शाह ने सुबह 9.30 बजे प्रदेश मोर्चा अध्यक्ष, प्रकोष्ठ के संयोजक एवं कोर ग्रुप की बैठक ली

0
मप्र दौरे के दूसरे दिन शनिवार को शाह ने सुबह 9.30 बजे प्रदेश मोर्चा अध्यक्ष, प्रकोष्ठ के संयोजक एवं कोर ग्रुप की बैठक ली। इस बैठक में शाह का सख्त अंदाज देखने को मिला। मोर्चा और प्रकोष्ठों के अध्यक्षों से शाह ने कहा, “पार्टी में कई ऐसे भी लोग हैं, जो ठीक से काम नहीं कर रहे हैं। मेरे पास कई लोगों की शिकायतें आ रही हैं। उन लोगों से मेरा अनुरोध है कि अपना काम सुधार लें अब भी वक्त है।’ बता दें कि शाह के मध्यप्रदेश के तीन दिन के दौरे पर हैं।
– शाह ने कहा, “मेरे आने की खबर सुनने के बाद आप लोगों ने काम शुरू किया। मुझे जानकारी मिली है कि मेरे यहां पहुंच जाने के बाद आप लोगों ने आनन-फानन कई खाली पदों को भरा।”
– शाह ने शुक्रवार को शिवराज कैबिनेट के सदस्यों की मीटिंग ली। उन्होंने कहा, “मध्यप्रदेश में ब्यूरोक्रेसी हावी है। मैंने ये बात 172 लोगों से मिले फीडबैक के आधार पर कही। यदि सीएम चाहेंगे तो मैं उनके नाम बता दूंगा।”
– उन्होंने यह भी कहा कि मोदी सरकार में वे मंत्री नहीं बनेंगे, संगठन के लिए ही काम करेंगे। संगठन के लिए रोज 17 घंटे समय देना होता है। मंत्री पद से न्याय नहीं कर पाऊंगा।
मध्यप्रदेश में सिंधिया और कमलनाथ नहीं जीतने चाहिए
– शाह ने शिवराज कैबिनेट के सदस्यों की बैठक में शुक्रवार को कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश सभी 29 सीटें जीतनी हैं।
– शाह बोले, “कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य और कमलनाथ को किसी भी कीमत पर जीतने नहीं देना है। कांग्रेस के ये दोनों ही नेता हमारे विधायकों से तालमेल कर जीत जाते हैं।’
मैं यहां भाषण सुनने नहीं आया- शाह
– शाह शुक्रवार को भोपाल पहुंचे। पहले दिन शाह को बीजेपी ऑफिस पहुंचने में करीब डेढ़ घंटे की देरी हो गई।
– केंद्रीय पदाधिकारियों, प्रदेश कोर ग्रुप के सदस्य, प्रदेश पदाधिकारी, सांसद, विधायक, जिला अध्यक्ष, संभागीय मंत्री समेत जिला प्रभारी के साथ मीटिंग शुक्रवार 10:30 बजे तय थी। इसमें देरी हो गई। इस दौरान, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान स्वागत स्पीच देने लगे। इस पर अमित शाह को थोड़ा असहज लगा, क्योंकि मीटिंग में पहले ही देरी हो गई थी। शाह ने उन्हें टोक दिया।
– शाह ने नंदकुमार सिंह चौहान से कहा कि ज्यादा भूमिका मत बनाओ और बैठक शुरू करो। मैं यहां भाषण सुनने नहीं आया हूं।
मंत्री के घर खाया गुजराती खाना
– शुक्रवार को मीटिंग के बाद अमित शाह नरोत्तम मिश्रा के घर पहुंचे। यहां उन्होंने शहर के कुछ चुनिंदा पत्रकारों और मंत्रियों के साथ लंच किया। शाह की पसंद का ध्यान रखते मिश्रा ने अपने घर पर खास गुजराती खाना बनवाया था।
गुरुवार को आना था शाह को, शुक्रवार को आए
– अमित शाह को गुरुवार रात 9:10 बजे नियमित फ्लाइट से दिल्ली से भोपाल आना था, लेकिन वे टाइम पर दिल्ली एयरपोर्ट नहीं पहुंच पाए थे। जबकि इसी से कैलाश विजयवर्गीय समेत अन्य नेता भोपाल पहुंच गए थे। इधर शाह के स्वागत के लिए पहुंचे मुख्यमंत्री समेत सभी मंत्रियों को दिल्ली से सूचना मिली कि चार्टर्ड प्लेन से शाह रात 11 बजे पहुंचेंगे। लेकिन तकनीकी खराबी के कारण प्लेन नहीं उड़ पाया। जब यह सूचना मुख्यमंत्री को रात 10:45 बजे मिली तो उन्होंने माइक से जानकारी दी कि शाह अब शुक्रवार सुबह 9 बजे आएंगे।
BJP का 2019 के लिए 360+ सीटों का टारगेट
– बीजेपी ने 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए अभी से टारगेट तय कर लिया है। अमित शाह ने 360+ सीटें लाने का लक्ष्य नेताओं को दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शाह ने बीजेपी हेडक्वार्टर्स में तीन घंटे तक 30 से ज्यादा नेताओं के साथ बैठक कर इस बारे में चर्चा की। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजेपी प्रेसिडेंट ने केंद्रीय मंत्रियों और पार्टी नेताओं से उन सीटों पर खासतौर पर फोकस करने को कहा, जहां बीजेपी को पिछले चुनाव के दौरान हार मिली थी। बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने अकेले के दम पर मेजॉरिटी हासिल कर 282 सीटें जीती थीं। इस बीच, एक न्यूज एजेंसी की खबर में कहा गया है कि इसी महीने में कैबिनेट में फेरबदल हो सकता है।
Share.

About Author

Leave A Reply