About us

अगस्त के आखिरी सप्ताह में भारतीय जनता पार्टी विरोधी दलों के खिलाफ पहला मास्टर स्ट्रोक खेलेगी

0

अगस्त के आखिरी सप्ताह में भारतीय जनता पार्टी विरोधी दलों के खिलाफ पहला मास्टर स्ट्रोक खेलेगी। इससे पहले भाजपा उन विधायकों के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ वन-टू-वन मीटिंग कराएगी जिनके टिकट काटे जानें हैं। इस लिस्ट में करीब एक दर्जन मंत्री और 50 के करीब विधायक भी शामिल हैं। पार्टी उन तमाम रिपोर्टों को उनके सामने रखेगी जिसमें ये बताया गया है कि विधायक या मंत्री की क्षेत्र में स्थिति क्या है। चुनाव के बाद अगर सरकार बनती है तो उनको कहां एडजस्ट किया जाएगा, ताकि उनका रुतबा बना रहे।

पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ग्वालियर-चंबल संभाग के बहुजन समाज पार्टी और समाज वादी पार्टी के कुछ बडे नेताओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की जनआशीर्वाद यात्रा के दौरान उनसे संपर्क किया है और कुछ नेता मुलाकात भी कर चुके हैं। बसपा, सपा और कांग्रेस के संभावित गठबंधन से पहले ही कोई बड़ा राजनीतिक धमाका हो सकता है। इस मुद्दे को लेकर भाजपा में गुप्त बैठकों का दौर जारी है। खबर है कि इसी मुद्दे को एक बैठक शुक्रवार की रात सीएम हाउस में हुई। जो देर रात एक बजे तक चली। बैठक में अमित शाह के प्रदेश में होने वाले दौरे को लेकर भी काफी देरतक विचार हुआ। इसमें सितंबर से लेकर चुनाव तक अमित शाह के दौरे की रूपरेखा पर भी विचार हुआ है। बैठक में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश संगठन प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे, राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह और संगठन महामंत्री सुहास भगत मौजूद रहे।

– इधर, खबर ये भी है कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस के कई बड़े नेता चुनाव लड़ना चाहते हैं। इनमें पिछले विधानसभा चुनाव में पराजित हो चुके प्रत्याशी भी शामिल हैं। लेकिन, पार्टी की नई गाइड लाइन के चलते ये संशय की स्थिति में हैं कि पार्टी उन्हें इस बार मैदान में उतारेगी या नहीं। चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया और प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने जो टिकट वितरण का फार्मूला बताया है उसके अनुसार अपने आपको फिट नहीं पा रहे हैं। ऐसी स्थिति में कांग्रेस के ये नेता भाजपा के संपर्क में बताए जा रहे हैं। भाजपा की भी कोशिश है कि कांग्रेस के ये नेता उनके साथ आ जाएं। इस मामले में सबसे बड़ी दिक्कत कांग्रेस से आने वाले नेताओं को एडजस्ट कहां करना है, उसको लेकर है। भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेता खासतौर पर इस मामले पर काम कर रहे हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply