शादी के 18 साल बाद एक मां ने अपने बच्चों और पति की अपने प्रेमी संग हत्या करा दी

0
2 अक्टूबर को यहां हुए एक ही परिवार के सामूहिक हत्याकांड को आज 12 दिन हो गए हैं। शादी के 18 साल बाद एक मां ने अपने बच्चों और पति की अपने प्रेमी संग हत्या करा दी। खास बात ये है कि इस मामले हर दिन नए खुलासे हुए। पुलिस ने जिन हथियारों से वारदात को अंजाम दिया जप्त कर लिए हैं। आरोपी महिला अब तक हत्याकांड में शामिल होने से इंकार करती रही लेकिन, आखिरकार 11वें उसने अपना जुर्म कबूल लिया है। – पुलिस ने शिवाजी पार्क में एक परिवार के पांच लोगों की हत्या के आरोप में गिरफ्तार आरोपियों की निशानदेही पर अलग-अलग जगहों से वारदात में इस्तेमाल किए गए 2 चाकू, 3 जोड़ी ग्लब्स, कपड़े, बैग और जूते बरामद किए हैं। – पुलिस के मुताबिक, मुख्य आरोपी हनुमान प्रसाद जाट और उसका साथ वारदात में शामिल भाड़े के कातिल कपिल धोबी की निशानदेही पर राजगढ़ रेलवे स्टेशन के पास एक खेत में गड्ढा खोद कर छुपाए गए खून से सने दो चाकू समेत तीन जोड़ी ग्लब्स बरामद किए गए हैं। इन्हीं चाकुओं से बनवारी लाल शर्मा, उसके तीन बेटे मोहित, हैप्पी, अज्जू भतीजे निक्की की हत्या की गई थी। – पति और बच्चों के मर्डर के आरोप में गिरफ्तार महिला संतोष मर्डर वाले दिन से ही कई ड्रामे कर चुकी है। मर्डर वाले दिन संतोष बेहोश होने का नाटक करके अस्पताल में भर्ती हो गई थी। संतोष दो दिन तक अस्पताल में भर्ती रही और पुलिस की पूछताछ से बचती रहीं। दो दिन बाद में संतोष अपनी ननद के घर चली गई। वहां भी वह बेहोश होने का ड्रामा करती रही। जब संतोष से इस पूरे घटनाक्रम के बारे में पूछा गया तो वह बोलने लगी मेरे पति को जयपुर लेकर गए है। मुझे भी जयपुर ले जाओं। मेरे बच्चे वहीं है। – इस दौरान जब संतोष की ननद ने बताया कि उसके बच्चों और पति की मौत हो गई है तो उसने अंजान बनते हुए बेहोश होने का ड्रामा किया। जब पुलिस ने संतोष के साथ उसके प्रेमी हनुमान प्रसाद और सुपारी किलर कपिल धोबी और दीपक गिरफ्तार किया तब भी उसने सभी आरोपों को गलत बताया।
 मर्डर का हथियार मिला तो कूबला अपना जुर्म
 – अलवर पुलिस ने गुरुवार को कपिल धोबी और दीपक उर्फ बगुला धोबी के गांव गुजूकी घर पहुंची। यहां से कपिल दीपक द्वारा वारदात के दौरान पहने कपड़े, बैग जूते बरामद किए। पुलिस ने बताया कि बरामद कपड़ों पर खून के छींटे लगे हुए मिले हैं। इस पूरे घटनाक्रम के बाद आरोपी महिला ने शुक्रवार को अपना जुर्म कबूल कर लिया।
 ऐसे करवाया था मर्डर
 – आरोपी महिला ने वारदात की रात घरवालों के खाने के रायते में नींद की गोलियांं पीसकर मिलाई थी। एक बेटे की जान सिर्फ इसलिए बच गई क्योंकि तबीयत खराब होने की वजह से उसने खाना नहीं खाया था। जब सब लोग खाना खा रहे थे इसी बीच महिला छत पर गई और अपने प्रेमी को इशारा करके वापस आ गई थी। नींद की गोलिया प्रेमी हनुमान ने ही प्रेमिका संतोष को दी थी। रात 10 बजे हनुमान गली में आया। छत पर खड़ी संतोष से उसकी इशारों में बात हुई। इसके बाद वह चला गया।
– रात करीब एक बजे हनुमान प्रसाद, कपिल दीपक आए। संतोष छत पर ही खड़ी इंतजार कर रही थी। उसने दरवाजा खोल दिया। हनुमान ने कमरे में घुसते ही बनवारीलाल का गला काट दिया। बड़े बेटे मोहित ने खाना नहीं खाया था इस कारण वह जग गया। मोहित उठता इससे पहले ही हनुमान ने उसके गले पर चाकू से बार दिया।
– इसके बाद प्रेमी तो बाहर गया, लेकिन दीपक कपिल ने कमरे की फर्श पर सो रहे हैप्पी, अज्जू और निक्की की गला काट कर हत्या कर दी। मकान में कहीं भी फिंगर प्रिंट न मिल सकें, इसके लिए आरोपियों ने दस्ताने खरीदे। साथ ही पूरी घटना के दौरान उन्होंने मोबाइल का भी इस्तेमाल नहीं किया।
 पति और बड़े बेटे को लग गई थी अफेयर की भनक
 – शादीशुदा और 3 बेटों की मां संतोष का हनुमान प्रसाद जाट से अफेयर चल रहा है। हनुमान उदयपुर से बीपीएड कर रहा है। संतोष ताइक्वांडो सिखाती है। दोनों की ढाई साल पहले दोस्ती हुई थी। यह दोस्ती नाजायज रिश्तों में बदल गई। इस अफेयर की भनक संतोष के पति और बड़े बेटे को लग गई थी।
Share.

About Author

Leave A Reply