About us

देश के कई इलाकों में भारी बारिश की वजह से बाढ़ के हालात बने

0
देश के कई इलाकों में की वजह से बाढ़ के हालात बने हुए हैं। मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, असम, उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड में इस वजह से जनजीवन पर बुरा असर पड़ा है। गंगा, ब्रह्मपुत्र, नर्मदा आदि नदियां उफान पर है। बारिश से जुड़ी हर जानकारी… 
* पिछले कई दिनों से लगातार हो बारिश से मध्यप्रदेश समेत देश के अन्य हिस्सों में जनजीवन बेहाल हो गया है। यहां वर्षाजनित हादसों में अब तक 22 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं।
* विदिशा जिले में पिछले नौ दिनों से हो रही बारिश के चलते बेतवा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।
* इंदौर के मुसाखेड़ी इलाके में सोमवार को 2 घंटे में 5 इंच बारिश हुई। बारिश का पानी घरों में पानी घुस आया है। शहर में पिछले 48 घंटे से रुक-रुक कर बारिश हो रही है।
* महाकाल की नगरी उज्जैन में शिप्रा नदी ऊफान पर है। यहां कई मंदिर पानी में डूबने के समाचार है।
* सोमवार को महाराष्ट्र में चार लोगों की मौत हो गई।
* मौसम विभाग के मुताबिक अगले 48 घंटों में पश्चिमी राजस्थान और गुजरात के कुछ हिस्सों में पहुंचने के साथ ही पूरे देश को अपनी जद में ले लेगा।
* उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में बाढ़ का कहर, कई गांव बाढ़ की चपेट में।
* महाराष्ट्र के नासिक, कोल्हापुर और नंदुरबार जिलों में पिछले तीन दिनों से भारी बारिश हो रही है। नासिक में गोदावरी नदी पूरे उफान पर है। नदी किनारे बने कई मंदिर बाढ़ में डूब गए हैं। सतारा के कोयना नदीं पर बना संगमनगर पुल पानी में डूब चुका है, जिसकी वजह से 35 गांवों का संपर्क राज्य के दूसरे हिस्सों से टूट गया है।
* असम में ब्रह्मापुत्र नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। बाढ़ की वजह से राज्य में एक लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित जगहों पर ले जाया गया है। बाढ़ से अब तक 2 लोगों की मौत हो चुकी है।
* वाराणसी में भी गंगा का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। घाट किनारे मौजूद कई मंदिर पानी में डूबे।
* इलाहाबाद में दोनों नदियों में आई बाढ़ ने यहां के तमाम निचले इलाकों डूब गए हैं। यहां सबसे ज्यादा दिक्कत संगम पर पूजा-अर्चना के लिए देश के कोने-कोने से आने वाले श्रद्धालुओं को हो रही है।
*  दक्षिण गुजरात के सूरत से लेकर अहमदाबाद तक के इलाके में अतिवृष्टि की खासी आशंका है। इस वजह से स्थानीय प्रशासन को मौसम विभाग ने सतर्क कर दिया है।
Share.

About Author

Leave A Reply