About us

केंद्र सरकार करीब 11 करोड़ परिवारों को आयुष्‍मान भारत हेल्‍थ इंश्‍योरेंस कार्ड देने जा रही है

0

क्या आप मोदी सरकार की आयुष्‍मान भारत हेल्‍थ इंश्‍योरेंस स्‍कीम (Ayushman Bharat Scheme) का लाभ ले चुके हैं। अगर हां तो आपको पता ही होगा कि सरकार इस योजना के तहत पचास करोड़ गरीब परिवारों को पांच लाख रुपए तक का फ्री इलाज दे रही है।  अब केंद्र सरकार करीब 11 करोड़ परिवारों को आयुष्‍मान भारत हेल्‍थ इंश्‍योरेंस कार्ड देने जा रही है। लाभार्थियों को इन कार्ड्स की हैंड डिलीवरी की जाएगी यानी उन्हें ये कार्ड हाथ में सौंपे जाएंगे। इसके लिए गांवों में आयुष्‍मान पखवाड़ा प्रोग्राम चलाया जाएगा।

कार्ड में क्या होगा ?
फैमिली कार्ड्स में स्‍कीम का लाभ पाने वालों के नाम अंकित होंगे, इसके साथ एक लेटर भी होगा जिसमें आयुष्‍मान स्‍कीम के सभी फीचर्स की जानकारी होगी। फैमिली कार्ड लाभार्थियों की पहचान प्रक्रिया को आसान बनाने का एक जरिया है। हालांकि इसके लिए अन्‍य डॉक्‍यूमेंट्स की भी जरूरत होगी।

आयुष्मान भारत योजना क्या है ?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आयुष्‍मान भारत स्‍कीम की घोषणा बजट 2019 के दौरान की गई थी। इस स्‍कीम के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को 5 लाख रुपए तक के फ्री हेल्थ इंश्योरेंस की सुविधा दी जाएगी। इसमें लगभग सभी गंभीर बीमारियों का इलाज कवर होगा। कोई भी व्यक्ति (विशेष रूप से महिलाएं, बच्चे और बुजुर्ग) इलाज से वंचित न रह जाए, इसके लिए स्कीम में फैमिली साइज और उम्र पर कोई सीमा नहीं लगाई गई है।

50 करोड़ लोगों को लाभ पहुंचाने का लक्ष्य
इस स्कीम में हॉस्पिटलाइजेशन से पहले और बाद के खर्च को भी शामिल किया गया है। हर बार हॉस्पिटलाइजेशन के लिए ट्रांसपोर्टेशन अलाउंस का भी उल्लेख किया गया है, जिसका भुगतान लाभार्थी को किया जाएगा। इलाज देश के किसी भी सरकारी या प्राइवेट अस्पताल में कैशलेस इलाज कराया जा सकेगा। इस स्‍कीम से लगभग 50 करोड़ लोगों को फायदा पहुंचेगा।

लोगों के घर तक कैसे पहुंचेगा कार्ड
केंद्र से भेजकर गाव-गांव तक कार्ड बांटने की प्रक्रिया को सरकार ने डॉक विभाग की तरह नियोजित किया है।सभी डाटा सेफ्टी स्‍टैंडर्ड्स का पालन करते हुए कार्ड एरिया कोड के हिसाब से लाभार्थियों के डिस्ट्रिक्‍ट हेडक्‍वार्टर भेज दिए जाएंगे। उसके बाद लेटर्स ग्राम पंचायत भेजे जाएंगे और फिर इन्‍हें आयुष्‍मान पखवाड़ा कार्यक्रम के जरिए हेल्‍थ वर्कर्स द्वारा लाभार्थी परिवारों तक पहुंचाया जाएगा।

अभी दो साल का लगेगा समय
आयुष्‍मान भारत- नेशनल हेल्‍थ प्रोटेक्‍शन मिशन के अंतर्गत करीब 10.7 करोड़ से ज्‍यादा कार्ड की प्रिन्टिंग करनी है। इतने अधिक कार्ड बनाने और उन्हें लाभार्थियों के हाथ तक पहुंचाने में करीब दो साल का वक्‍त लगेगा। यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि यह कार्ड ना होने पर भी किसी भी नामित परिवार को स्‍कीम का फायदा देने से इंकार नहीं किया जा सकता।

स्कीम से जुड़े सवाल फोन पर पूछें
आयुष्मान भारत योजना से जुड़ी कोई भी जानकारी आपको चाहिए तो आप काल सेंटर में फोन कर जानकारी ले सकते हैं। इसके साथ ही इस योजना से जुड़ी शिकायत भी कर सकते हैं। इसके लिए केन्‍द्र सरकार राजधानी दिल्‍ली में एक 24X7 काल सेंटर भी स्‍थापित करेगी। जिसका नंबर टोल फ्री होगा। अगर कॉल सेंटर पर कोई ई-मेल और ऑनलाइन चैट के द्वारा संवाद करना चाहे तो यह भी संभव है।

Share.

About Author

Leave A Reply