About us

मौसम विभाग ने सोमवार को कहा कि मानसून के अगले 24 घंटे यानी मंगलवार तक केरल तट से टकराने का अनुमान

0

दक्षिण-पश्चिम मानसून जल्द ही केरल तट पर दस्तक देगा। मौसम विभाग ने सोमवार को कहा कि मानसून के अगले 24 घंटे यानी मंगलवार तक केरल तट से टकराने का अनुमान है। दूसरी ओर, निजी एजेंसी स्काईमेट ने इसके सोमवार को ही केरल पहुंचने का दावा किया। कुछ दिन पहले मौसम वैज्ञानिकों ने कहा था कि देश के उत्तरी इलाकों में आंधी-तूफान के असर से इस बार मानसून 4-5 दिन पहले आ सकता है। बता दें कि केरल में आमतौर पर मानसून आने की तारीख 1 या 2 जून होती है। तभी से देश में बारिश का मौसम शुरू होता है।

मानसून 29 मई को केरल पहुंचेगा: आईएमडी

– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, मौसम विभाग (आईएमडी) के एडिशनल डिप्टी डायरेक्टर मत्युंजय महापात्रा ने कहा कि सोमवार सुबह जारी हुए बुलेटिन में बताया गया है कि मानसून अगले 24 घंटे में केरल पहुंचेगा।

– मौसम विभाग ने अनुमान जताया है कि दक्षिण अरब सागर में मानसून की स्थित मजबूत है। मंगलवार सुबह तक इसके मालदीव, केरल के तटीय इलाके, तमिलनाडु, बंगाल की खाड़ी और अंडमान-निकोबार के ऊपर छा जाने की उम्मीद है।

केरल के ऊपर मानसून की स्थिति बनी: स्काईमेट

– मौसम से जुड़ी भविष्यवाणी करने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट के सीईओ जतिन सिंह ने कहा, ”केरल के ऊपर मानसून आने जैसी स्थिति बन चुकी है। इस लिहाज से हम कह सकते हैं कि देश में बारिश के मौसम की शुरुआत हो चुकी है। मानसून 28 मई को ही केरल पहुंच गया है।”

– स्काईमेट के वाइस प्रेसिडेंट महेश पलवत ने कहा कि केरल के सभी मौसम केंद्रों पर बीते दो दिन से बारिश रिकॉर्ड की गई है। हवा की गति भी मौसम के मुताबिक है, ऐसे में लगता है कि मानसून केरल पहुंच चुका है।

कैसे होती है मानसून आने की पुष्टि?

– मौसम विभाग के मुताबिक, अगर केरल और उससे सटे दूसरे राज्यों के 14 मौसम केंद्रों में से 60% पर दो दिन तक लगातार 2.5 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड होती है तो समझा जाता है कि मानसून ने दस्तक दे दी है।

इस बार मानसून सामान्य रहने की उम्मीद

 – मौसम विभाग की ओर से जारी पूर्वानुमान के मुताबिक, इस साल देश में मानसून की गतिविधियां सामन्य रहेंगी। जून से सितंबर के बीच 97% बारिश की उम्मीद जताई गई है।
Share.

About Author

Leave A Reply