About us

गुरमीत राम रहीम की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत फरारी के दौरान 38 दिनों तक पंजाब पुलिस के अफसरों के संपर्क में रही

0
सिरसा के डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत फरारी के दौरान 38 दिनों तक पंजाब पुलिस के अफसरों के संपर्क में रही। पंजाब पुलिस के कुछ अफसरों को हनीप्रीत के बारे में पूरी जानकारी थी। वहां का एक युवा आईपीएस अफसर हनीप्रीत को बचाव का रास्ता दिखाता रहा। इसके बावजूद पंजाब पुलिस के इन अफसरों ने हरियाणा पुलिस को कोई जानकारी नहीं दी। इसे लेकर अब हरियाणा पुलिस और पंजाब पुलिस में ठन गई है।
– हनीप्रीत को रास्ता दिखाने वालों में पंजाब के एक युवा आईपीएस की अहम भूमिका बताई जा रही है। उसी की सलाह पर हनीप्रीत कुछ दिन पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में रही।
– यह भी सामने रहा है कि राजस्थान पुलिस भी हनीप्रीत की मदद करती रही है। इसका खुलासा खुद डीजीपी बीएस संधू ने किया था।
– उधर, अफवाह उड़ी कि हनीप्रीत 2 दिन से पंजाब एरिया में थी। उसके लिंक में जीरकपुर और डेराबस्सी के कई नेता विधायक थे, जिनकी शह पर वह यहां रह रही थी।
– बात यह भी उड़ी कि वह पंजाब पुलिस की हिरासत में है। पुलिस उसे सुरक्षा देती रही।
– सरकार ने बयान जारी कर कहा कि हनीप्रीत को पंजाब पुलिस ने हिरासत में नहीं रखा था। क्योंकि पंजाब में उसके खिलाफ कोई केस ही दर्ज नहीं था।
 पंजाब पुलिस की भूमिका
– रिकॉर्ड के मुताबिक, हनीप्रीत की गिरफ्तारी जीरकपुर के पास से हरियाणा पुलिस एसआईटी ने की। पंचकूला के पुलिस कमिश्नर एएस चावला ने गिरफ्तारी में पंजाब पुलिस की भूमिका के बारे में सवाल पूछने पर कई बार टालमटोल किया।
– उन्होंने कहा कि इस बारे में जल्द सच्चाई सामने आएगी। उन्होंने कहा कि हनीप्रीत फरार होने के बाद जहां-जहां रही, वहां जिन लोगों ने मदद की, उन पर भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
– पंचकूला कमिश्नर ने कहा कि इनोवा गाड़ी से हनीप्रीत के साथ हिरासत में ली गई महिला बठिंडा की रहने वाली है। जबकि बठिंडा के एसएसपी ने इससे इनकार किया है।
 पंजाब पुलिस इतनी मेहरबान क्यों
– दूसरी तरफ पंचकूला के पुलिस कमिश्नर एएस चावला ने कहा कि इस मामले में पंजाब पुलिस की भूमिका की जांच करवाई जाएगी।
– अब सवाल उठ रहे हैं कि जब हनीप्रीत पर देशद्रोह का मामला दर्ज है और वह देश में वाॅन्टेड थी तो उसे पंजाब पुलिस ने क्यों नहीं पकड़ा और उस पर इतनी मेहरबान क्यों रही।
– पंचकूला के पुलिस कमिश्नर एएस चावला का कहना है कि मंगलवार को हनीप्रीत को जीरकपुर के पास पटियाला रोड से एसीपी मुकेश ने गिरफ्तार किया।
– उन्होंने हनीप्रीत की गिरफ्तारी में किसी भी तरीके से पंजाब पुलिस की किसी तरह की भूिमका होने की बात नहीं कही और टालमटोल कर गए। इस बारे में पंजाब पुलिस के बड़े अफसर भी चुप्पी साधे हुए हैं।
 इंटरव्यू आते ही उड़े हरियाणा पुलिस के होश
