्ड एक एनजीओ Routes2Roots ने दिया था। दोनों देशों के बीच ये प्रोग्राम ‘एक्सचेंज फॉर चेंज’ थीम पर आधारित है। पाकिस्तानी स्टूडेंट्स को आगरा भी जाना था।
– खास बात ये है कि सोमवार को ही पुंछ में भारतीय जवानों के साथ बर्बरता का मामला सामने आया था। लिहाजा, सरकार ने इस प्रोग्राम को इजाजत नहीं दी। सभी स्टूडेंट्स को वापस लाहौर भेज दिया गया।
पिछले साल सुषमा से मांगी थी मदद
– उड़ी हमले के बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक की थी। दोनों देशों के बीच तनाव था। उस दौरान भी पाकिस्तान के 20 स्टूडेंट्स जिनमें लड़कियां भी शामिल थीं, भारत में मौजूद थे।
– इस ग्रुप की लीडर आलिया हरीर ने सुषमा स्वराज से ट्विटर पर मदद मांगी। आलिया ने लिखा था- हम हिफाजत के साथ घर वापसी को लेकर बहुत परेशान हैं। प्लीज आप हमारी मदद करें।
– इस पर सुषमा ने जवाब दिया था, “आपकी हिफाजत को लेकर मुझे जानकारी है। क्योंकि बेटियां सबकी सांझी होती हैं।” बाद में इन स्टूडेंट्स को पूरी हिफाजत के साथ पाकिस्तान पहुंचा दिया गया।
– पाकिस्तान पहुंचकर आलिया ने सुषमा को ट्वीट किया, “आपकी बेटी कहलाने का शर्फ (सम्मान) हासिल है, और क्या चाहिए? डेलिगेशन हिफाजत से घर पहुंच चुका है। और बेहद खुश है। आपका लख-लख शुक्रिया।”
Share.

About Author

Leave A Reply