About us

छात्रों को कॉलेज व यूनिवर्सिटी के आसपास 500 मीटर के दायरे में प्रचार करने पर प्रतिबंध रहेगा

0
प्रदेश में छह साल बाद होने जा रहे छात्रसंघ चुनावों की प्रक्रिया सोमवार से भले ही शुरू हो रही हो, लेकिन चुनाव को लेकर कोई माहौल छात्रों के बीच बनता नहीं दिख रहा है। इसकी वजह चुनाव में लगाए गए तमाम प्रतिबंध हैं। छात्रों को कॉलेज व यूनिवर्सिटी के आसपास 500 मीटर के दायरे में प्रचार करने पर प्रतिबंध रहेगा। साथ ही चुनाव की प्रक्रिया 23 अक्टूबर से शुरू होकर 30 अक्टूबर को खत्म हो जाएगी, 30 को ही मतदान होंगे और इसी दिन जीते हुए पदाधिकारियों की घोषणा कर दी जाएगी।
 – प्रदेश में सोमवार से विश्वविद्यालय और कॉलेज स्तर पर होने वाले छात्र संघ चुनावों का आगाज हो जाएगा। चुनाव प्रक्रिया के प्रथम चरण के तहत सोमवार को विश्वविद्यालय/महाविद्यालय में संरक्षक छात्र संघ गठन की अधिसूचना जारी करेंगे। इसके साथ ही छात्र संघ गठन के लिए पदों के आरक्षण की घोषणा भी सोमवार को ही की जाएगी।
 – प्रदेश में लगभग छह वर्ष बाद छात्रसंघ चुनाव हो रहे है। इसके लिए उच्च शिक्षा विभाग ने पूरा टाइम टेबल जारी कर दिया है। छात्रसंघ चुनावों के लिए सोमवार 23 अक्टूबर से शुरू होने वाली प्रक्रिया 30 अक्टूबर तक चलेगी। 30 अक्टूबर को ही मतदान के साथ ही परिणाम की घोषणा और जीते हुए पदाधिकारियों को शपथ ग्रहण कराया जाएगा। छह साल बाद हो रहे छात्रसंघ चुनाव में प्रत्याशियों का प्रचार-प्रसार करना मुश्किल हो गया है।
 – उच्च शिक्षा विभाग ने सख्ती दिखाते हुए शैक्षणिक संस्थानों के 500 मीटर के दायरे को इन गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया है। पूरे चुनाव के दौरान प्रत्याशी कॉलेज व यूनिवर्सिटी के आसपास प्रचार नहीं कर सकेंगे। साथ ही मतदाताओं को लुभाने के लिए कोई सभा भी नहीं कर सकेंगे। विभाग ने ये निर्देश सभी परिवेक्षकों को दे दिए हैं। शिकायत मिलने पर सीे प्रत्याशियों पर कार्रवाई करने को कहा गया है।
 – यूनिवर्सिटी टीचिंग डिपार्टमेंट (यूटीडी) व सरकारी और अनुदान प्राप्त कॉलेजों में 30 अक्टूबर को छात्रसंघ चुनाव होना है। चुनावी गतिविधियों पर नजर रखने के लिए विभागाध्यक्ष और कॉलेज के प्रिंसिपल को पर्यवेक्षक बनाया है। प्रत्याशियों को वोटिंग के 48 घंटे पहले प्रचार-प्रसार व सभाएं बंद करने को कहा गया है। साथ ही निर्वाचन स्थल और वोटिंग वाली जगह को साफ रखना है।
– परिवेक्षकों को प्रचार सामग्री तुरंत हटाने को कहा गया है। इसके लिए उन्हें अलग से व्यवस्था करने पर जोर दिया है। उच्च शिक्षा विभाग ने आचार संहिता भी जारी कर दी है। शिकायत मिलते ही कॉलेज प्रबंधन को इसके बारे में पुलिस को सूचना देना है। इसके अलावा प्रत्याशियों को चुनाव से बाहर भी किया जा सकता है।
 यह रहेगी सख्ती
– प्रचार-प्रसार को लेकर प्रत्याशी न तो फ्लैक्स और न प्रिंट पोस्टर का इस्तेमाल कर सकते हैं।
– हाथ से बने पोस्टर भी संस्थानों से 500 मीटर दूर लगाना होंगे।
– प्रत्याशी जाति-समुदाय के नाम पर वोट नहीं मांग सकेंगे।
– होस्टल व कॉलेजों में प्रचार-प्रसार के अलावा इनसे जुड़ी सामग्री भी बांटने पर रोक।
– प्रचार-प्रसार व सभाओं के लिए लाउड स्पीकर के इस्तेमाल पर रोक।
– प्रचार के लिए वाहन और पशुओं का इस्तेमाल प्रतिबंधित।
– निवार्चन स्थल पर इलेक्ट्रॉनिक गेजेट्स (मोबाइल, स्मार्ट वॉच) नहीं ला सकेंगे।
छात्रसंघ चुनावों का टाइम टेबल
– 23 अक्टूबर : पदों के लिए आरक्षण की घोषणा।
– 24 अक्टूबर : विभागवार/कक्षावार मतदाताओं की सूची का प्रकाशन।
– 25 अक्टूबर : कक्षावार कक्षा प्रतिनिधि के लिए प्रत्याशी का नामांकन।
– 26 अक्टूबर: मतदाताओं की प्रकाशित सूची पर दावा आपत्ति।
– 27 अक्टूबर : मतदाताओं की संशोधित अंतिम सूची का प्रकाशन।
– 28 अक्टूबर : कक्षा प्रतिनिधि के प्रत्याशियों का नामांकन, नामांकन पत्रों की जांच।
– 29 अक्टूबर : कक्षा प्रतिनिधि प्रत्याशियों के द्वारा छात्रसंघ गठन के लिए प्रचार प्रसार।
– 30 अक्टूबर- मतगणना एवं परिणाम की घोषणा।
Share.

About Author

Leave A Reply