About us

रानीपुरा में चुनरी की आड़ में बेचे जा रहे पटाखों का खुलासा

0
रानीपुरा में चुनरी की आड़ में बेचे जा रहे पटाखों का  खुलासा करने के बाद गुरुवार सुबह 7.30 बजे ही पुलिस की टीम उन दुकानों पर पहुंच गईं, जहां पटाखों की बिक्री हो रही थी। भास्कर स्टिंग में जिस दुकान का खुलासा किया गया उसी दुकान और पास के गोदाम से 28 बोरे भरकर पटाखे जब्त किए गए। ताबड़तोड़ कार्रवाई के कारण पूरे क्षेत्र में हड़कंप मच गया।
– सीएसपी बीपीएस परिहार, टीआई सेंट्रल कोतवाली कर्णिसिंह शक्तावत के साथ दो थानों का फोर्स सुबह परमानंद फायर वर्क्स पर पहुंचा। यहां दुकान जैसे ही खोली वैसे ही अंदर के सभी रैक पटाखों से भरे मिले। इनमें लाखों के पटाखे भरे हुए थे। दुकानदार परमानंद बालचंदानी और उसके बेटे भल्ला और अशोक को गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद पुलिस और प्रशासन की टीम अन्य दुकानों पर पहुंची। यहां से भी रोल कैप व अन्य पटाखे जब्त किए गए। गतवर्ष आठ लोगों की मौत हुई थी रानीपुरा में पुलिस चौकी के सामने चुनरी और खिलौनों की आड़ में अवैध रूप से बेचे जा रहे पटाखों ने छह महीने पहले सात आठ लोगों की जान ले ली थी। 18 अप्रैल को रानीपुरा में दिलीप पटाखा हाउस में लगी भीषण आग में सात लोग जिंदा जल गए थे। डीआईजी ने टीआई सहित छह लोगों को लाइन अटैच किया, पटाखा दुकान मालिक जिंदा जल गया, गैरइरादतन हत्या का केस बना, एसडीएम, तहसीलदार सहित चार को हटाया गया। प्रशासन ने रहवासी क्षेत्र में पटाखों के भंडारण और बिक्री पर पूरी तरह रोक लगा दी। पटाखा व्यापारियों के स्थाई लाइसेंस को सवा साल पहले ही रद्द किए जा चुके थे। उन्हें व्यापार करने के लिए रीजनल पार्क और राऊ में रहवासी इलाके से दूर दुकानों के लिए जगह उपलब्ध कराई गई। बावूजद दीपावली आते ही यहां फिर से पटाखे बिकने लगे।
Share.

About Author

Leave A Reply