सैफ अली खान की पुश्तैनी कोठी और जमीन के योग गुरु बाबा रामदेव मुरीद हो गए

0
 उनके हावभाव से ऐसा लगता है कि यह जगह उन्हें पतंजलि उद्योग लगाने के लिए खासी पसंद आई है। गौरतलब है कि सैफ के पिता नवाब पटौदी भोपाल से करीब 50 किलोमीटर दूर रायसेन जिले में चिकलौद नामक जगह पर एक कोठी और 1500 एकड़ जमीन है। इसमें से लगभग 900 एकड़ जमीन सीलिंग एक्ट के तहत शासन के आधिपत्य में आ गई थी। बाबा रामदेव शनिवार को इसी जमीन को देखने आए थे।
शनिवार को इंदौर सम्मिट में भाग लेने के बाद बाबा रामदेव भोपाल पहुंचे और यहां से चिकलौद गए। यहां उन्होंने वहां जमीन देखी। यहां वे प्रॉपर्टी की देखरेख कर रहे आजम खान से 10 मिनट के लिए मिले। दो साल पहले तक अभिनेता सैफ अली खान इस संपत्ति को देखने आते रहे हैं। पटौदी की कोठी फिल्म जगत में बेहद मशहूर रही है।
पहले जमीन फिल्म सिटी को देने के लिए किए जा रहे थे प्रयास
योग गुरु बाबा रामदेव शनिवार को शाम साढ़े पांच बजे चिकलोद के पास स्थित सरकारी जमीन देखने पहुंचे। यहां पर औद्योगिक इकाई लगाने के लिए बाबा रामदेव को प्रदेश सरकार द्वारा जमीन उपलब्ध कराई जा रही है। यहां पर करीब 1100 एकड़ जमीन है। इससे पहले फिल्म सिटी के लिए देने के प्रयास हुए थे, लेकिन अब सरकार यहां पर निवेशकों को बढ़ावा देने की योजना बना रही है। इसी उद्देश्य से बाबा रामदेव यहां पर उक्त जमीन को देखने के लिए आए थे।
किसान का बेटा हूं, किसानों को फायदा पहुंचाना चाहता हूं…
-भास्कर से चर्चा करते हुए योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा कि आने वाले समय में मध्यप्रदेश में हम जिस कार्य को करने जा रहे हैं, उससे यहां के दस हजार किसानों को पहले चरण में सीधा लाभ मिलेगा।
-बाबा रामदेव का कहना था कि मैं यहां कोई उद्योग लगाने नहीं आया हूं, किसान का बेटा हूं, पतंजलि के माध्यम से किसानों को फायदा पहुंचाने के संकल्प के साथ यहां बड़ी एक्टिविटी के साथ आया हूं।
-यहां उन्होंने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने प्रदेश के हर क्षेत्र में समग्र विकास के साथ हर क्षेत्र में उन्नति की है।
-सीएम तारीफ के काबिल हैं, उनसे जब रायसेन जिले में उद्योग लगाने के बारे में पूछा तो उन्होंने हंसकर टालते हुए कहा कि इस बारे में बाद में बताएंगे।
-बाबा रामदेव इंदौर में आयोजित ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट के बाद भोपाल होते हुए कार से चिकलोद में कुछ बड़े प्रोजेक्ट लगाने के उद्देश्य से पहुंचे थे।
-चिकलोद कोठी पहुंचने के बाद उन्होंने कोठी के मालिक गुफराने आजम के बेटे आजम खान से भी चर्चा की।
-कोठी के पास बने तालाब के करीब 1100 एकड़ जमीन देखी। इसके साथ ही उसकी पूरी जानकारी एसडीएम राजेश श्रीवास्तव से ली।
Share.

About Author

Leave A Reply