About us

भोपाल से उज्जैन जा रही पैसेंजर ट्रेन में आतंकी हमला

0
भोपाल से उज्जैन जा रही पैसेंजर ट्रेन में मंगलवार सुबह आतंकी हमला हुआ। भोपाल से 70 किमी दूर जबड़ी स्टेशन के पास ट्रेन में पीछे से दूसरे जनरल कोच में एक के बाद एक दो धमाके हुए। इसमें 10 यात्री घायल हो गए। धमाकों में अमोनियम नाइट्रेट का इस्तेमाल हुआ था। खुफिया एजेंसियों के अनुसार हमले को आतंकी संगठन आईएस के मॉड्यूल ने अंजाम दिया है। देश में पहली बार आईएस का कोई मॉड्यूल आतंकी हमले में कामयाब रहा है।

– ट्रेन में सवार चश्मदीदों के मुताबिक दो मिनट पहले ही चार लोग उतरकर भागे थे। इसके बाद ब्लास्ट हो गया।
– इसी इनपुट को जोड़कर पुलिस ने पिपरिया में चलती बस से कानपुर निवासी दानिश अख्तर उर्फ जफर, आतिश और अलीगढ़ निवासी सैयद मीर हुसैन को पकड़ा। इनके पास ट्रेन के टिकट और ब्लास्ट के वीडियो मिले हैं।
– मध्य प्रदेश के आईजी लॉ एंड ऑर्डर मकरंद देउस्कर ने आतंकी हमले की पुष्टि की है।
– यूपी के डीजीपी जावीद अहमद ने बताया कि दानिश मॉड्यूल का सरगना है। 14 से 15 लोगाें का मॉड्यूल है। जिस सूटकेस मे विस्फोट हुआ वह भोपाल में रखा गया था।
– वहीं एमपी के सीएम ने देर रात कहा कि ट्रेन में हुई वारदात के पीछे आतंकवादी संंगटन ISIS का हाथ है। उन्हाेंने ये भी कहा कि प्लांट किए गए बम की तस्वीर सीरिया भेजी गई थी।
– सुबह सीएम कोे अफसरों ने बताया कि यह आतंकी हमला हो सकता है तो उन्होंने कड़ा रुख अख्तियार किया। कहा- प्रूव करें कि ये आतंकी हमला है या नहीं। अगर आतंकी हमला है तो शाम तक रिजल्ट चाहिए।
देर रात सैफुल्लाह की एनकाउंटर में मौत
यूपी एटीएस आतंकी सैफुल्लाह को पकड़ने लखनऊ के ठाकुरगंज पहुंची। दोपहर साढ़े 3 बजे घर घेरा। सैफुल्लाह ने सरेंडर से इनकार करते हुए फायरिंग शुरू कर दी। रात 9 बजे कुछ कमरों की छत काटी गई। देर रात करीब दो बजे के बाद सैफुल्लाह की मौत की खबर आई।
पिपरिया में पकड़ा गया संदिग्ध
सोशल मीडिया पर वायरल हुआ एक फोटो पिपरिया से गिरफ्तार आतंकी का बताया जा रहा है। हालांकि, पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की है।
विस्फोट के मकसद से आए थे आतंकी
– अमोनियिम नाइट्रेट का इस्तेमाल आतंकी बड़े विस्फोट के लिए करते हैं। भोपाल-उज्जैन पैसेंजर में भी इसी का इस्तेमाल किया गया। इसे तीन संदिग्ध चार अलग-अलग बैग में रखकर ट्रेन में लाए थे।
– एक ही बैग में लो इंटेंसिटी का विस्फोट हुआ। मकसद ट्रेन में ही विस्फोट करना था। इंटेलिजेंस ब्यूरो से मिले इनपुट के बाद मप्र एटीएस काफी समय से इस पर काम कर रही थी। इसी वजह से उसे घटना के बाद इनपुट मिलते गए और पिपरिया से तीन को पकड़ लिया गया।
साढ़े 5 घंटे में मप्र से यूपी तक इस तरह जुड़ीं आतंक की कड़ियां
1. ब्लास्ट होते ही खुफिया तंत्र सक्रिय हुआ। तेलंगाना पुलिस ने मप्र और उप्र पुलिस को अहम इनपुट दिया।
2. मप्र पुलिस ने करीब 1.30 बजे पिपरिया में चलती बस से तीन युवकों को अरेस्ट किया। इन्होंने लखनऊ, कानपुर और इटावा में साथियों के नाम बताए।
3. यूपी एटीएस ने कार्रवाई शुरू की। कानपुर से फैसल खां, इमरान और इटावा से फकरे आलम धरा गया।
4. कानपुर से अरेस्ट आतंकियों के लैपटॉप से आईएस से जुड़े वीडियो व साहित्य मिला। लखनऊ-कानपुर आईएस खुरासान मॉड्यूल के सदस्य हैं।
आंखों देखी: खून से लथपथ बच्ची तड़प रही थी, सीने में हो गया था छेद
– उज्जैन के जगदीश पटवा ने बताया कि मैं ट्रेन के पीछे से पांचवें कोच में था। 9.37 बजे ट्रेन जबड़ी स्टेशन से रवाना हुई। स्टेशन गुजरते ही पिछले कोच में सवार चार युवक चलती ट्रेन से कूदकर भाग गए।
– लोग कुछ समझ पाते इससे पहले ही कोच से धुआं निकलने लगा। 250 फीट आगे जाकर ट्रेन रुक गई। यात्री खेतों में भाग रहे थे। तभी कोच में फिर धमाके की आवाज आई।
– बाहर खून से लथपथ एक बुजुर्ग तड़प रहे थे। थोड़ी ही दूर एक बच्ची तड़प रही थी। उसके सीने में छेद हो गया था। मैं यह मंजर देख नहीं सका।
Share.

About Author

Leave A Reply