About us

ट्रिपल तलाक की प्रथा बंद नहीं होती तो सरकार इस पर बैन लगाने के लिए कानून भी बना सकती है – वेंकैया नायडू

0
यूनियन मिनिस्टर वेंकैया नायडू ने कहा है कि अगर मुस्लिम कम्युनिटी में ट्रिपल तलाक की प्रथा बंद नहीं होती तो सरकार इस पर बैन लगाने के लिए कानून भी बना सकती है। नायडू ने शनिवार को अमरावती में कहा- ये उस सोसायटी (मुस्लिम) पर डिपेंड करता है, और बेहतर होगा कि वो खुद इस पर (ट्रिपल तलाक) बदलाव करें। अगर, ऐसा नहीं होता है तो एक वक्त ऐसा भी आएगा जब सरकार को ट्रिपल तलाक पर बैन के लिए कानून लाना पड़ेगा।
– नायडू महाराष्ट्र के अमरावती में एक मीटिंग में बोल रहे थे। उन्होंने कहा, “ये किसी के पर्सनल मैटर में दखलंदाजी नहीं है। लेकिन, हमें ये भी सोचना होगा कि ये मामला महिलाओं को इंसाफ दिलाने से भी जुड़ा हुआ है।” – “सभी महिलाओं के पास बराबर के अधिकार होने चाहिए। कानून की नजर में सब समान हैं। और, असली मुद्दा भी यही है।”
हिंदू कम्युनिटी के लिए भी तो कानून बने
– इन्फॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग मिनिस्टर ने इस मौके पर हिंदुओं की गलत परंपराओं को रोकने के लिए बनाए गए कानूनों का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, हिंदुओं ने चाइल्ड मैरिज पर बात की बात में पार्लियामेंट ने कानून बनाकर इस पर बैन लगा दिया। सती प्रथा के मामले में भी यही हुआ। जहां, महिलाएं पति की मौत के बाद खुद भी जान दे देतीं थीं। हिंदुओं ने खुद आवाज उठाई और इसको रोकने के लिए कानून बनाया गया।”  – “तीसरा मामला दहेज प्रथा का है। दहेज प्रथा पर रोक के लिए सख्त कानून बना और हिंदुओं ने इसे स्वीकार किया। दरअसल, जब हिंदू कम्युनिटी को लगा कि ये बातें सोसायटी के लिए अच्छी नहीं हैं तो उन्होंने इस पर विचार किया और रोक भी लगाई। अभी इस दिशा में कुछ और सुधार किए जाने हैं।”
आखिर इंसान तो इंसान हैं
– वेंकैया ने आगे कहा, “इंसान तो इंसान हैं। उन्हें हिंदू, मुसलमान या क्रिश्चियन में बांटकर नहीं देखा जाना चाहिए। और, महिलाओं से किसी भी तरह का भेदभाव नहीं होना चाहिए। मुझे खुशी होती है जब दुनिया भारत की आवाज सुनती है। कुलभूषण जाधव मामले में यही हुआ। हमारी आवाज दुनिया ने सुनी।”
Share.

About Author

Leave A Reply