About us

नए पौधे रोपे गए तब भी एेसी हरियाली तैयार होने में 50 साल से कम समय नहीं लगेगा

0
विधानसभा ने हरियाली उजाड़ने पर 17 लाख रुपए से अधिक रकम खर्च कर दी। दस दिनों तक विधानसभा के पीछे के इलाके में नगर निगम की आरी चली। अब अरेरा हिल्स स्थित ढ़ाई एकड़ का इलाका बंजर नजर आ रहा है। यहां विधायकों के लिए लग्जरी फ्लैट बनाने का प्लान था। मुद्दा सामने आने के बाद दूसरी बार किरकिरी हुई तो काम बंद करवा दिया गया।
विशेषज्ञों का कहना है कि इन हजारों पेड़ांे से जो हरियाली उजड़ी उसकी भरपाई अरसे तक नहीं हो सकती। जहां कभी हरे-भरे पेड़ थे वहां अब सिर्फ सूखे ठूंठ दिख रहे हैं। सीपीए का कहना है कि इन पेड़ों के बदले 3572 पौधे रोपे गए हैं। लेकिन इन पौधों की बराबर देखभाल हुई और इस दौरान सूखने वाले पौधों की जगह नए पौधे रोपे गए तब भी एेसी हरियाली तैयार होने में 50 साल से कम समय नहीं लगेगा।
एक्सपर्ट कमेंट: 7-8 साल लगातार देखभाल हुई तो ही लग पाएंगे नए पेड़
1960 तक संरक्षित वन श्रेणी में आने वाले इस क्षेत्र में कोहा अर्जुन, जामुन, कसोद आदि के पेड़ प्राकृतिक रूप से लगे थे। इनकी उम्र 30 से 80 वर्ष से अधिक थी। अब 5 हजार पौधे लगाने होंगे। लगातार 7 से 8 साल तक देखभाल हुई तो कहीं 50 साल बाद इन काटे गए पेड़ों की भरपाई हो पाएगी। -सुदेश बाघमारे, सेवानिवृत वन अधिकारी
Share.

About Author

Leave A Reply