About us

विधायक लक्ष्मण सिंह पूर्व मंत्री एवं सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष बनाने के पक्ष में नहीं

0

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भाई एवं विधायक लक्ष्मण सिंह  पूर्व मंत्री एवं सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष बनाने के पक्ष में नहीं हैं। उन्होंने गुरुवार की शाम भोपाल में कहा कि सिंधिया के पास समय की कमी है, वे उत्तर प्रदेश में भी पार्टी का काम देख रहे हैं। उनको मध्य प्रदेश पीसीसी का अध्यक्ष नहीं बनाया जाना चाहिए। पार्टी हाईकमान को सिंधिया की जगह किसी अन्य के नाम पर विचार करना चाहिए। प्रदेश में कांग्रेस सरकार द्वारा किए जा रहे बड़े पैमाने पर कर्मचारियों के ट्रांसफर से भी लक्ष्मण सिंह खुश नहीं हैं। उनका कहना है कि वैसे तो ट्रांसफर होना एक शासकीय प्रक्रिया है। लेकिन इतने बड़े पैमाने ट्रांसफर होना गलत है। इससे सरकार पर ही बोझ पड़ता है। कर्मचारियों के ट्रांसफर होने पर उन्हें भत्ता दिया जाता है।

जनता का पैसा होगा खर्च: अभी तक हुए ट्रांसफर में इसका आंकड़ा करोड़ों रुपए में पहुंच चुका है। अभी छोटे कर्मचारियों के ट्रांसफर और होना है। इसका वित्तीयभार भी सरकार पर पड़ेगा। लक्ष्मण सिंह ने कहा कि ये पैसा कहां से आएगा। जनता का पैसा कर्मचारियों के भत्ते पर खर्च किया जाएगा। जबकि इसका उपयोग कई विकास कार्यों पर किया जा सकता है।

कम्पयूटर बाबा को दी सलाह पैदल करें नर्मदा का निरीक्षण: शिप्रा, मंदाकिनी न्यास के अध्यक्ष कम्पयूटर बाबा द्वारा नर्मदा नदी के निरीक्षण के हेलिकॉप्टर मांगे जाने का भी लक्ष्मण सिंह ने विरोध किया है। उन्होंने कहा कि कम्पयूटर बाबा संत हैं उन्हें इस तरह की मांग शोभा नहीं देती। अगर उन्हें नर्मदा नदी का जायजा ही लेना है तो पैदल परिक्रमा करना चाहिए।

दरअसल, मगलवार को राज्य सरकार द्वारा मंत्री का दर्जा प्राप्त एवं शिप्रा, मंदाकिनी न्यास के अध्यक्ष कम्पयूटर बाबा ने पदभार ग्रहण करने के बाद प्रदेश सरकार से नर्मदा नदी के निरीक्षण के लिए हेलीकॉप्टर की मांग की थी। कंप्यूटर बाबा ने कहा था कि नर्मदा में कहां-कहां गंदगी है, कहां क्या काम करना है, इसके आकलन के लिए उन्हें हेलीकॉप्टर से देखना पड़ेगा। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को हेलीकाप्टर की मांग से अवगत कराया है।

Share.

About Author

Leave A Reply