About us

विराट का संबंध मध्यप्रदेश के कटनी शहर से

0
भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान और आज क्रिकेट की दुनिया के सबसे ‘हॉट स्टार’ विराट कोहली के बारे में अकसर कहा जाता रहा है कि वे दिल्ली के हैं लेकिन यह सच नहीं है। विराट का संबंध के कटनी शहर से तब से रहा है, जब 1947 में भारत-पाकिस्तान के बंटवारे के वक्त विराट के दादा और दादी ने कटनी को अपना मुकाम बनाया था। यहीं पर विराट के पिता की पढ़ाई भी हुई। यह बात अलग है कि उनके पिता व्यवसाय के सिलसिले में दूसरे शहरों में भाग्‍य आजमाते हुए दिल्ली में जाकर बस गए और इसके बाद उन्होंने अपना कारोबार स्थापित किया।  
विराट कोहली और उनके पिता का कटनी से नाता जरूर छूट गया, लेकिन अभी भी विराट के चाचा और चाची कटनी में ही रह रहे हैं। विराट की चाची आशा कोहली जो कटनी की महापौर भी रह चुकी हैं, उनके मुताबिक प्रेम कोहली (विराट के पिता) की स्कूली शिक्षा कटनी के गुलाबचंद स्कूल से हुई। पढ़ाई के बाद प्रेम कोहली का परिवार सारंगपुर चला गया।
विराट के चाचा गिरीश ने बताया कि उनके भाई साहब (प्रेम कोहली) के भीतर व्यवसाय करने का गुण बहुत पहले से था। वे बड़ा कारोबार स्थापित करना चाहते थे, जो सारंगपुर जैसे छोटे शहर में संभव नहीं था, इसीलिए उन्होंने दिल्ली का रुख किया। वे 15 साल तक नैरोबी में भी रहे और वहां से लौटने के बाद दिल्ली के ही होकर रह गए। यही वजह है कि विराट को दिल्ली का ही माना जाता है, ज‍बकि उनका नाता कटनी से भी रहा है।
गिरीश कोहली के मुताबिक, विराट 11 साल पहले तब कटनी आए थे, जब उनके जवान बेटे की मौत हो गई थी, इसके बाद उनका कटनी नहीं आना हुआ। जब से विराट के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरुआत हुई है, तब से उनकी केवल दो ही मर्तबा उनसे बात हो पाई, जबकि विराट की मां से अकसर बातें होती रहती हैं।
 विराट की चाची आशा ने यह भी बताया कि विराट का परिवार दिल्ली के पश्चिमी विहार में रहता था, जहां से उसे एयरपोर्ट तक जाने के लिए लंबा रास्ता तय करना पड़ता था, लिहाजा उन्होंने पांच महीने पहले ही गुड़गांव के समीप नया घर खरीदा है, जो काफी शानदार है। आशा के अनुसार, हम विराट की व्यस्तता से परिचित हैं, इसी कारण उनसे बात नहीं कर पाते। उन्होंने यह भी बताया कि न्यूजीलैंड दौरे की वजह से विराट अपनी बड़ी बहन की शादी तक में शरीक नहीं हो पाए थे।
Share.

About Author

Leave A Reply