About us

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा की गई टिप्पणी का पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी जवाब दिया

0
  • रविवार को भिण्ड में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा की गई टिप्पणी का पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी जवाब दिया है। दरअसल जनआशीर्वाद यात्रा के दौरान शिवराज सिंह ने ने दिग्विजय सरकार पर शिक्षकों को शिक्षाकर्मी और गुरुजी बनाए जाने पर सवाल उठाए थे और कहा था कि दिग्विजय ने ऐसे करके सबसे बड़ा पाप किया है। लेकिन हमने उसे धो दिया है। शिवराज के इस बयान पर अब दिग्विजय ने ट्वीट कर शिवराज पर हमला बोला है और व्यापमं घोटाले का आरोप लगाया है।

    दिग्विजय सिंह ने पहले ट्वीट में कहा कि– अगर शिवराजजी मैंने मप्र के गांवों के शिक्षा कर्मी बना कर पाप किया तो क्या आपने मप्र के बाहर से आयातित युवकों को व्यापमं द्वारा पैसा ले कर भर्ती कर पुण्य का काम किया? शर्म करो। आपका अहं और अहंकार आपको ढुबायेगा।

    दूसरा ट्वीट-बक़ौल शिवराज सिंह चौहान जी मा मुख्य मंत्री जी। मैंने मप्र के गांवों के लड़कों लड़कीयों को शिक्षा कर्मी बना कर बड़ा “पाप” किया। सुन रहे हो मेरे द्वारा किये गये “पाप” के शिक्षक कर्मी भाईयों और बहनों? शिवराज को सबक़ सिखाओ। और मुझे भरोसा है आप इस अहंकारी को सबक़ सिखाओगे।

    क्या है मामला:जनआशीर्वाद यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को भिंड में थे। यहां आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा था कि शिक्षा की पूरी व्यवस्था चौपट करने का सबसे बड़ा पाप कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने किया है। शिक्षक की जगह शिक्षाकर्मी और गुरुजी रख दिए, जिनका मानदेय या सैलरी 500 रुपया या 1200 रुपए थी। मैं मानता हूं यह सबसे बड़ा पाप था, क्योंकि इससे भावी पीढ़ी का भविष्य बर्बाद हुआ।

Share.

About Author

Leave A Reply