About us

सरकार ने रक्षा क्षेत्र में भी 100 फीसदी एफडीआई को हरी झंडी दे दी

0
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में यहां हुई एक उच्च स्तरीय बैठक में फार्मा, सुरक्षा एजेंसी, रक्षा तथा एकल ब्रांड खुदरा कारोबार में एफडीआई के नियमों में भी बड़े बदलाव किए गए हैं। कहा जा रहा है कि अब भारत एफडीआई के लिए दुनिया की सबसे मुक्त अर्थव्यवस्था बन गया है।
रक्षा क्षेत्रों में 100 फीसदी विदेशी निवेश : सरकार ने बड़े फैसले में फार्मा, रक्षा, फूड ई-कॉमर्स और एयरलाइंस जैसे क्षेत्रों में 100 प्रतिशत एफडीआई अनुमति दे दी है। नए नियमों के मुताबिक रक्षा क्षेत्र में शत प्रतिशत विदेशी निवेश सरकारी मंजूरी के जरिए जबकि बाकी सभी क्षेत्रों में ये ऑटोमैटिक रूट के जरिए किया जाएगा।
फैसले के बाद बोले मोदी : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नीति में किए गए बदलाव से देश में और अधिक निवेश बढ़ने के साथ ही रोजगार के अवसरों में भी बढ़ोतरी होगी, जिससे अर्थव्यवस्था को लाभ होगा।
मोदी ने अपने ट्‍वीट में कहा कि सरकार के इस फैसले से भारत एफडीआई के लिए अब दुनिया की सबसे अधिक खुली अर्थव्यवस्था बन गया है। अधिकांश क्षेत्रों में स्वत: मार्ग से निवेश करने की अनुमति प्रदान की गई है। इससे देश में निवेश बढ़ेगा, रोजगार के नए अवसर सृजित होंगे और अर्थव्यवस्था को लाभ होगा। उन्होंने कहा कि पिछले दो साल में उनकी सरकार ने कई क्षेत्रों के लिए एफडीआई नीति में सुधार किये हैं। इसकी बदौलत वित्त वर्ष 2015-16 में देश में रिकॉर्ड 55.46 अरब डॉलर का निवेश आया।
क्या कहता है उद्योग जगत : भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी ने कहा कि एफडीआई नियमों का उदारीकरण सरकार की सुधारों के प्रति प्रतिबद्धता को दर्शाता है। इससे निवेशकों को यह भरोसा मिला है कि कारोबार सुगमता सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। बनर्जी ने कहा कि एफडीआई नियमों से खाद्य प्रसंस्करण, रक्षा उत्पादन, फार्मास्युटिकल्स और नागर विमानन क्षेत्रों में नया बड़ा निवेश आकर्षित करने में मदद मिलेगी।
जानिए क्या होगा असर
1. भारत की अर्थव्यवस्था पर व्यापक असर पड़ेगा।
2. भारत अब दुनिया की सबसे खुली अर्थव्यवस्था बन गया है।
3. सख्त नियमों के चलते अटके हुए प्रोजेक्ट फिर शुरू हो सकेंगे।
4. लचीले नियमों से विदेशी निवेश बढ़ना तय है।
5. डिफेंस फार्मा, सिंगल ब्रांड रिटेलिंग, इंश्योरेंस और एविएशन जैस क्षेत्रों में 100 प्रतिशत एफडीआई से रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे।
6. एविएशन में 100 प्रतिशत एफडीआई से भारत के एशिया के रीजनल एविएशन हब बनने के रास्ते खुल जाएंगे।
7. अब एप्पल और बाकी बड़ी कंपनियां देश में अपने खुद के स्टोर्स खोल सकेंगी।
8. फार्मा में छूट से मेडिकल सुविधाएं और दवाएं सस्ती हो सकती हैं।
9. इसका नकारात्मक असर यह हो सकता है कि जिन क्षेत्रों में 100 प्रतिशत एफडीआई की छूट दी गई है, वहां पहले से काम कर रही भारतीय कंपनियों को इससे नुकसान उठाना पड़ सकता है।
Share.

About Author

Leave A Reply