About us

मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया की गुना, और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के संसदीय क्षेत्र छिंडवाड़ा पर फोकस रखने की योजना है

0

आगामी नवंबर में मध्य प्रदेश सहित राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभा के लिए होने वाले चुनाव के साथ ही भारतीय जनता पार्टी इन प्रदेशों में लोकसभा चुनाव का भी पूरा होमवर्क करने की तैयारी में है। इसके लिए पार्टी ने अपना एजेंडा तैयार कर लिया है। इन प्रदेशों में पिछली बार जिन लोकसभा क्षेत्रों में पार्टी को हार का मुंह देखना पड़ा था उन पर खास फोकस रहेगा। मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया की गुना, और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के संसदीय क्षेत्र छिंडवाड़ा पर फोकस रखने की योजना है। भाजपा ने मध्य प्रदेश का प्रभारी अनिल जैन को बनाया गया है।

हर संसदीय क्षेत्र के लिए 11 लोगों की विशेष टीम

– जानकारी के अनुसार 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने हर प्रदेश में 11 लोगों की एक चुनाव तैयारी कमेटी का गठन किया है।

– राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह सभी राज्यों में जुलाई अंत तक इस तैयारी का जायजा लेंगे। इसके फॉलोअप की जिम्मेदारी राष्ट्रीय महासचिवों को सौंपी गई है।

– बैठक के लिए भाजपा शीर्ष नेतृत्व ने एजेंडा तैयार किया है। इसके मुताबिक कमेटी के साथ बैठक के अलावा संघ परिवार से जुड़े संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ भी अमित शाह समन्वय बैठक करेंगे।

यह दिए निर्देश

– बैठक के लिए उन सीटों के प्रभारी और दो सह प्रभारियों को संबंधित राज्य के दौरे के वक्त मौजूद रहने का निर्देश दिया है, जिन सीटों पर भाजपा पिछली बार चुनाव हारी थी। बैठक में प्रदेश की चुनाव तैयारी कमेटी को पांच बिंदुओं पर टीम तैनात करने को कहा है।

 – इसमें हर संसदीय सीट पर क्षेत्र के किसी बाहर के व्यक्ति को प्रभारी बनाने।

– सोशल मीडिया टीम में एक प्रभारी। दो सह प्रभारी तैनात करने।
– मीडिया टीम में भी इसी तरह प्रभारी-सह प्रभारी बनाने।
– लीगल टीम में भी 3 लोगों की नियुक्ति करने का निर्देश दिया है, जो जनहित याचिका, कानून और आरटीआई लगाने में एक्सपर्ट हो।
– इसके अलावा केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं के लिए भी एक टीम बनाएगी जिसमें एक पुरुष और एक महिला प्रभारी तैनात किया जाएगा।

12 बिंदुओ पर शाह के दौरे से पहले होगी तैयारी

– भाजपा की ओर से जारी पत्र में 12 बिंदुओं पर शाह के दौरे से पहले तैयारी का निर्देश दिया गया है। भाजपा की रणनीति में प्रवास के समय किसी एक वर्ग का सम्मेलन या इवेंट आयोजित करने का भी निर्देश दिया गया है।

– लोकसभा चुनाव प्रबंधन की योजना।
– केंद्र- राज्य की योजनाओं के लाभार्थियों की सूची।
– सत्यापित सदस्यता की सूची।
– शक्ति केंद्र व बूथ प्रुमख के फोन नंबर का डाटा।
– संगठनात्मक गठन की मंडल तक स्थिति।
– राज्य की राजनैतिक स्थिति और सामाजिक मुद्दे।
– विपक्षी दलों की रणनीति।
– गठबंधन की संभावनाएं एवं प्रभाव की विस्तृत रिपोर्ट।
– मीडिया की भूमिका व संपर्क।
– भाजपा में प्रवेश करने को इच्छुक लोगों के बारे में पूरा होमवर्क।
– प्रदेश प्रभारी की प्रवास की योजना और मतदाता सूची के संशोधन की योजना।

Share.

About Author

Leave A Reply