About us

मौसम विभाग ने 24 घंटे के भीतर तूफान और बारिश की आशंका जताई

0

मौसम के बदले मिजाज के चलते मंगलवार को उत्तर भारत और हिमालयी इलाकों में तेज आंधी-तूफान के साथ बारिश हुई। शिमला और फरीदाबाद समेत कई जगहों पर ओले भी गिरे। मौसम विभाग ने उत्तराखंड में भी 24 घंटे के भीतर तूफान और बारिश की आशंका जताई है। हिमाचल के लाहौल-स्पीति और केदारनाथ में भारी बर्फबारी हुई। हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान समेत 13 राज्यों में तूफान और भारी बारिश का अलर्ट है। इससे पहले दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा में सोमवार को धूल भरी आंधी और राजस्थान के बीकानेर में बवंडर आया। इससे सड़कों पर विजिबिलिटी घट गई। कई पेड़ गिरने से वाहनों को नुकसान हुआ। बता दें कि 2 मई को उत्तर प्रदेश और राजस्थान समेत करीब 14 राज्यों में तूफान से 125 से ज्यादा लोग मारे गए थे, जबकि 300 लोग जख्मी हुए थे।

बीते 24 घंटे में कैसे बदला मौसम?

1) हिमाचल: शिमला में ओले गिरे, बारिश की चेतावनी

मौसम विभाग ने केलॉन्ग में 24 घंटे में भारी बारिश और बर्फबारी की चेतावनी दी है। दोपहर को शिमला और कांगड़ा में जमकर ओले गिरे। उससे पहले सुबह लाहौल-स्पीति में बर्फबारी हुई। कई इलाकों में आंधी के साथ तेज बारिश भी हुई।

– ओले गिरने से शिमला में तापमान सामान्य से 4-5 डिग्री नीचे पहुंच गया। सोमवार को यहां न्यूनतम तापमान 12.8 डिग्री था।

2) दिल्ली-एनसीआर: रात को आंधी और बारिश का अलर्ट

– दिल्ली-एनसीआर समेत आसपास के जिलों- भिवानी, रोहतक, हिसार, कैथल, जींद, कुरुक्षेत्र, करनाल, बागपत, पानीपत, मेरठ, मुजफ्फरनगर, बिजनौर में रात को तूफान और बारिश का अलर्ट जारी हुआ है। वहीं, फरीदाबाद में शाम को ओले गिरे। चंडीगढ़ में दोपहर को भारी बारिश हुई।

– सोमवार रात दिल्ली, रोहतक, झज्जर, गुड़गांव, बागपत, मेरठ और गाजियाबाद में 70 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से धूल भरी आंधी चली। दिल्ली में कई जगह पेड़ और खंभे गिर गए। कुछ इलाकों में हल्की बारिश भी हुई। आईजीआई एयरपोर्ट पर 8 उड़ानों पर असर पड़ा।

3) उत्तराखंड: कई जिलों में तेज बारिश की आशंका

केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम में भारी बर्फबारी हुई। चारधाम यात्रा अस्थाई तौर पर रोकनी पड़ी। रुद्रप्रयाग, चमोली, पिथौरागढ़ और उत्तरकाशी तेज बारिश का अनुमान है।

– राजधानी देहरादून में शाम को घने बादल छाए, 24 घंटे में तेज आंधी के साथ बारिश की चेतावनी जारी हुई है।

4) जम्मू-कश्मीर:लैंडस्लाइड में लड़की की मौत

– जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में बारिश के चलते सोमवार को लैंडस्लाइड हुआ। पुलिस के मुताबिक, इसमें एक लड़की जिंदा दफन हो गई। मृतका की पहचान नौरीन बेगम के तौर पर हुई है। हादसे के वक्त वह पहाड़ी के पास काम कर रही थी। सूचना पर बचाव दल ने मलबा हटाकर शव को बाहर निकाला और परिजनों के सुपुर्द कर दिया।

3 राज्यों में 4 की मौत

मध्य प्रदेश के मुरैना में आंधी के कारण मकान, दीवार गिरने से एक महिला की मौत हो गई। 15 लोग जख्मी हुए हैं। वहीं, त्रिपुरा में मकान गिरने से बुजुर्ग महिला की मौत हो गई। राजस्थान के हनुमानगढ़ में भी एक व्यक्ति की मौत की खबर है।

अभी 6 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

– असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा

7 राज्य, 2 केंद्र शासित प्रदेशों में तूफान के साथ तेज बारिश का अलर्ट

– जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और दो केंद्र शासित प्रदेश- चंडीगढ़ और दिल्ली में गरज-चमक के साथ तूफान और भारी बारिश होने की संभावना है। वहीं, पश्चिमी राजस्थान में धूलभरी आंधी आ सकती है। इसके लिए एंबर कलर की चेतावनी जारी हुई है।

पाकिस्तान से राजस्थान आया बवंडर

– राजस्थान के बीकानेर में खाजूवाला से सटे बार्डर इलाके से शाम को करीब पांच बजे अचानक बवंडर उठा और देखते ही देखते पूरे कस्बे को धूल से पाट दिया। कुछ देर बाद बिल्कुल अंधेरा हो गया। पाकिस्तान की ओर से उठा यह बवंडर साेमवार शाम राजस्थान और फिर वहां से होते हुए देर रात दिल्ली-एनसीआर पहुंचा।

यह हालात इसलिए

– गर्मी के मौसम में यह बदलाव होता ही है। लेकिन इस बार पश्चिमी विक्षोभ (वेस्टर्न डिस्टर्बेंस) का असर बढ़ा है, हरियाणा के ऊपर हवा का दबाव बना हुआ है। तापमान सामान्य से ज्यादा है। ऊपरी हवा में नमी भी है।

– हर साल इन दिनों में सबसे पहले यूरोप और अफ्रीका के बीच स्थित भूमध्य सागर (मेडिटेरियन सी) में 25 डिग्री से ज्यादा तापमान होने पर उठता है। वहां से यह तुर्की, इराक, ईरान से होता हुआ जम्मू-कश्मीर पहुंचता है। यहां पहाड़ों से टकराकर यह दिल्ली की तरफ मुड़ जाता है। इसके बाद यह रास्ते में आने वाले देश के हर राज्य में असर डालता है। 4 प्वॉइंट में जाने इसकी चाल।

क्या है एंबर कलर चेतावनी?

चेतावनी के 4 ग्रेड को अलग-अलग कलर कोड से दर्शाया जाता है।
1. ग्रेड ग्रीन: इस चेतावनी में कोई एक्शन लेने की जरूरत नहीं होती।
2. ग्रेड यलो: स्थिति पर नजर रखी जानी होती है।
3. ग्रेड एंबर: सरकारी एजेंसियों को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रखा जाता है।
4. ग्रेड रेड:एजेंसियों को एक्शन लेना होता है।

Share.

About Author

Leave A Reply