About us

नर्मदा सेवा यात्रा 37 वें दिन होशंगाबाद पहुंची

0
 यहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जलमंच से सेठानी घाट पर लोगों को नर्मदा को स्वच्छ रखने का संकल्प दिलाया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि नर्मदा किनारे बसे शहरों में 1500 करोड़ की लागत से सीवेज प्लांट लगेंगे। टेंडर उन्हीं कंपनियों को मिलेंगे जो 10 साल तक उसे मेंटेन करेंगी।
– यात्रा के पहुचने पर मां नर्मदा अभिषेक और महाआरती हुई। पहले मुख्यमंत्री ने नर्मदा नदी के संरक्षण एवं स्वच्छता के लिए हर-हर नर्मदे के जयकारे लगवाकर संकल्प दिलाए।
– सीएम ने बेतवा नदी के गिरते जलस्तर पर चिंता जताई। उन्होंंने कहा कि नर्मदा नदी के दोनों घाटों पर सीवेज के लिए पाइपलाइन डाली जाएगी। सीवेज ट्रीटेमेंट प्लांट लगाए जाएंगे।
– उन्होंने मां नर्मदा का बचाए रखने के लिए जरूरी है कि दोनों घाटों के किनारे फलदार पौधे लगाए जाएंगे। पौधे किसान ही लगाएंगे। सरकार 4 साल तक सब्सिडी देगी। सरकार ऐसा सिस्टम तैयार करेगी किसान के फल खरीदे।
गूंजे नमामि देवी नर्मदे के जयकारे
– नर्मदा संरक्षण के लिए नर्मदा सेवा यात्रा सोमवार को दोपहर करीब 1.30 बजे चांदला घाट से कलश यात्रा के साथ शुरू हुई। बांद्राभान में विधानसभा अध्यक्ष डाॅ. सीतासरन शर्मा ने कन्या पूजन किया।
– इसके बाद यात्रा होशंगाबाद के वरिष्ठ जन पार्क पहुंची। सेठानी घाट के जलमंच से मुख्यमंत्री और अतिथियों ने मां नर्मदा का अभिषेक किया।
जो मां की सेवा करते हैं वे सुखी रहते हैं- रमेशचंद्र अग्रवाल
– इस मौके पर दैनिक भास्कर के चेयरमैन रमेशचंद्र अग्रवाल ने कहा कि, शिवराज सिंह चौहान किसके मुख्यमंत्री हैं, यह मुझे आज तक समझ नहीं आया। वे किसी के मामा हैं तो किसी के भाई हैं तो किसी के बेटे हैं।
– उन्होंने कहा किमां नर्मदा से मेरा पुराना नाता है। मेरी पत्नी 25 साल लगातार मां नर्मदाजी के दर्शन -और स्नान करने आतीं थीं। आज जो कुछ है सब मां का दिया हुआ है। जो मां की सेवा करते हैं वे सुखी रहते हैं।
– शिवराजजी जो संकल्प लेते हैं उसे पूरा करते ही हैं। सिंहस्थ में 5 करोड़ श्रद्धालुओं के आने की बात की थी, लेकिन 8 करोड़ पहुंचे। नर्मदा की स्वच्छता का संकल्प भी पूरा होगा।
मां का ऋण कोई नहीं उतार सकता
– रावतपुरा सरकार ने कहा कि नर्मदाजी की स्वच्छता के लिए शिवराज सिंह का संकल्प पूरा होगा। संत समाज उनके साथ है।
– आर्च बिशप लियो कार्नेलियो ने कहा सभी मिशनरी स्कूलों में पर्यावरण-नदियों की सुरक्षा एवं स्वच्छता पर भी ध्यान दिया जाए।
– फिल्म निर्माता निर्देशक प्रकाश झा ने कहा कि मां ऋण कोई नहीं उतार सकता है। मां नर्मदा ने हमें दिया है। वो है तो हम हैं।
– पद्मश्री विजयदत्त श्रीधर ने कहा कि बच्चे के जन्म के बाद महिलाएं कुआं पूजती है। संदेश यह है कि जल है तो कल है।
Share.

About Author

Leave A Reply