साध्वी रेप केस में सीबीआई कोर्ट ने डेरा चीफ को 20 साल की सजा सुनाई

0
साध्वी रेप केस में सीबीआई कोर्ट ने डेरा चीफ को 20 साल की सजा सुनाई। इस दौरान रोहतक शहर से बाहर सुनारिया की जेल में टेम्पररी कोर्ट बनाई गई। जज हेलिकॉप्टर से वहां पहुंचे। जब वकील जिरह कर रहे थे तो गुरमीत राम रहीम हाथ जोड़े खड़ा रहा। इसके बाद जैसे ही सजा सुनाई गई तो कुर्सी पकड़कर रोने लग। फिर नीचे पैर पसार कर बैठ गया और फूट-फूटकर रोने लगा।
1) जज कोर्ट पहुंचे
– सोमवार दोपहर 2.20 बजे सीबीआई की स्पेशल कोर्ट के जज जगदीप लोहान 2 कोर्ट स्टाफ के साथ सुनारिया जेल पहुंचे।
– जेल की लाइब्रेरी में टेम्पररी कोर्ट रूम बनाया गया था।
2) कुर्सी के पास खड़ा था बाबा
– जज के कोर्ट रूम में पहुंचते ही दोषी गुरमीत राम रहीम को बुलाया गया। उसे वहां एक कुर्सी के पास खड़ा कर दिया गया।
– बाबा हाथ जोड़कर खड़ा हो गया। वकीलों की जिरह के दौरान वह इसी मुद्रा में खड़ा रहा।
3) दोनों पक्षों को 10-10 मिनट का वक्त मिला
– कोर्ट के स्टाफ ने कागज वगैरह देखे। कार्यवाही शुरू हो गई। जज जगदीप सिंह ने दोनों पक्षों को बात रखने के लिए 10-10 मिनट का वक्त दिया।
4) सीबीआई ने अधिकतम सजा की अपील की
– सीबीआई ने राम रहीम को अधिकतम सजा देने की अपील की। बता दें कि राम रहीम के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 (रेप), 509 (महिला की इज्जत से खिलवाड़) और 506 (डराने-धमकाने) के तहत केस था।
– सीबीआई के वकीलों ने कहा कि डेरा में कई महिलाओं से रेप हुआ और यह सब तीन साल (1999 से 2002) तक चलता रहा।
– राम रहीम के वकील ने कहा कि बाबा सोशल वर्कर हैं। वे लोगों की भलाई के लिए काम करते हैं। इसलिए जज को रहम दिखाना चाहिए। बाबा के वकील ने यह भी कहा कि हमने सफाई अभियान, ब्लड डोनेशन कैंप लगाए।
5) बहस पूरी हुई तो आंखों में आया पानी
– इसके बाद जब फैसला सुनाने की बारी आई तो बाबा की आंखों में पानी आ गया। वो कभी कम सजा सुनाने की बात कहने लगा तो कभी 7 साल-7 साल कहने लगा। यानी वह 10 साल की बजाय 7 साल की सजा ही चाहता था।
– तकरीबन 20 मिनट में जज ने तय कर दिया कि बाबा को रेप के दो दोनों मामलों में 10-10 साल यानी 20 साल की सजा भुगतनी होगी। यह सुनते ही गुरमीत राम रहीम फफक-फफक कर रोने लगा।
– रोते-रोते कुर्सी पकड़कर नीचे बैठ गया और पैर पसार कर लाइब्रेरी में बनाए गए कोर्ट रूम में विलाप करने लगा।
6) जज ने क्या कहा?
– जज ने अपने फैसले में कहा कि जब किसी शख्स को लोग बाबा मानते हैं और वह ऐसा काम करता है तो उसे कतई माफ नहीं किया जा सकता। राम रहीम ने अपने असर का गलत इस्तेमाल कर गलत काम किया था।
– जज ने उस पर कुल 58 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया।
7) डॉक्टरों को बुलाया गया और कराया गया मेडिकल
– बाबा की यह हालत देखकर वहीं खड़े डॉक्टर को बुलाकर मेडिकल करवाया गया। डॉक्टर ने बाद में उसे फिट घोषित कर दिया।
– राम रहीम जाने को राजी नहीं था लेकिन पुलिसकर्मी उसे जेल में ले गए। राम रहीम को जेल में कैदी नम्बर 1997 दिया गया है।
– जज ने जेल अफसरों को उसे कैदी की वर्दी देने और इसके अलावा उसका कोई और पर्सनल कपड़ा जेल के अंदर नहीं ले जाने के भी निर्देश दिए।
गुमनाम चिट्ठी से शुरू हुआ था मामला
– 2002 में एक साध्वी ने गुमनाम चिट्ठी लिखी। इसमें कहा गया था कि कैसे डेरा सच्चा सौदा के अंदर लड़कियों का सेक्शुअल हैरेसमेंट होता था।
– यह चिट्ठी पंजाब और हरियाणा कोर्ट को भी भेजी गई थी। इसके बाद डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के खिलाफ यौन शोषण का केस शुरू हुआ। सीबीआई ने जांच शुरू की।
– 15 साल बाद सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने गुरमीत राम रहीम सिंह को दोषी करार दिया।
