About us

राजधानी भोपाल में सुबह से उमड़ घुमड़ रहे बादल दोपहर बाद 2 बजे बरस पड़े

0

20 मिनट की बारिश से तापमान में गिरावट आई और लोगों को गर्मी से राहत पहुंचाई। नौतपा के बाद भी झुलसाने वाली गर्मी झेल रहे शहर वासियों को इस थोड़ी सी बारिश से भी काफी राहत मिली। प्री-मानसून की इस बारिश की संभावना मौसम विभाग ने गुरुवार को जताई थी। मौसम के बदले मिजाज और तेज हवाओं के साथ हुई हल्की बारिश से मौसम में घुली ठंडक ने लोगों को गर्मी से राहत दी। तेज हवाओं के साथ हल्की बारिश ने मौसम में ठंडक घोल दी। हल्की बारिश होने से लोगों को तीखी गर्मी से राहत मिली. लंबे समय से लोग बारिश का इंतजार कर रहे थे।

ऐसे रही दिन भर बादलों की चहल-पहल

– शुक्रवार सुबह से ही बादलों की चहल पहल रही। दोपहर 1.30 बजे बादल घने हो गए। 1.45 बजे के बाद एमपी नगर, साकेत नगर, अरेरा हिल्स, शाहपुरा, होशंगाबाद रोड, जिंसी, जहांगीराबाद, रचना नगर, गौतम नगर, आईएसबीटी, अन्ना नगर, जेके रोड, एअरपोर्ट रोड, शाहजहांनाबाद समेत शहर के कई इलाकों में बारिश होने लगी। हल्की बारिश से सड़कें तक गीली हो गईं थी। 15 मिनट तक फुहारें पड़ीं। इसके बाद बारिश थम गई थी। 35 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा भी चली। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक एके शुक्ला ने बताया कि हवा का रुख बदल रहा है। दक्षिण पश्चिम मानसून आने के संकेत मिल रहे हैं। इस वजह से शहर के मौसम में भी बदलाव हो रहा है। दो- तीन दिन शहर में प्री मानसून गतिविधि में भी इजाफा होने की संभावना है।

रात में राहत नहीं, पारा 31 डिग्री पार ही, सामान्य से 5 ज्यादा

– शहर में रात में गर्मी और उमस का दौर खत्म नहीं हुआ है। रात का तापमान लगातार दूसरे दिन 31 डिग्री पार बना रहा। शुक्रवार को रात का तापमान 31.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह सामान्य से 5 डिग्री ज्यादा रहा। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि बादल छान से रात का तापमान बढ़ा है।  मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार दक्षिण-पश्चिम मानसून 11 जून के आसपास मध्यप्रदेश में दस्तक दे सकता है। इसके तहत प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर मानसून पूर्व की गतिविधियों में तेज हों गई हैं। अगले 24 घंटे में मानसून के कर्नाटक के शेष भाग, कोकण के दक्षिणी भाग, गोवा, तेलंगाना और कोस्टल आंध्रा पहुंचने की संभावना है।

बंगाल की खाड़ी में बना है लो-प्रेशर

– 8 जून के आसपास बंगाल की खाड़ी में एक लोप्रेशर क्षेत्र बनने के संकेत मिले हैं। जिसके चलते दक्षिण-पश्चिम मानसून के 11 जून के आसपास मप्र के दक्षिणी क्षेत्र से प्रवेश करने के आसार हैं। मौसम विषेशज्ञों के अनुसार बंगाल की खाड़ी में एक लो-प्रेशर क्षेत्र बन रहा है। इस कारण मानसून तेजी से आगे की ओर बढ़ रहा है। इसी कारण दक्षिण की ओर से मानसून 11 तक मप्र में प्रवेश कर सकता है। मौसम विभाग ने मुंबई में भारी बारिश की चेतावनी दी है। इसका असर भी राजधानी के मौसम पर पड़ेगा। अंदाजा लगाया जा रहा है कि जैसे ही मुंबई में बारिश का दौर शुरू होगा उसके छह-सात घंटे बाद राजधानी का मौसम भी बदलेगा। यहां हल्की तेज हवाओं के साथ बौछारें पड़ सकती हैं।  मौसम विभाग और निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट ने चेतावनी दी है कि 6 से 10 जून के बीच मुंबई व आसपास के क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है। दक्षिण-पश्चिम मानसून अगले दो दिन में मुंबई, गोवा व महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों में सक्रिय होगा। मौसम विभाग के अनुसार अगले 48 घंटों में मानसून दक्षिण कोंकण, गोवा व 7 जून तक मुंबई पहुंच जाएगा। इसके छाने के बाद अगले 24 घंटे में यानी 8 जून से इलाके में भारी से बहुत भारी बारिश होगी। मछुआरों को गहरे समुद्र में नहीं जाने की सलाह जारी की जाएगी।

Share.

About Author

Leave A Reply