About us

नरेंद्र मोदी अमेरिकी प्रेसिडेंट बराक ओबामा से मिलने व्हाइट हाउस पहुंच चुके

0
नरेंद्र मोदी अमेरिकी प्रेसिडेंट बराक ओबामा से मिलने व्हाइट हाउस पहुंच चुके हैं। यह उनका चौथा अमेरिकी दौरा और ओबामा से 7वीं मुलाकात है। दोनों नेताओं के बीच कई मुद्दों पर बातचीत होनी है। कयास लगाए जा रहे हैं कि इस मुलाकात में न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप (NSG) मुख्य मुद्दा होगा। 2 घंटे से ज्यादा चलने वाली इस मुलाकात में अमेरिकी वाइस प्रेसिडेंट जो बिडेन भी उनके साथ होंगे। इस दौरान कई समझौते होने की संभावना है। इसके बाद मोदी-ओबामा ओवल ऑफिस में 15 मिनट की प्रेस ब्रीफिंग करेंगे। पढ़िए LIVE अपडेट…
किन मुद्दों पर हो सकते हैं बड़े समझौते
– क्लाइमेट चेंज और क्लीन एनर्जी पार्टनरशिप।
– सिक्युरिटी और डिफेंस को-ऑपरेशन। इकोनॉमिक ग्रोथ।
– ईंधन भरने और मरम्मत के लिए अमेरिकी विमान भारतीय ठिकानों का इस्तेमाल कर सकेंगे।
– भारतीय सैन्य विमान भी अमेरिकी ठिकानों का इस्तेमाल कर सकेंगे।
न्यूक्लियर क्लब पर नजर
– न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप की मेंबरशिप के लिए भारत 12 मई को अप्लाई कर चुका है। हालांकि, इसे लेकर पहले पाकिस्तान ने चीन की मदद से अड़ंगा लगा दिया था।
– मेक्सिको और स्विट्जरलैंड एनएसजी के मेंबर्स हैं। माना जा रहा है कि न्यूक्लियर क्लब के लिए सपोर्ट जुटाना ही दोनों देशों का दौरा अचानक तय होने के पीछे का मकसद है।
– एनएसजी में भारत को मेंबरशिप मिलने से उसके दूसरे देशों के साथ कारोबार के रास्ते खुल जाएंगे।
अमेरिका ने भारत को लौटाईं 660 करोड़ की मूर्तियां
– ब्लेयर हाउस में हुए एक प्रोग्राम में अमेरिका ने 200 ज्यादा मूर्तियां भारत को लौटाईं। ये मूर्तियां चोरी होकर विदेश में बेच दी गई थीं।
– अमेरिका द्वारा लौटाई गई मूर्तियों की कुल कीमत करीब 100 मिलियन डॉलर(660 करोड़ रुपए) है।
– मोदी ने इस मौके पर कहा, ”कुल लोगों के लिए ये केवल पैसों की बात हो सकती है। लेकिन यूएस के लिए ये उससे कहीं ज्यादा है। ये हमारे कल्चर और हैरिटेज का हिस्सी है।”
– इनमें देवी-देवताओं की कुछ मूर्तियां ब्रॉन्ज और टेरा-कोटा की हैं। कुछ ऐसे स्टैचू भी हैं जो 2 हजार साल से ज्यादा पुराने हैं।
– इन मूर्तियों को भारत के प्राचीन और फेमस धार्मिक स्थानों से चुराया गया था।
– इनमें चेन्नई के सिवन मंदिर से चुराई गई संत मानिकविच्वकर की मूर्ति भी है। जो चोल काल (850 ईसा पश्चात से 1250 ईसा पश्चात) के तमिल कवि थे। इसकी कीमत करीब 10 करोड़ है।
– अमेरिका के होम सिक्युरिटी मिनिस्टर जेह जॉनसन के मुताबिक मोदी को लौटाई गई अधिकतर मूर्तियां ‘ऑपरेशन हिडन आइडल’ के दौरान बरामद की गई थीं।
– यह जांच 2007 में शुरू हुई थी। इस मामले में आर्ट ऑफ द पास्ट गैलरी का मालिक सुभाष कपूर हिरासत में लिया गया था। उसपर भारत में मुकदमा चल रहा है।
डेविड कैमरन, फ्रांस्वा ओलांद और शी जिनपिंग की कैटेगिरी में मोदी
– नरेंद्र मोदी इस स्टेट विजिट के साथ डेविड कैमरन, फ्रांस्वा ओलांद और शी जिनपिंग जैसे उन नेताओं की कैटेगिरी में आ गए हैं जो ओबामा के मेहमान बने हैं।
– मोदी से पहले शी जिनपिंग सितंबर 2015 में यूएस स्टेट विजिट पर गए थे।
– फरवरी 2014 में फ्रांस के प्रेसिडेंट फ्रांस्वा ओलांद भी यूएस स्टेट विजिट पर आए थे।
– इनके अलावा डेविड कैमरन, शिंजो आबे, हू जिंताओ जैसे नेता स्टेट विजिट पर यूएस आ चुके हैं।
मनमोहन सिंह थे ओबामा के पहले मेहमान
– नरेंद्र मोदी शायद आखिरी स्टेड हेड हैं जो प्रेसिडेंट ओबामा के मेहमान बनेंगे।
– 2009 में ओबामा पहली बार यूएस प्रेसिडेंट बने थे। वे 2013 में दोबारा प्रेसिडेंट बने। जनवरी 2017 में उनका टर्म पूरा हो रहा है।
– ओबामा के प्रेसिडेंट बनने के बाद यूएस की स्टेट विजिट पर जाने वाले पहले नेता मनमोहन सिंह थे।
– मनमोहन नवंबर 2009 में यूएस स्टेट विजिट पर गए थे।ट
क्या है मोदी का यूएस में प्रोग्राम
– आज मोदी व्हाइट हाउस में ओबामा से मुलाकात करेंगे।
– पहले डेलिगेशन लेवल पर फिर वन-टू-वन होगी बात।
– इसके बाद दोनों नेता ज्वाइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस को ब्रीफ करेंगे।
– प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद लंच पर मोदी यूएस लीडर्स के गेस्ट होंगे।
– शाम को अमेरिका के टॉप कॉरपोरेट लीडर्स से मिलेंगे।
– इस डेलिगेशन में अमेजन सीईओ जेफ बेजोस भी हैं।
– यहां मोदी का फोकस अमेरिका से एफडीआई लाने पर होगा।
– मोदी 40th यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल को ऐड्रेस करेंगे।
– मोदी का एक कल्चरल इवेंट में भी जाने का प्रोग्राम है।
बुधवार को करेंगे यूएस कांग्रेस को ऐड्रेस
– यूएस कांग्रेस के ज्वाइंट सेशन को ऐड्रेस करेंगे
– 8 जून की दोपहर मोदी वॉशिंगटन से मेक्सिको सिटी के लिए निकलेंगे।
कौन-कौन से एग्रीमेंट होंगे?
– डिफेंस, सिक्युरिटी, एनर्जी जैसे सेक्टर में हुए डेवलपमेंट्स का रिव्यू।
– डिफेंस सेक्टर और टेक्नोलॉजी ट्रांसफर पर एग्रीमेंट होंगे।
– अमेरिकी कंपनियों के CEOs से मुलाकात करेंगे।
Share.

About Author

Leave A Reply