24 में से 2 ही साध्वियां के नाम सामने आए
– 2002 में एक गुमनाम चिट्ठी सामने आने के बाद रेप केस सामने आया।
– CBI ने डेरा सच्चा सौदा के मैनेजर से 1999 से 2001 तक की साध्वियों की लिस्ट मांगी।
– 24 साध्वियों के नाम सामने आए। 18 ट्रेस हुईं। 2 साध्वियां ही कोर्ट तक पहुंचीं।
क्या हैं साध्वी रेप केस की 5 अहम कड़ियां?
1) दो साध्वियों के अलग-अलग बयान हुए। दोनों में समानता मिली।
2) एक सेवादार के रिश्तेदार परमजीत के भी 164 बयान हुए।
3) कोर्ट के सामने डेरे से जुड़ी घटनाओं की कड़ी से कड़ी जुड़ती गई।
4) मेडिकल एविडेंस नहीं थे। ‘रीलेट चेन ऑफ इवेंट्स’ ही केस का बेस बना।
5) बाबा की दलीलें सही नहीं पाई गईं।
डेरा सच्चा सौदा प्रमुख को आज सुनारिया जेल में सजा सुनाई जाएगी। इसके चलते पंचकूला के साथ-साथ सिरसा, रोहतक सहित कई जिलों में हाई अलर्ट पर है। इसके चलते रविवार को पंचकूला सेक्टर-23 और सेक्टर-15 स्थित बाबा के डेरे नाम चर्चा घर को सील कर दिया गया है। जब अंदर जाकर देखा तो पता चला की राम रहीम का ये डेरा कितना आलीशान है, जिसके हर कमरे में स्टाइलिश डिजाइंड इंटीरियर और महंगा फर्नीचर भी रखा हुआ है। पुलिस को तलाशी में पता चला कि डेरे के टॉप फ्लोर पर दो अलग-अलग वीवीआईपी रूम और एक हॉल बनाया गया था। इस फ्लोर पर किसी भी पदाधिकारी को आने की परमिशन नहीं है। यहां इन आलीशान कमरों में महंगा इंटीरियर लगवाया गया है। इसके साथ-साथ फर्नीचर, सोफे सहित कई मंहगे बेड भी मिले हैं। यहां पर रखा गया सारा सामान इम्पोर्टेड हैं। जिसकी कीमत लाखों में हैं। जब भी कभी भी गुरमीत सिंह हिमाचल की ओर जाता था, तो गुप्त रूप से यहां रूकता था। वो इन कमरों में ही रुकता था। इसके अलावा यहां कोई भी नहीं रुकता था।
 राम रहीम अपने डेरे में जीता था महाराजा जैसी जिंदगी
 बलात्कार का दोषी ठहराए जाने के बाद गुरमीत सिंह राम रहीम की अय्याशियों के कई किस्से सामने आने लगे हैं। डेरे में रह चुके उसके कर्मचारी अब सामने आकर किस्से बता रहे हैं। राम रहीम अपने डेरे में महाराजा जैसी जिंदगी जी रहा था। शीश महल में रहता था। डेरे में उसके ऐशो-आराम के सभी साधन मुहैया कराए जा रहे थे। उसे राजाओं जैसी पोशाकें पहनने का शौक था और उसके लिए ऐसी कई महंगी पोशाकें रोजाना तैयार करवाई जाती थीं, जिन्हें बाबा खुद ही डिजाइन करवाता था। इसके अलावा बाबा के पास 200 से ज्यादा महंगी लग्जरी गाड़ियां थीं। इनमें कई गाड़ियां कई-कई करोड़ की थीं, जिनके डिजाइन भी बाबा ने खुद तैयार करवाए थे।
 नाम चर्चा घर से मिले भारी मात्रा में लाठियां-डंडे
रविवार को ड्यूटी मजिस्ट्रेट के साथ शहर में सेक्टर-23 और सेक्टर-15 में बने नाम चर्चा घरों को सील किया गया है। सेक्टर-23 के नाम चर्चा घर में पुलिस को चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में लाठियां और डंडे बरामद हुए हैं। यहां से भारी मात्रा में छाते भी मिले हैं। जिन्हें इन लोगों ने हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया था।
 बाबा की गुफा में थी 200 से ज्यादा साध्वियां
बाबा जहां रहता था, उसे कहा तो गुफा जाता था, लेकिन असल में वह जगह भी किसी राजमहल से कम नहीं थी। यहां तक कि उसने अपने लिए राजाओं की तरह हरम तक बनवा रखा था, जिसमें 200 से ज्यादा सुंदर साध्वियों को रखा गया था। इनमें से 30 साध्वियां रोजाना बाबा की हर तरह की सेवा में तैनात की जाती थी। ये साध्वियां अब डेरे से गायब हो चुकी हैं। बाबा को खाने-पीने का काफी शौक था। बाबा को एक्टर और गायक बनने का शौक था। गुरमीत के पूर्व ड्राइवर खट्टा सिंह ने यह सारी जानकारी देते हुए बताया कि बाबा 200 से ज्यादा साध्वियों के साथ रहता था। यहां पुरुषों के आने पर पाबंदी थी।
Share.

About Author

Leave A Reply