About us

पाकिस्तान ने भारत के साथ द्विपक्षीय संबंध खत्म करने का फैसला लिया

0

न्यूज एजेंसी एएफपी के मुताबिक, पाकिस्तान ने भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को वापस भेजने का फैसला किया है। वहीं पाकिस्तान ने अपना अगला राजदूत भारत नहीं भेजने का निर्णय लिया है। भारत के साथ जुड़े मामलों को देखने के लिए कमेटी बनाई गई है। अनुच्छेद 370 के मामले पर पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने संसद का संयुक्त सत्र भी बुलाया था। यहां पाकिस्तानी सांसद भारत के विरोध में काली पट्टी बांधकर पहुंचे थे।जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान ने भारत के साथ द्विपक्षीय संबंध खत्म करने का फैसला लिया है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक बुलाई। बैठक में भारत के साथ कूटनीतिक संबंध और द्विपक्षीय व्यापार खत्म करने का निर्णय लिया गया। पुलवामा हमले से पहले जुलाई 2018 से जनवरी 2019 के बीच दोनों देशों के बीच 6,230 करोड़ रुपए का कारोबार हुआ था। जनवरी-जून 2018 की तुलना में इसमें 5% का इजाफा हुआ था। वहीं, 2018-19 में दोनों देशों के बीच करीब 18 हजार करोड़ रुपए का कारोबार हुआ। यह 2017-18 की तुलना में 1600 करोड़ रुपए ज्यादा था। इसमें भारत का पाकिस्तान को निर्यात 80% है और आयात सिर्फ 20% है।

वर्ष भारत-पाक द्विपक्षीय व्यापार इजाफा
2016-17 15,000 करोड़ रुपए
2017-18 16,400 कराेड़ रुपए 9%
2018-19 18,000 करोड़ रुपए 10%

भारत में पाकिस्तान से खनिज उत्पाद और फल आते हैं
भारत पाकिस्तान को जो निर्यात करता है, उसमें 37% हिस्सेदारी रासायनिक उत्पादों और 33% हिस्सेदारी टेक्सटाइल आइटम्स की है। भारत पाकिस्तान को सबसे ज्यादा कॉटन और ऑर्गेनिक केमिकल एक्सपोर्ट करता है। वहीं, भारत पाकिस्तान से सबसे ज्यादा 49% खनिज उत्पाद और 27% फल आयात करता है। आयात में मिनरल ऑयल की हिस्सेदारी 27% और फलों की हिस्सेदारी 21% है।

17 साल पहले में भारत ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त को निष्कासित किया था
मई 2002 में भारत ने नई दिल्ली स्थित पाकिस्तान के तत्कालीन उच्चायुक्त अशरफ जहांगीर काजी को निष्कासित किया था। भारत ने यह कदम कश्मीर में एक आतंकी हमले में 35 लोगों की मौत होने के बाद उठाया था। उस वक्त जहांगीर काजी आतंकियों का समर्थन कर रहे थे। इससे पहले दिसंबर 2001 में संसद पर पाकिस्तानी आतंकियों के हमले के बाद भारत ने दिल्ली में पाकिस्तान के मिशन में तैनात स्टाफ में 50% की कटौती करा दी थी। वहीं, अपने उच्चायुक्त को पाकिस्तान से बुला लिया था। दिल्ली में पदस्थ पाकिस्तान के मिशन प्रमुख से बात करने से इनकार कर दिया था। इससे पहले 1965 और 1971 की जंग के वक्त भारत-पाकिस्तान के बीच राजनयिक संबंध खत्म हो गए थे। इमरान ने मंगलवार को कहा था, “मुझे लगता है कि भारत कश्मीरियों को मिटाना चाहता है। वह कश्मीर में नस्लीय तौर पर मुसलमानों का सफाया कर सकता है। स्थितियों को देखकर लगता है कि फिर पुलवामा जैसी घटना होगी। फिर वे मुझ पर आरोप लगाएंगे और एयर स्ट्राइक करेंगे। हम फिर इसका जवाब देंगे। फिर युद्ध होगा। हम खून की आखिरी बूंद तक युद्ध लड़ेंगे।” उन्होंने कहा था, “मैं और मेरी पार्टी विश्व के नेताओं को यह बताने की जिम्मेदारी लेती है कि कश्मीर में क्या हो रहा है? मुझे लगता है कि दुनिया को इसकी जानकारी नहीं है। मैं उन्हें बताना चाहूंगा कि भारत सरकार कश्मीर में मुसलमानों और अल्पसंख्यकों के साथ क्या कर रही है? दरअसल, वे खतरे में हैं।”

भारत को जवाब देने का समय आ गयाः शहबाज शरीफ
पाकिस्तान के मुख्य विपक्षी दल पाकिस्तान मुस्लिम लीग के नेता शहबाज शरीफ ने कहा कि अब समय आ गया है कि पाकिस्तान को भारत के इस कदम का जवाब देना चाहिए। हम कश्मीरियों को मिटते हुए नहीं देख सकते। हमें उनके लिए ठोस कदम उठाना होगा।

Share.

About Author

Leave A Reply