About us

कर्मचारियों को खुश करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ा एलान किया

0

चुनावी साल में कर्मचारियों को खुश करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ा एलान किया है। सीएम ने कहा है कि राज्य में कर्मचारियों के रिटायरमेंट की उम्र 60 की जगह 62 साल करने की बात कही है। अगर ऐसा होता है तो प्रदेश के करीब 27 फीसदी अधिकारियों व कर्मचारियों को फायदा होगा। शिवराज सिंह ने कहा कि प्रदेश में कमिश्नर प्रणाली हर हाल में लागू होगी।

रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाने का ये बताया कारण

– शुक्रवार को ‘मीट द प्रेस’ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ये घोषणा की। सीएम ने कहा कि प्रमोशन में आरक्षण का मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है, और कई कर्मचारी और अधिकारियों का प्रमोशन अटका है। कोई भी बिना प्रमोशन के रिटायर न हो, इसके लिए रिटायरमेंट की उम्र 60 वर्ष से बढ़ाकर 62 वर्ष करने का फैसला किया है।

1)इसलिए लिया गया ये फैसला
-कर्मचारी संगठन पिछले कई सालों से ये मांग करते आ रहे हैं। ज्यादातर संगठनों ने इस मांग को लेकर समय-समय पर आंदोलन भी किए हैं। चुनावी साल में कर्मचारी संगठनों ने दबाव बनाया तो सरकार ने तुरंत फैसला लेते हुए रिटायरमेंट की आयु को दो साल बढ़ाने का एलान कर दिया।

2)सीधी भर्ती पर लगी है रोक
-दरअसल, राज्य में पिछले कई सालों से सीधी भर्ती पर रोक लगी है। अधिकारियों और कर्मचारियों के तेजी से रिटायरमेंट हो रहे हैं। संविदा नियुक्ति देने में अड़चनें आ रही हैं। बड़े पदों पर ही सरकार ये काम कर पा रही है. ऐसे में कई विभागों मे कर्मचारियों की भारी कमी हो गई है।

3)इससे किसे फायदा
– प्रदेश में 4.35 लाख अधिकारी-कर्मचारी
– 27 फीसदी कर्मचारियों को होगा फायदा
– डॉक्टर्स की रिटायरमेंट की उम्र 65 साल
– नर्सेस की रिटायरमेंट की उम्र 62 साल
– शिक्षकों की रिटायरमेंट की उम्र 62 साल
– चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की रिटायरमेंट की उम्र 62 साल

4) जनता की सुरक्षा पहली प्राथमिकता

– प्रदेश में कमिश्नर प्रणाली को लेकर सीएम ने कहा कि इसे जनता की सुरक्षा के मद्देनजर लागू किया जा रहा है। पुलिस कर्मियों की तेजी से भर्ती की जा रही है। आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल कर अपराधों पर लगाम लगाने की कोशिश की जा रही है। ज्यादा से ज्यादा संसाधन भी पुलिस महकमे को दिए जा रहे है।

5) परफॉर्मेंस के आधार मिलेंगे विधायकों को टिकट
प्रदेश में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मौजूदा विधायकों के टिकट काटने को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में शिवराज सिंह ने कहा कि पार्टी परफॉर्मेंस के आधार पर ही टिकट देगी।

6) परिवार के बारे में कहा- इसमें उनका हाथ नहीं

– मुख्यमंत्री ने परिवार में नई लीडरशीप के बारे में कहा कि बड़ा बेटा कार्तिकेय सिम्बायोसिस कॉलेज पुणे का अध्यक्ष है। पत्नी साधना सिंह भी किरार समाज की राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। इसे राजनीति से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए।

7) एक महीने के अंदर की ये घोषणाएं
1- अध्यापक संवर्ग के शिक्षा विभाग में संविलियन किया जाएहा।
2- किसानों के लोन का 2650 करोड़ का ब्याज माफ किया।
3- सिंहस्थ में ड्यूटी करने वाले होमगार्ड्स को रेगुलर किया जाएहा।
4- आदिवासियों के 60 हजार क्रिमिनल केस वापस लिए जाएंगे।
5-पंचायत सचिवों को लिपिकों के समान वेतन मिलेगा।
6- ढाई लाख संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों के संविलियन होगा।

Share.

About Author

Leave A Reply