About us

प्रज्ञा साध्वी नहीं हैं, साधू-संत जैसा उनका कोई आचरण नहीं हैं – शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती

0

शहीद हेमंत करकरे पर भोपाल से भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा ठाकुर दिए बयान पर राजनीति गर्म है। शनिवार को शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि प्रज्ञा साध्वी नहीं हैं। साधू-संत जैसा उनका कोई आचरण नहीं हैं। उधर जबलपुर में प्रदेश के वित्तमंत्री तरुण भनोट गोरखपुर थाने में प्रज्ञा के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कराने पहुंचे। शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि प्रज्ञा ठाकुर साध्वी नहीं हैं। अगर वे साध्वी होती तो अपने नाम के पीछे ठाकुर क्यों लिखती। उन्होंने कहा साधू-साध्वी होने के मतलब है ऐसे व्यक्ति की सामाजित मृत्यु हो जाना। साधू-संत को समाज से कोई मतलब नहीं होता वे पारिवारिक जीवन नहीं जीते, लेकिन प्रज्ञा के साथ ये सब चीजें लगी हुई हैं। इसलिए वे साध्वी नहीं हैं। प्रज्ञा को अपनी बात कहते समय भाषा पर संयम रखना चाहिए। मामला दर्ज कराने पहुंचे वित्तमंत्री: शनिवार को जबलपुर में वित्तमंत्री तरुण भनोट अपने समर्थकों के साथ यहां को गोरखपुर थाने में प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज कराने पहुंचे। उन्होंने टीआई प्रज्ञा के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की। वित्तमंत्री ने कहा कि अगर मामला दर्ज नहीं हुआ तो वे धरने पर बैठ जाएंगे।

Share.

About Author

Leave A Reply