About us

छिंदवाड़ा में धूलभरी तेज आंधी से सीएम शिवराज सिंह चौहान का कार्यक्रम निरस्त करना पड़ा

0

प्रदेश में प्री मानसून ने दस्तक दी है। शुक्रवार को दोपहर बाद भोपाल, बैतूल, छिंदवाड़ा, जबलपुर, मंडला, बालाघाट समेत कई जगह हल्की बारिश और बूंदाबांदी हुई। छिंदवाड़ा में धूलभरी तेज आंधी से सीएम शिवराज सिंह चौहान का कार्यक्रम निरस्त करना पड़ा। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि यह प्री मानसून की बारिश है। केरल तक पहुंचे मानसून की रफ्तार हालात के अनुकूल बनी हुई है। उनका दावा है कि मध्य प्रदेश में मानसून जून के पहले हफ्ते में या उसके आसपास पहुंच सकता है।

तेज आंधी में उड़ा टेंट तंबू, कार्यक्रम निरस्त
– छिंदवाड़ा में सीएम शिवराज सिंह चौहान का कार्यक्रम धूलभरी आंधी और हल्की बूंदाबांदी की वजह से निरस्त कर दिया गया। उन्हें वहां अमरबाड़ा में तेंदुपत्ता संग्राहक सम्मेलन में शामिल होना था। कार्यक्रम की सारी तैयारियां कर ली गई थीं, लेकिन तेज आंधी व तूफान से टेंट और तंबू उखड़कर उड़ गए। इसके चलते कार्यक्रम निरस्त करना पड़ा। छिंदवाडा कलेक्टर वेद प्रकाश ने मुख्यमंत्री का कार्यक्रम निरस्त होने की पुष्टि की है।

बैतूल में तेज आंधी के साथ बारिश

– बैतूल में 50 मिनट तक तेज आंधी के साथ जमकर बारिश हुई। बारिश से लोगों को राहत मिली, लेकिन पेड़ गिरे और आंधी से छप्पर भी उड़ गए। बाजार में तेज आंधी चलने की वजह से आजाद वार्ड निवासी वीरेंद्र बारेण्डिया के मकान पर वर्षों पुराना बड़ा नीम का पेड़ गिर गया। इससे मकान के सामने का हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया। वार्ड में बिजली सप्लाई बंद हो गई। बारिश से शहर में कई जगह पानी भर गया।

बारिश से मंडी में रखा गेहूं भीगा

– बारिश के चलते बैतूल कृषि उपज मंडी में शेड के बाहर रखा अनाज भीग गया। हड़ताल के चलते एक तरफ आज ज्यादा किसानों ने मंडियों का रुख नहीं किया वहीं जो अनाज पहले से मंडियों में रखा था वो खराब हो गया। अचानक हुई बारिश के कारण मंडी में अफरातफरी मच गई। जो किसान और व्यापारी मंडी में मौजूद थे वे अपने अनाज को भीगने से बचाने के लिए जद्दोजहद में जुट गए। बावजूद इसके किसानों का अनाज गीला हो गया।

आने वाले दिनों में मिलेगी राहत

– मौसम वैज्ञानिक एके शुक्ला का कहना है कि पूर्व अनुमान के मुताबिक आने वाले दिनों में तापमान में कमी होगी। प्रदेश में लू के हालात भी नहीं बनेंगे। लोगों को गर्मी और उमस से राहत मिलेगी। मध्य प्रदेश में मानसून जून के पहले हफ्ते में दस्तक दे सकता है। वैसे 13 जून को प्रदेश में मानसून आने की संभावना जताई गई है।

– वहीं, भोपाल में पिछले 2 दिन से तापमान 43 डिग्री से नीचे बना हुआ है। शुक्रवार को भी राजधानी के मौसम में बदलाव आया। यहां तेज हवाओं के साथ कुछ स्थानों पर हल्की बूंदाबांदी हुई, आसमान में बादल छाए रहे।

खूब तपा मई महीना

– मई इस बार यह सबसे ज्यादा गर्म रहा। हालात यह रहे कि मई के 31 दिन के 744 में से 411 घंटे शहर तीखी धूप से तपा। पारे की चाल भी बहुत तेज रही। महीने में दिन का औसत तापमान 42.9 डिग्री रहा। मई में रातें भी खूब तपी। 31 में से 29 दिन तापमान सामान्य से ज्यादा रहा। महीने के पहले दिन से ही तपन शुरू हो गई थी। एक मई को ही दिन का तापमान 42.6 डिग्री दर्ज किया गया था। यह सामान्य से 3 डिग्री ज्यादा रहा था। दिन में तपिश का यह सिलसिला महीने भर जारी रहा। पांचवे दिन पारा 43 डिग्री पार पहुंच गया।

 – मौसम का मिजाज बदलने से सिर्फ 7, 8 और 9 मई को ही दिन में गर्मी से मामूली राहत मिली थी। एक दिन बाद फिर पारा 43 डिग्री पार हो गया। दूसरा पखवाड़ा शुरू होते ही मौसम के तेवर और गर्म हो गया। इसके बाद महीने के आखिरी दिन तक मौसम के तेवर ठंडे नहीं पड़े। 25 मई से शुरू हुए नौ तपा पहले दिन तो मौसम का मिजाज थोड़े नरम हुए, लेकिन दूसरे दिन से रिकार्ड गर्मी पड़ी।
Share.

About Author

Leave A Reply