About us

आसाराम पर जोधपुर अदालत में 25 अप्रैल दिन बुधवार को फैसला सुनाया जाएगा

0

पने गुरुकुल की एक नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म के आरोप में आसाराम पर जोधपुर अदालत में साढ़े चार साल से मुकदमा चल रहा है। अब इस मामले में कल यानी 25 अप्रैल दिन बुधवार को फैसला सुनाया जाएगा। मामले में आसाराम के अलावा चार और आरोपी भी हैं। विशेष बात ये है कि आसाराम को जेल में बनी अदालत से ही फैसला सुनाया जाएगा। दरअसल, इसके लिए जोधपुर पुलिस ने ही हाईकोर्ट से अपील की थी। माननीय हाईकोर्ट ने पुलिस की यह अपील स्वीकार कर ली थी। खास बात ये है कि आसाराम स्वतंत्र भारत के इतिहास का सिर्फ चौथा ऐसा आरोपी है जिसे जेल में बनाए गए न्यायालय से फैसला सुनाया जाएगा।

यहीं बनाया गया था टाडा कोर्ट

– जोधपुर जेल के जिस हिस्से में आसाराम बंद है उसके काफी करीब एक हॉल है। इसी हॉल को कोर्टरूम बनाया गया है। 31 साल पहले इसी जगह टाडा कोर्ट बनाई गई थी। तब अकाली नेता गुरचरण सिंह तोहड़ा आरोपी थे। अब इसी जगह आसाराम को खड़ा किया जाएगा।

किन आरोपियों को सुनाया गया जेल में फैसला?
– जेल में फैसला सुनाने के देश में चंद ही उदाहरण हैं। इंदिरा गांधी के हत्यारों, आतंकी अजमल कसाब और राम-रहीम को जेल में ही फैसला सुनाया गया था। यह चौथा मामला है, जब अदालत अपना फैसला जेल में बनी कोर्ट से सुनाएगी।

किसको-किस जेल से सुनाया गया फैसला?

1. तिहाड़ जेल (दिल्ली): इंदिरा गांधी के हत्यारों बेअंत और सतवंत सिंह।

2. ऑर्थर रोड (मुंबई): आतंकी अजमल आमिर कसाब।

3. सुनारिया (हरियाणा): डेरा प्रमुख गुरमीत राम-रहीम।

4. जोधपुर जेल: यहां बुधवार को आएगा आसाराम पर फैसला।

 तब 4 साल चली कोर्ट, अब 1 दिन के लिए लगेगी
– रिटायर्ड जेलर हिम्मतसिंह के मुताबिक, 1985 में जेल के वार्ड में स्पेशल टाडा कोर्ट बनी थी। ये 1988 तक चली। तब 365 खालिस्तान समर्थक यहां थे। 25 अप्रैल को एक दिन के लिए यहीं एससी-एसटी की विशेष अदालत लगेगी।
Share.

About Author

Leave A Reply