– 25 अगस्त से फरार हनीप्रीत की गिरफ्तारी के मामले में हरियाणा पुलिस अपनी पीठ भले ही थपथपा रही है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि इसमें अहम रोल पंजाब पुलिस का रहा है।
– टीवी चैनलों पर हनीप्रीत के इंटरव्यू जारी होने और उसके सरेंडर करने की जानकारी जैसे मीडिया पर सामने आई तो हरियाणा पुलिस के होश उड़ गए। क्योंकि खबर यह भी सामने रही थी कि पंजाब पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया और वह हरियाणा पुलिस को उसे सुपुर्द कर देगी।
– इसके बाद हरकत में आई हरियाणा पुलिस ने पंजाब पुलिस के आला अधिकारियों से संपर्क किया।
– बताया जा रहा है कि दोनों प्रदेशों के आला पुलिस अधिकारियों की बातचीत के बाद उसे जीरकपुर के पास हरियाणा पुलिस ने गिरफ्तार किया जाना दिखाया।
– हरियाणा पुलिस पहले हनीप्रीत के दिल्ली में जाकर फिर अंडर ग्राउंड होने के मामले में किरकिरी झेल चुकी थी।
 अब पूछताछ: बयानों की थाने में हो रही रिकॉर्डिंग
– आईजी ममता सिंह और आईजी एएस चावला सवालों की एक लिस्ट लेकर थाने में बने एक कमरे में उससे पूछताछ कर रहे हैं। इसकी पूरी वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जा रही है।
– सूत्रों का कहना है कि हनीप्रीत से कई सवाल किए जा रहे हैं। जिनमें मुख्य रूप से, वह पिछले 38 दिनों में कहां-कहां रही, कौन कौन उसके संपर्क में था ?, पवन, आदित्य इंसा से आखिरी बार कब बात हुई और वे कहां हैं ?, साजिश जब बन रही थी तो क्या-क्या बातें हुई ?, रोहतक की सुनारिया जेल से निकलने के बाद वह पुलिस के सामने क्यों नहीं आई ?, पंचकूला में दंगा करवाने के लिए कितने रुपए भेजे गए ?, कौन-कौन अहम व्यक्ति हैं जिनका दंगा करवाने में अहम रोल रहा ?, 45 मेंबरी कमेटी में शामिल लोगों में किस-किस का इस मामले में रोल हो सकता है ?, डेरा प्रमुख की दंगा करवाने में क्या भूमिका है ?, क्या उन्हें इस बारे पता था ?, 45 मेंबरों की मीटिंग में क्या डेरा प्रमुख शामिल हाेते थे और यदि होते थे तो क्या बातें होती थीं? आदि प्रमुख सवाल शामिल हैं।
 अब आएगा सच सामने: अशोक बब्बर
– हनीप्रीत पुलिस की गिरफ्त में गई है, यह बहुत अच्छा हुआ। जो कुछ भी हुआ अच्छा ही हुआ। अब सारा सच भी सामने आएगा। यह कहना है हनीप्रीत के मामा अशोक बब्बर का।
– सिरसा में रहने वाले हनीप्रीत के मामा अशोक बब्बर से जब पूछा गया कि हनीप्रीत पुलिस की गिरफ्त में चुकी है, इस बारे में आप क्या कहना चाहेंगे।
– अशोक बब्बर ने कहा, ‘आज सुबह 9 बजे से ही टीवी चैनल में हनीप्रीत के बारे में खबर अौर इंटरव्यू रहा था। तभी से यह आभास होने लगा था कि हनीप्रीत अब जल्द ही हाईकोर्ट में सरेंडर करेगी या पुलिस की गिरफ्त में आएगी। आखिरकार पंचकूला पुलिस की टीम ने हनीप्रीत को पंजाब पुलिस की मदद से अपनी गिरफ्त में ले लिया। जो कुछ भी हुआ है वह अच्छा ही हुआ है। अब मामले का सारा सच भी सामने आने लगेगा।’
Share.

About Author

Leave A Reply